बुजुर्गो से लेकर विद्यार्थियों मजदूरों और बेसहारा लोगों की मददगार बनी संस्था इनके जज्बे को सलाम एक कॉल पर पहुंचा रहे हैं मदद-

corona – veshvivik mahamari 

जयपुर  | राजस्थान कोरोना वायरस के संक्रमण काल में राजधानी की सामाजिक संस्था अक्षय रिसर्च &वेलफेयर फाउंडेशन और युवाओं की टीम बुजुर्गों से लेकर विद्यार्थियों, मजदूरों व बेसहारा लोगों की मदद करने को आगे आई हैं यह संस्थाएं भोजन के पैकेट जरुरी दवाई उपलब्ध करा रही हैं एक कॉल पर भोजन समेत अन्य जरूरत का सामान घरों में पहुंचाया जा रहा है। उनका भी ख्याल रखा जा रहा, जो अपने घरों से दूर होकर यहां मजदूरी करने या पढ़ने आए हो। 21 दिन के लॉकडाउन के पहले दिन बुधवार को शहर के सैकड़ों लोगों तक मदद पहुंचाई गई |

संस्था से जुड़े सभी वालेंटियर्स अब तक दो हजार से अधिक जरूरतमंदों को पुरी और सब्जी व जरुरी दवाई वितरित कर चुके हैं।
संस्था के अध्यक्ष बी एल बैरवा ने बताया कि  अक्षय रिसर्च एंड वेलफेयर फाउंडेशन परिवार ने आपसी सहमति से ये निर्णय लिया है कि जब तक जयपुर में लॉक डाउन रहेगा किसी भी आमजन बेसहारा लोगों को परेशान व भूखा नहीं रहने दिया जाएगा इसी लिए रोजाना खाने के पैकेट तैयार करवाकर खाना व जरुरी दवाई वितरण का कार्य किया जाएगा वे और संस्था की पुरी टीम पांच दिन से सेवा कार्य में जुटे हैं और जरूरतमंद लोगों के पास राहत सामग्री और दवाइयां पहुंचाई जा रही है।

हेल्पलाइन नंबर- अगर आप भी हमारी इस मुहीम से जुड कर सेवा करना चाहते है तो

सम्पर्क करे –

बी एल बैरवा : 9829475729 , डॉ. शक्ति भानु : 9001705008 लोकेश गुप्ता : 9269292552 रमेश शर्मा (टीबा) : 9829141475

रवि चांवला : 6375385653 ,विपिन जोशी : 9079663370 एड. एन के तम्बोलिया : 9799393538 , घनश्याम शर्मा (टीबा). : 8890201507
अशोक बैरवा : 9664316939 ,सवाई सिंह. : 9414131313 ,राजेश मीणा : 9588065735

विद्यार्थियों की प्रतिभा को लेकर कटारिया ने कही ये बड़ी बात!

जयपुर। गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि देश एवं प्रदेश की उन्नति के लिए बेहतरीन शैक्षिक स्तर की जरूरत है, उन्होंने शिक्षक वर्ग का आह्वान किया है कि वे संकल्पबद्ध होकर विद्यार्थी प्रतिभा को तराशने का कार्य करें। गुलाबचंद कटारिया बुधवार को उदयपुर के रेजीडेंसी बालिका सीनियर सैकण्डरी विद्यालय में ‘सुपर क्लासेज’ संचालन में सहयोग देने वाले शिक्षकों एवं अब तक कोई छात्रवृत्ति न लेने वाली विद्यार्थी प्रतिभाओं के सम्मान समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि सरकार के कारगर प्रयासों से राजस्थान शैक्षिक दृष्टि से पिछड़े राज्यों की श्रेणी से ऊपर उठा है। बालिका प्रोत्साहन एवं विद्यार्थी कल्याण की योजनाओं से सरकारी विद्यालयों में शैक्षिक स्तर से बड़ा परिवर्तन आया है। उन्होंने विद्यार्थी वर्ग का आह्वान किया कि वे अपने बौद्धिक स्तर को पहचानें और श्रेष्ठ बनकर समाज व राष्ट्रसेवा में योगदान दें। उन्होंने सुंदर सिंह भण्डारी चेरिटेबल ट्रस्ट की ओर से राजकीय विद्यालयों में संचालित सुपर-20 क्लासेज में नि:स्वार्थ अध्यापन कराने वाले शिक्षकों के सेवा कार्यों की मुक्तकंठ से सराहना की।

कटारिया ने रेजीडेंसी विद्यालय के भौतिक एवं विद्यार्थी कल्याण के लिए आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए आश्वस्त करते हुए तखमीना बनाने के निर्देश शाला प्रशासन को दिए।समारोह में शिक्षा उपनिदेशक भरत मेहता, समाजसेवी लोकेन्द्र सिंह राठौड़, रेजीडेंसी की प्रधानाचार्य श्रीमती उर्मिला त्रिवेदी ने अपने उद्बोधन में शैक्षिक उन्नयन, शाला विकास एवं सेवा कार्यों आदि पर विस्तार से चर्चा की।

सीबीएसई के बोर्ड पेपर लीक मामला : छात्रों, कांग्रेस ने कई जगहों पर किए प्रदर्शन

नई दिल्ली। छात्रों और कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने सीबीएसई के बोर्ड के पेपर्स लीक होने के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी के कई हिस्सों में शुक्रवार को प्रदर्शन किए। उन्होंने बोर्ड पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया और दोषियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई की मांग की। कुछ छात्र पार्लियामेंट स्ट्रीट पर एकत्रित हुए और कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई के सदस्यों ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के आवास की ओर मार्च करना शुरू कर दिया, लेकिन उन्हें रोक दिया गया। छात्र समूहों और दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी ( डीपीसीसी) ने पूर्वी दिल्ली के प्रीत विहार में सीबीएसई मुख्यालय के बाहर भी प्रदर्शन किया और स्वतंत्र जांच समेत कई मांगें उठाई। एनएसयूआई नेता नीरज मिश्रा ने कहा कि इन पेपर्स लीक से मोदी सरकार की आंखों के सामने परीक्षा माफिया द्वारा शीर्ष अकादमिक संस्थानों पर कब्जे का खुलासा हो गया है।

 

उन्होंने कहा कि वे जावडेकर और सीबीएसई अध्यक्ष अनीता करवाल के इस्तीफे की मांग करेंगे।एनएसयूआई की मांगों की सूची में 10 वीं कक्षा के गणित और 12 वीं कक्षा के अर्थशास्त्र के पेपर जल्द से जल्द कराए जाने की घोषणा शामिल है। उन्होंने यह भी मांग की कि छात्रों को फिर से परीक्षा देने के लिए बाध्य ना किया जाए। बहरहाल, एनएसयूआई के मार्च को जावडेकर के कुशक रोड आवास से कुछ दूर स्थित उद्योग भवन मेट्रो स्टेशन पर रोक दिया गया, लेकिन दिल्ली पुलिस एनएसयूआई अध्यक्ष फिरोज खान और डूसू उपाध्यक्ष कुनाल सहरावत को मंत्री से मिलाने के लिए ले गई।

सहरावत ने बताया कि जावड़ेकर ने उन्हें आश्वस्त किया है कि उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर रात तक फैसला लिया जाएगा। कांग्रेस की दिल्ली इकाई डीपीसीसी ने सीबीएसई मुख्यालय के बाहर नारेबाजी की और इस मामले की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की।इससे पहले, सैकड़ों छात्रों ने भी सीबीएसई मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और उनकी समस्याओं को जल्दी सुलझाने की मांग की। सीबीएसई ने पर्चे लीक होने की खबरों के बाद इस सप्ताह दोनों पेपर फिर से कराने की घोषणा की।