प्रधानमंत्री मोदी राजस्थान में संभाल सकते है चुनावी कमान – आखिर क्यों

प्रधानमंत्री मोदी अब राजस्थान विधानसभा के लिए चुनावी कमान संभाल सकते है सूत्रों के अनुसार गुजरात चुनाव में जिस तरह से अंतिम समय में प्रधानमंत्री मोदी जी ने कमान सम्भाली थी जिसके कारण गुजरात्त में बीजेपी वापस सत्ता पर काबिज हो पाई है उसी तरह से मोदी जी राजस्थान में चुनावी सभा कर कार्यकर्ताओं को विश्वास में ले सकते है |

ज्ञात हो –  मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और शीर्ष आलाकमान में कुछ मतभेद है लेकिन राजस्थान में मुख्यमंत्री राजे के नेतृत्व में राजस्थान कि जनता ने बीजेपी को पूर्ण बहुमत दे रखा है जिसके कारण निगम सरकार से लेकर विधायक और सांसद सभी भाजपा के है और श्रीमती राजे इसका पूरा फायदा उठा रही है एक तरह से कहा जाये तो सी .एम् राजे के आगे आला कमान बेबस है अब इसे सी एम् राजे का करिश्माई नेतृत्व कहे जा मोदी मेजिक लेकिन राजस्थान में भाजपा पूर्ण बहुमत से है | 

जिस तरह से गुजरात में पाटीदार आन्दोलन में मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल को इस्तीफा देना पड़ा था ,उसी प्रकार मुख्यमंत्री राजे पर ललित कांड को लेकर घमासान पार्टी के अन्दर और बाहर चला था किन्तु भाजपा आलाकमान मुख्यमंत्री राजे का इस्तीफा नही ले पाई थी कुल मिलाकर कहा जाये तो सी .एम् राजे के बढ़ते  कद से दिल्ली में बेठे शीर्ष नेता भी बेबस है

राजस्थान की जनता और बेरोजगार शिक्षक मित्र और आँगन बाड़ी कार्यकर्त्ता और ब्लैक ओडीनेस बील पर वसुंधरा सरकार की ख़ासी  किरकिरी हुई थी जिसमे मिडिया पर पाबंधी  और  भ्रष्टाचारो  को बचाने को लेकर आरोप लगे थे खेर यह बिल अभी पारित नहीं हुवा है

परिपक्व होते राहुल गाँधी –  गुजरात चुनाव में जिस तरह से राहुल गाँधी की छवि उभर के सामने आई है उससे यह अनुमान लगाना सही होगा की आगामी लोकसभा चुनावो में राहुल गाँधी प्रधानमंत्री मोदी को कड़ी टक्कर देगे |

हालांकि राहुल गाँधी ने  कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष के रूप नई जिमेदारियो को बखूभी संभाल रहे है चाहे वह मणिशंकर  अय्यर को मोदी जी को अपशब्द कहने पर पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया हो ,या आज हिमाचल में समीक्षा बैठक में महिला विधायकआशा कुमारी द्वारा महिला सिपाही से  मारपीट के बाद विधायक को माफ़ी मागने को कहना – ऐसे कुछ घटनाये सामने आई है जिसके कारण राहुल गाँधी की छवि निखर रही है |

गुजरात में कांग्रेस के प्रदर्शन को दबी जुबा से भाजपा ने स्वीकार किया है लेकिन मोदी जी अपने लक्ष्य कांग्रेस मुक्त भारत का जो सपना देख रहे है उसको पूरा करने के लिए मोदी जी ने एक – एक चुनावी रैली को रोचक मुद्दों से भुनाया है चाहे वह वालिद के नाम को लेकर हो या जाती को लेकर या गुजरात का बेटा छेओ : कहकर

विकास और गुजरात मॉडल को दर  किनार कर दिया और मात्र निजी  भावनात्मक भाषणों से गुजरात में जीत दर्ज की है इसको मानवीय रूप से जीत का दर्जा तो नहीं दे सकते है और इन सभी घटना क्रम से सम्पूर्ण भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी जी ख़ास परिचित है |

अब उन्हें राजस्थान में हो रहे उप चुनावो में भी अपना दम – ख़म दिखने की नोबत आ गई है इसलिए  मात्र तीन उपचुनाव के लिए प्रधानमंत्री मोदी राजस्थान में चुनावी रैली को संबोधन करने आ रहे है जिसका कारण बाड़मेर में रिफाइनरी का उद्घाटन बताया जा रहा है अब पता नहीं रिफाइनरी का उद्घाटन कितनी बार किया जाएगा,  लेकिन मोदी जी राजस्थान केवल उपचुनाव को लेकर आ रहे |

आज आखिर यह नोबत क्यों आ रही है की प्रधानमंत्री मोदी राजस्थान में मात्र उप चुनाव को लेकर इतने सजग है -समझदार को इशारा काफी होता है |

story – politico24x7.com/ news team

जो विकास 50 साल में नहीं हुआ, हमने 4 साल में कर दिखाया: मुख्यमंत्री राजे

राजस्थान वसुंधरा सरकार की चौथी वर्षगांठ के अवसर कुछ ख़ास  –

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि आज़ादी के बाद जो विकास 50 सालों में भी नहीं हुआ, वे काम हमने { वसुंधरा सरकार } में मात्र चार साल में कर दिखाया  हैं। हमने सकारात्मक सोच, सकारात्मक काम और सकारात्मक ऊर्जा के साथ देश और प्रदेश के विकास का जो संकल्प लिया है उसे हर हाल में पूरा करेंगे।amzn_assoc_ad_type =”responsive_search_widget”; amzn_assoc_tracking_id =”politico24x7-21″; amzn_assoc_marketplace =”amazon”; amzn_assoc_region =”IN”; amzn_assoc_placement =””; amzn_assoc_search_type = “search_widget”;amzn_assoc_width =”auto”; amzn_assoc_height =”auto”; amzn_assoc_default_search_category =”Books”; amzn_assoc_default_search_key =”rajasthan “;amzn_assoc_theme =”light”; amzn_assoc_bg_color =”FFFFFF”; //z-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&Operation=GetScript&ID=OneJS&WS=1&Marketplace=IN

मुख्यमंत्री  राजे ने  बुधवार को सरकार की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर झुंझुनूं में आयोजित समारोह को संबोधित कर रही थीं। इस अवसर पर उन्होंने झुंझुनूं ज़िले के लिए 2 हज़ार 237 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के साथ ही प्रदेश के विकास के लिए कई महत्वपूर्ण घोषणाएं कीं।

मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों की खुशहाली के लिए कई  सौगातों की बौछार करते हुए कहा कि चार साल पहले जब हमने सत्ता संभाली थी तो वादा किया था कि राजस्थान का खोया स्वाभिमान हम हर कीमत पर लौटाएंगे। आज हम विकास के कई मायनों में देश के अन्य राज्यों से आगे हैं। हमने दिन-रात मेहनत कर राजस्थान के लिए यह मुकाम बनाया है। उन्होंने कहा कि झुन्झुनूं में राष्ट्रीय खेल संस्थान, पटियाला की तर्ज पर क्रीड़ा विश्वविद्यालय के स्थान पर राज्य क्रीड़ा संस्थान की स्थापना की जायेगी। राज्य की सभी 15 खेल अकादमियों को इससे सम्बद्ध किया जाएगा।

कुंभाराम कैनाल पर पानी हम लाए-

श्रीमती राजे ने कहा कि हमने केवल 4 साल में कुंभाराम कैनाल पर पानी पहुंचाया है। हमने 172 करोड़ रूपए खर्च कर तारानगर से मलसीसर तक पाइपलाइन से पानी पहुंचाया और उसे शोधित कर झुन्झुनूं ज़िले के विभिन्न गांवों और कस्बों को दिया। अब क्षेत्र को प्रतिदिन 15 करोड़ 50 लाख लीटर पानी उपलब्ध होगा।

आज़ादी के बाद पहली बार 6,994 गांवों तक पेयजल और 1,662 तक सड़क पहुंचाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि 50 वर्षों में प्रदेश के 16 ज़िलों के 6 हज़ार 994 गांव पेयजल से वंचित रहे जिन्हें हमने पेयजल उपलब्ध कराया। इसी तरह 22 ज़िलों के 1662 गांव जो सड़क से नहीं जुड़ पाए थे, हमने उन्हें सड़कों से जोड़ा। ऐसे कई स्थान जहाँ न सरकारी और न निजी कॉलेज था वहाँ हमने सरकारी कॉलेज खोले।

हर रोज़ 25 किमी सड़क विकास- 

श्रीमती राजे ने कहा कि आज प्रदेश में प्रतिदिन 25 किलोमीटर सड़क विकास हो रहा है। प्रदेश में हर ग्राम पंचायत में आदर्श विद्यालय की हमारी योजना के तहत आज 4 हज़ार 437 आदर्श विद्यालय विकसित हो चुके हैं। साथ ही अंग्रेज़ी माध्यम के विवेकानंद मॉडल स्कूल भी शुरू हो गए हैं।

किसानों को 58 हज़ार करोड़ के ब्याज मुक्त फसली ऋण –

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की खुशहाली के लिए हमने हरसंभव प्रयास किए हैं। पिछले चार वर्ष में हमने 58 हज़ार 210 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त फसली ऋण दिया, जो देश में एक रिकॉर्ड है। इस कार्यकाल में हम 75 हज़ार करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त फसली ऋण देंगे|

नहीं किया राजनीतिक भेदभाव –

श्रीमती राजे ने कहा कि हमने विकास में कभी भी राजनीतिक भेदभाव नहीं किया। ज़िले के सभी विधानसभा क्षेत्रों में समान रूप से 4 वर्ष के दौरान 5 हज़ार 400 करोड़ के विकास कार्य करवाए | हम झुंझुनूं की 445 युद्ध वीरांगनाओं को विशेष पहचान पत्र जारी कर रहे हैं, जिससे उन्हें राजकीय कार्यों में प्राथमिकता मिल सकेगी। झुंझुनूं ज़िले के पूर्व सैनिकों के 1620 बच्चों को छात्रवृत्ति दी जा रही है। साथ ही द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लेने वाले ज़िले के 398 पूर्व सैनिकों एवं विधवाओं को सरकार 4 हज़ार रुपए प्रतिमाह आर्थिक सहायता दे रही है।

श्रीमती राजे ने समारोह में ज़िले के 13 अमर शहीदों की वीरांगनाओं और परमवीर चक्र विजेता शहीद पीरूसिंह के भाई ओमप्रकाश को तलवार भेंट कर सम्मानित किया। उन्होंने मुख्यमंत्री बेटी योजना में 9 प्रतिभाशाली बालिकाओं को सम्मानित किया तथा भामाशाह पशुधन बीमा योजना के तहत 2 पशुपालकों को 40 हज़ार का चैक भेंट किया। साथ ही प्रतिभावान छात्राओं को झुंझुनू ज़िले की 13 बालिकाओं को स्कूटी की चाबी एवं लैपटॉप देकर उत्साहवर्धन किया।

ज़िला विकास पुस्तिका का विमोचन एवं प्रदर्शनी का अवलोकन किया

समारोह में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित ज़िला विकास पुस्तिका का विमोचन किया गया। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा लगाई गई सुराज के चार साल प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। समारोह को सम्बोधित करते हुए सैनिक कल्याण सलाहकार समिति के अध्यक्ष प्रेम सिंह बाजौर ने मुख्यमंत्री का उत्साह के साथ स्वागत किया।

वीरांगनाओं को किया सम्मानित

मुख्यमंत्री ने अमर शहीदों की वीरांगना श्रीमती शारदा देवी, श्रीमती संतोष देवी, श्रीमती अलहमदो बानो, श्रीमती ज्ञानकंवर, श्रीमती सुशीला देवी, श्रीमती सुमन देवी, श्रीमती बबीता पूनियां, श्रीमती विमल कंवर,  श्रीमती रूकमा देवी, श्रीमती संजु देवी, श्रीमती सुनिता देवी, श्रीमती शारदा देवी एवं श्रीमती सुगनी देवी को सम्मानित किया।

 

राजस्थान डिजिफेस्ट कोटा-2017 का उत्साही आगाज़ –

राजस्थान में डिजिटल क्रांति का भव्य दिग्दर्शन – ‘हेकाथॉन 2.0’ में देश की आईटी प्रतिभाओं का समागम

जयपुर, 17 अगस्त। राजस्थान में डिजिटल क्रांति के बढ़ते कदमों को जन-जन तक पहुंचाने और नव प्रतिभाओं के नवाचारों से इसे अधिक समृद्ध बनाने की मंशा से दो-दिवसीय राजस्थान डिजिफेस्ट कोटा-2017 का उत्साही आगाज गुरूवार को कोटा के यूआईटी ऑडिटोरियम में हुआ। राजस्थान सरकार की इस नवोन्मेषी पहल से प्रदेश में हो रहे डिजिटल नवाचारों का भव्य प्रदर्शन हो रहा हैवहीं हेकाथॅान 2.0’ जैसी प्रतियोगिता से देश के कोने-कोने से आए मेधावी विद्यार्थियों की नव संकल्पनाओं को धरातल पर उतारने का मंच मिला है।

