रेड वॉर्निंग: शीतलहर जारी रहने के मद्देनज़र, मौसम विभाग ने खतरनाक स्‍तर की चेतावनी जारी

जयपुर। मौसम विभाग ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली, उत्तरप्रदेश, बिहार, हरियाणा, राजस्थान और पंजाब में आज और कल के लिए रेड वॉर्निंग जारी की है। यह सबसे गंभीर स्‍तर की चेतावनी है, जिसमें जान-माल को सर्वाधिक नुकसान होने की आशंका रहती है और लोगों को आमतौर पर यात्रा करने से बचने की सलाह दी जाती है।

उत्तर भारत के कई इलाकों में शीतलहर की वजह से कड़ाके की ठंड पड़ रही है और अनेक स्थानों पर तापमान मौसम के न्यूनतम औसत स्तर से नीचे चला गया है। दिल्ली में आज इस मौसम का सबसे ठंडा दिन रहा। आज सुबह घने कोहरे के कारण दृश्यता बहुत कम हो गई जिससे रेल और हवाई यातायात पर असर पड़ा।

श्रीनगर में न्यूनतम तापमान के शू्न्य से पांच दशमलव छह तक नीचे गिरने से झीले, झरने और पानी के नल जम गए हैं और पीने के पानी की किल्लत पैदा हो गई है। बिजली आपूर्ति पर भी सख्त ठण्ड का भी विपरित असर पड़ रहा है।

श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग में यातायात में आए दिन की बाधाएं भी कश्मीर घाटी में लोगों की कठिनाइयों को ठण्ड के इस मौसम में बढ़ा रही हैं। मौसम विभाग ने शीतलहर के और तेज होने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है।

जम्मू-कश्मीर में जम्मू और श्रीनगर को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 44 पर आज वाहनों को एक तरफा चलने की अनुमति दी गई। खराब मौसम की वजह से इस राजमार्ग पर एक हजार से अधिक वाहन अलग-अलग स्थान पर रुके हुए हैं।

उत्‍तर प्रदेश में कड़ाके की ठंड के कारण जन-जीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त है। सरकार ने गरीबों और बेसहारा लोगों को ठंड से बचाने के लिए विशेष इंतेजाम किये हैं। हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में आज तापमान शून्य से नीचे चला गया।

मुजफ्फर नगर एक दशमलव सात डिग्री सेन्‍टीग्रेट तापमान के साथ देश का सबसे ठंडा स्‍थान रहा। कानपुर और झांसी में दो डिग्री और दो दशमलव तीन डिग्री तापमान दर्ज किया गया। राजधानी लखनऊ में न्‍यूनतम तापमान तीन दशमलव पांच डिग्री तथा अधिकतम तापमान 14 दशमलव चार डिग्री दर्ज किया गया।

ओड़िशा के ज्यादातर इलाके शीतलहर की चपेट में हैं और सोनपुर में तापमान चार डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो राज्यभर में इस मौसम का सबसे कम तापमान है। मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल के अधिकांश जिलों में अगले 24 घंटों में शीतलहर की चेतावनी दी है।

कोहरे के कारण सड़क, रेल और हवाई यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ है। कम दृश्‍यता के चलते प्रदेश में दर्जनों ट्रेने छह घंटे की देरी से चल रही हैं। जिला प्रशासन को जनपदों में सार्वजनिक स्‍थानों पर अलाब जलाने और बेसाहारा लोगों को कम्‍बल वितरित करने के निर्देश दिये गए हैं।

%d bloggers like this: