सर्दी के मौसम में कोरोना का रामबाण इलाज है यह घरेलू उपाय!

पिछले कुछ दिनों में सर्दी का जोर देखने को मिल रहा है और इसी के साथ कोरोना का प्रभाव भी तेजी से बढ़ने लग गया है। कोरोना के तेजी से बढ़ते संक्रमण को कम करने के लिए कई राज्यों में कफ्यू लगाने की घोषणा कर दी है। अगर आप अपने आप को कोरोना से बचाने चाहते है तो आपको सर्दी के मौसम में कुछ ऐसी सावधानियों रखनी होगी जिससे आप के साथ आपका पूरा परिवार सुरक्षित रह सकेगा।

सर्दी के मौसम में आप को दिन में ज्यादा से ज्यादा गर्म पानी का इस्तेमाल करना होगा जिससे आप का गला साफ होने के साथ आपके गले में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होगी।

 

आपको घर पर बना खाना ही ज्यादा इस्तेमाल करना होगा बाहर खाना खाने से अपने आप को बचाना होगा।

घर से बाहर निकलते समय मास्का का इस्तेमाल करें और भीड़—भाड़ वाले स्थानों पर जाने से अपने आप को रोकना होगा

सुबह के समय चाय में अदरक और काली मिर्च का इस्तेमाल भी करना होगा रात के समय में गर्म दूध का इस्तेमाल करना होगा।

सर्दी के मौसम में शरीर को गर्म रखने के लिए मुंगफली और गुड का सेवन भी आपके लिए फायदेमंद होगा।

 

उत्तर भारत शीतलहर की चपेट में, 48 घंटों में 38 की मौत

नई दिल्ली। तीव्र शीतलहर से सम्पूर्ण उत्तर भारत प्रभावित है। इनमें उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में सामान्य जीवन प्रभावित हुआ है। उत्तर प्रदेश में बीते 48 घंटों में 38 लोगों के मौत की सूचना है। शीर्ष मौसम वैज्ञानिकों को आशंका है कि जलवायु परिवर्तन के कारण मौसम की बेरुखी सामने आई है।

भूमध्य सागर में उत्पन्न होने वाले असमान्य और शक्तिशाली ‘पश्चिमी विक्षोभ’ ने हिंदी पट्टी सहित समूचे उत्तर भारत को बीते पखवाड़े से ठिठुरने को मजबूर किया है। यह स्थिति चार से पांच दशकों में एक बार पैदा होती है, जो लोगों को नए साल की पूर्व संध्या पर भी कंपकंपाएगी।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. राजेंद्र जेनामणि ने कहा, ‘यह लंबी अवधि है, जिसकी प्रकृति अनोखी है और यह पूरे उत्तरपश्चिम भारत पर असर डालेगी।’ शीर्ष वैज्ञानिकों को आशंका है कि जलवायु परिवर्तन के कारण मौसम की बेरुखी सामने आई है और अप्रत्याशित मौसम की यह स्थिति लोगों को परेशान करती रहेगी।

गंगा के मैदानी क्षेत्रों में घना कोहरा और हिंद महासागर की असामान्य वार्मिंग पश्चिमी विक्षोभ के लिए जिम्मेदार हैआने वाले सालों में उत्तर भारत मौसम के लोगों को मौसम की बेरुखी झेलनी पड़ सकती है। मौसम वैज्ञानिक आम तौर पर ज्यादा ठंड की अवधि 5 या 6 दिनों होती है। लेकिन इस साल 13 दिसंबर से तापमान में गिरावट जारी है

उष्णकटिबंधीय तूफान से भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तरपश्चिम भाग में अचानक से ठंड के मौसम में बरसात हुई, जिससे देश के कुछ शहरों में दिन का तापमान 12 डिग्री से नीचे हो गया। हिमालयी क्षेत्र व गंगा के मैदानी क्षेत्र जिसमें पूरा उत्तर भारत शामिल है, मौसम को लेकर ज्यादा संवेदनशील हो सकते हैं और यहां के लोगों को मौसम की बेरुखी झेलनी पड़ सकती है।

गंगा के मैदानी इलाकों में स्मॉग (धुंध) का असर मौसम पर पड़ रहा है। उनके शोध से संकेत मिलता है कि पिछले कुछ वर्षों में तापमान में बदलाव का एक अप्रत्याशित पैटर्न चल रहा है। यह पैटर्न जारी रहेगा और निकट भविष्य में इसका मौसम पर ज्यादा गंभीर असर पड़ेगा। डॉ. सिंह ने कहा, ‘ध्यान देने की बात है कि अगर ज्यादा प्रदूषण होगा तो ज्यादा धुंध होगा।

दिल्ली में दिसंबर की सर्दी 1901 के बाद दूसरी बार सबसे सर्द
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में दिसंबर की सर्दी का यह आलम है कि यह 1901 के बाद दूसरी बार ऐसा हो सकता है जब साल का आखिरी महीना इतना सर्द रहा हो।

उत्‍तर भारत लगातार शीत लहर की चपेट में, दिल्‍ली में आज न्यूनतम तापमान 5.2 डिग्री

दिल्ली। जम्‍मू-कश्‍मीर में ताजा बर्फबारी और बारिश के बाद कश्‍मीर घाटी में इस सप्‍ताह भी शीत लहर जारी है। समूची घाटी में न्‍यूनतम तापमान जमाव बिंदु से कई डिग्री नीचे बना हुआ है। समूचा उत्तर भारत शीत लहर की चपेट में है।

हिमाचल प्रदेश में मौसम विभाग ने अगले दो दिन में भारी वर्षा और बर्फबारी का अनुमान व्यक्त किया है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में आज न्यूनतम तापमान 6 दशमलव 4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

बता दें कि श्रीनगर में कल रात तापमान शून्‍य से दो दशमलव छह डिग्री नीचे दर्ज किया गया है। मौसम विभाग ने अगले बृहस्‍पतिवार तक मौसम शुष्‍क रहने और हल्‍की वर्षा या बर्फबारी का अनुमान व्‍यक्‍त किया है। लद्दाख क्षेत्र में अगले 24 घंटे में कुछेक स्‍थानों पर हल्‍की बर्फबारी की संभावना है।

राष्ट्रीय राजधानी में मौसम का सबसे ठंडा दिन रिकॉर्ड किया गया। यहां न्यूनतम तापमान 5.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो कि औसत से तीन डिग्री कम है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि अधिकतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है जो सामान्य से सात डिग्री कम है।