अब विद्यार्थियों की आधे घंटे की होगी ऑनलाइन पढ़ाई –

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने जारी के गाइडलाइन 
नई दिल्ली | कोविड-19  के कारण लगे लॉक डाउन के कारण स्कूल / कॉलेज बंद हैं जिसके चलते विद्यार्थियों ऑनलाइन क्लास ले रहे हैं जिसके कुछ नकारात्मक प्रभाव बच्चो पर पड़ रहें हैं जिसका लेकर अभिभावक चिंतित थे और केन्द्रीय मंत्री को भी लिखित में शिकायत की थी जिसके बाद मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने गाइडलाइन जारी की हैं जिसके अंतर्गत बच्चो की अब 30 – 45 मिनिट से ज्यदा क्लास नहीं होगी |
ऑनलाइन शिक्षा को लेकर गाइडलाइन जारी 
मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन में ऑनलाइन एजुकेशन को लेकर विद्यार्थियों को 8 सुझाव दिए गए हैं जिसमें
 प्लानिंग,  रिव्यू ,  अरेंज,  गाइडेंस , बातचीत, कार्य  निगरानी व सराहना शामिल है  | इसमें टीचर व् अभिभावकों के बीच सामंजस्य स्थापित करने के लियें भी कहा गया हैं |
गाइड लाइंस में विशेष फोकस 
वर्तमान  एक दिन सेशन और कुल सेशन टाइम की समय सीमा निर्धारित कर दी गई है। गाइडलाइन में 9वी से 12वीं कक्षा के लिए रोजाना अधिकतम चार कलासेज के लिए सिफारिश की गई है जिनकी स्क्रीन टाइमिंग  आधे घंटे से 45 मिनट तक की जा सकती है। मंत्रालय की ओर से यह गाइडलाइन इसलिए जारी की गई है क्योंकि कोविड 19 के कारण बंद होने के बाद स्कूल बिल्कुल नियमित कक्षाओं जितनी लंबी क्लासेज चला रहे थे जिसकी वजह से बच्चों की ऑनलाइन क्लासेज की टाइमिंग काफी बढ़ गई थी और इसका असर उनके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ रहा था
मंत्रालय की ओर से जारी की गई गाइडलाइस में कहा गया कि प्री प्राइ्मरी कक्षाओं के लिए रोजाना अधिकतम दो सेशन किए जा सकते हैं जिसका स्क्रीन टाइम आधे घंटे से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इसी तरह से पहली से आठवीं कक्षा तक के लिए रोजाना दो सेशन  किए जा सकते है  जिनमें प्रत्येक का स्क्रीन टाइमिंग अधिकतर 45 मिनट का होगा वही 9वीं से 12वीं कक्षा के लिए रोजाना अधिकतम 4 क्लासेज के लिए सिफारिश की गई है जिनकी स्क्रीन आधे घंटे से 45 मिनट तक की जा सकती है
 साइबर सुरक्षा पर विशेष ध्यान –
 मंत्रालय की ओर से जारी किए गए निर्देशों में ऑनलाइन टीचिंग के दौरान शारीरिक मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े पक्षों पर ध्यान देने पर भी जोर दिया गया है जिसमें साइबर सुरक्षा और इसे बनाए रखने के लिए उठाए जाने वाले बिंदुओं पर भी जोर दिया गया है गौरतलब है कि कोविड-19 के कारण देश भर में स्कूलों में भी बच्चों को स्कूल नहीं बुलाया जा रहा है लेकिन क्लासेज ऑनलाइन चल रही है
 अभिभावकों को  भी दिए गए निर्देश –
 गाइड लाइन केवल स्कूल और टीचर्स के लिए ही नहीं है इसमें पेरेंट्स को भी शामिल किया गया है गाइडलाइन के मुताबिक पेरेंट्स को   नियमित रूप से स्कूल टीचर से संपर्क में रहना होगा जिससे उन्हें बच्चे के प्रोग्रेस का पता चल सके इस बात का ध्यान रखना भी आवश्यक होगा कि कहीं बच्चे डिप्रेशन या एंजाइटी के लक्षण तो नजर नहीं आ रहे बच्चों को कोविड-19 के दौरान अपनाए जाने वाले सुरक्षा उपायों हाइजीन हेल्थी लाइफ स्टाइल के बारे में जानकारी देनी होगी साथ ही पेरेंट्स को कहा गया है कि वह अपने बच्चों के फिटनेस फिट करने के लिए उन्हें योग्य कोई अन्य फिजिकल एक्टिविटी करवाए