पहली पीढ़ी गोली खाएगी……दूसरी पीढ़ी जेल जाएगी ………तीसरी पीढ़ी राज करेगी – बाबू जगदेव प्रसाद के जीवन दर्शन पर – संवैधानिक अधिकार संगठन का वेबीनार संपन्न 

संवैधानिक अधिकार संगठन राजस्थान की महामानव की कहानियां वेबीनार संपन्न –
संगठन के प्रदेशाध्यक्ष धर्मेंद्र तामडिया ने बताया कि वर्तमान कोरोना महामारी से पूरा देश जूझ रहा है इस समय सरकार की गाइडलाइन का पालन करते हुए आम जनता को जागरूक करना और स्व अनुशासन की पालना कराने की जिम्मेदारी हम सब की है अभी घर पर बैठकर समय का सदुपयोग करने के लिए महात्मा ज्योतिबा फुले, सावित्रीबाई फुले अंबेडकर, साहूजी महाराज तमाम महामानव जिन्होंने गैर बराबरी की व्यवस्था के खिलाफ लड़ाई लड़ी उनके जीवन दर्शन को  समझने जरूरत है |
आज का वेबीनार बाबू जगदेव प्रसाद के जीवन दर्शन पर किया गया जिसमें मुख्य कहानीकार मोनिका शर्मा और गोपाल मीणा जी रहे मोनिका ने कहा कि बिहार में जन्मे बाबू जगदेव प्रसाद जी का जीवन बहुत संघर्ष भर रहा था वो  समाजवाद के लिए लड़ाई लड रहे थे | इस दौरान उनको जातीय उत्पीड़न का भी शिकार होना पड़ा था जब वह पढ़ लिखकर जिला कमिश्नर की नौकरी के लिए इंटरव्यू देने गए तो उन्हें पूछा गया कि आप किस जाति से हो जब उनकी जाति बताएं तो सामने वाले ने कहा कि आपका काम तो खेती करना है आप तो खेती करो और पशु चराओ यह बात बाबू जगदेव प्रसाद को बहुत बुरी तरह से चुभ गई और इस जातीय मानसिकता को बदलने के लिए उन्होंने इस व्यवस्था खिलाफ संघर्ष करना शुरू कर दिया था गरीब दलित वंचितों के लिए संघर्ष करते समय पुलिस प्रशासन की गोली से उनकी मौत हो गई थी उन्होंने कहा था की पहली पीढ़ी गोली खाएगी ,दूसरी पीढ़ी जेल जाएगी ,तीसरी पीढ़ी राज करेगी |
 गोपाल मीणा सरपंच ग्राम पंचायत हीरापुरा तहसील फागी ने कहा कि बाबू जगदेव प्रसाद के जीवन संघर्ष से हमें सीख लेनी चाहिए और उनकी नेतृत्व क्षमता को देखते हुए स्वयं की नेतृत्व क्षमता को भी विकसित करने की जरूरत है |
पवन देव के द्वारा संवैधानिक अधिकार संगठन की टीम का परिचय करवाया गया तथा सीमा कुमारी ने कहा कि इन कहानियों के माध्यम से महामानव के जीवन दर्शन को सुनने के बाद धरातल पर काम करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता होंसला बढ़ता है और उनसे प्रेरणा लेकर अच्छा काम करते है ‌|
कार्यक्रम का मंच संचालन राम तरुण ने किया इस दौरान पूरे राजस्थान के विभिन्न जिलों से सामाजिक कार्यकर्ता जुड़े जयपुर से शाहिस्ता खान, शाबिर कुरेशी ,चंदा लाल बेरवा, चाकसू से जितेंद्र बैरवा,कमल सिंह,रतन लाल बेरवा,राष्ट्रीय सेवा योजना से हरीश बेरवा,राष्ट्रीय वंचित लोक मंच के प्रहलाद धामनिया,रेनवाल फागी से लक्ष्मण, दौसा से भाग चन्द निकटपुरी ,हेमन्त ,टोंक से रामकेश प्रजापत,कविता शर्मा, द्वारिका शर्मा, अलवर से संजना, कवि सुरेंद्र आजाद ,मनोहरपुर से अर्जुन लाल मोहनपुरिया पूर्व सरपंच,जोधपुर से ललिता पवार, जोगाराम कडेला अरूणा लीलावत,उदयपुर हरलाल बेरवा, अजमेर से नेहा सेन, भीलवाड़ा से अंशुल तंबोली, आदि उपस्थित रहे |