देश-विदेश में शिक्षा नगरी के रूप में खास पहचान बना चुके कोटा में पहली बार हो रहे आईटी प्रतिभाओं के इस महाकुंभ में देश के विभिन्न प्रान्तों से सूचना प्रौद्योगिकी, अभियांत्रिकी एवं अन्य तकनीकी विषयों के विद्यार्थी भाग ले रहे हैं और साथ ही विभिन्न विषय विशेषज्ञ तथा स्टार्ट अप से जुड़ी हस्तियां भी इस समारोह में नव प्रतिभाओं को प्रोत्साहन दे रही हैं।

ऎतिहासिक पहल

राजस्थान के सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग के तत्वावधान में आयोजित डिजिफेस्ट की शुरूआत ‘हेकाथॅान 2.0’ के साथ हुई, जिसमें लगभग 800 कोडर्स एवं विद्यार्थी अपनी प्रतिभा और नवाचार का प्रदर्शन कर रहे हैं। यह प्रतियोगिता लगातार 24 घंटे चलेगी। संभागियों ने राज्य सरकार के इस कदम को डिजिटल क्षेत्र में प्रतिभाओं को प्रोत्साहन देने की ऎतिहासिक पहल बताया है।

क्या है ‘हैकाथॉन 2.0
‘हैकाथॉन 2.0’ में देश भर के विभिन्न इंजीनियरिंग व तकनीकी संस्थानों के विद्यार्थी ऑनलाइन व ऑनस्पॉट रजिस्ट्रेशन के माध्यम से शामिल हुए हैं। ये प्रतिभागी भामाशाह योजना, ई-मित्र, इंटरनेट ऑफ थिंग, ब्लॉग चेन एवं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आदि विषयों पर एप्लीकेशन के माध्यम से नवाचार व उपयोगी सुझाव इस 24 घंटे की अवधि के दौरान प्रस्तुत कर रहे हैं। हैकाथॉन में शामिल विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत एप्लीकेशन की संकल्पना, उपयोगिता, डिजाइन एवं क्रियान्वयन संभाविता के आधार पर शीर्ष टीमों को चुना जाएगा एवं विशेषज्ञों द्वारा उनका साक्षात्कार लेने के पश्चात् विजेताओं का चयन कर उन्हें पुरस्कृत किया जाएगा

महिला सहायता ट्रेकिंग

पारूल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी बडौदा से हेकाथॉन में भाग ले रही शिखा रथ ने बताया कि उनकी टीम भामाशाह पोर्टल को महिला ट्रेकिंग सिस्टम एप्लीकेशन के माध्यम से लिंक करना चाहती है। इसके माध्यम से महिलाएं यात्रा करते समय अपनी लोकेशन जीपीएस द्वारा ऑनलाइन ट्रेकर स्टेटस द्वारा पोर्टल पर दर्ज कर सकेंगी।  इसे सीएम हेल्पलाइन से भी लिंक किया जा सकता है।

डिजिटल राजस्थान –

राजस्थान डिजिफेस्ट का एक खास आकर्षण यहां लगाई गई डिजिटल प्रदर्शनी है। इस प्रदर्शनी में राजस्थान में संचालित विभिन्न योजनाओं के डिजिटल प्लेटफॉर्म, विभागीय पोर्टल, मोबाइल एप्लीकेशन इत्यादि को प्रदर्शित किया गया है। आमजन इनके संचालन, क्रियान्वयन व उपयोग की जानकारी से लाभान्वित हो रहे हैं। प्रदर्शनी में ड्राइविंग सिमुलेटर के माध्यम से वर्चुअल ड्राइविंग प्रशिक्षण, ऑगमेंटेड रियलिटी विद मोशन सेंसिंग, वर्चुअल रियलिटी टूर, ऑनलाइन एमिशन एफ्लुएंट मॉनिटरिंग सिस्टम और ड्रोन सिस्टम में संभागी खास रूचि ले रहे हैं। इसके साथ ही ज्ञान संकल्प पोर्टल, स्मार्ट कोटा, मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान आदि की जानकारी भी यहां डिजिटल रूप से प्रदर्शित की गई है।

%d bloggers like this: