राजस्थान सरकार का यू-टर्न, अमराराम समेत सभी किसान नेता रिहा

जयपुर। अपनी मांगो को लेकर गिरफ्तार किए गए किसानो पर राजस्थान सरकार ने यू-टर्न लेते किसान नेता अमराराम समेत सभी किसान नेताओं को रिहा कर दिया। आपको बता दें कि अपनी मांगो को लेकर किसानों में रोष व्याप्त था। सूत्रों के अनुसार जिसके चलते किसान विधानसभा का घेराव करने के लिए जयपुर कूच कर रहे थे।

 

इस के लिए किसान रींगस में महापड़ाब डाले हुए हैं। लेकिन उससे पहले पुलिस ने किसान नेता आमराराम समेत 160 किसान नेताओं को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद किसान नेताओं की रिहाई समेत तमाम मांगों को लेकर सैकड़ों किसानों ने उग्र विरोध शुरू कर दिया था। इसके बाद राज्य के गृममंत्री गुलाबचंद कटारिया ने विधानसभा के दौरान सभी किसान नेताओं की रिहाई की घोषणा कर दी।

जेल से छूटने के बाद अमराराम ने चक्का जाम की घोषणा तो वापस ले ली। लेकिन इसके साथ ही उन्होने सरकार को भी किसान विरोधी बताते हुए जमकर कोसा। अमराराम ने कहा कि सरकार बिल्कुल सामंतशाही तरीके से काम कर रही है।

विधानसभा सोमवार तक स्थगित, जानिए वजह!

जयपुर। राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने सदन नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी के सट्टे में तीन करोड रूपये का विडियों के मुद्दे को लेकर सदन में हुये जोरदार हंगामें और शोर-शराबे के कारण सदन की कार्यवाही सोमवार तक के लिये स्थगित कर दिया। मेघवाल ने इस मुद्दे को लेकर पहले सदन की कार्यवाही आधे घंटे, दूसरी बार शून्य काल तक स्थगित कर दी थी। शून्य काल के बाद विधाई कार्यो की कार्यवाही शुरू करते ही सदन में पुन: शोर-शराबा और हंगामा होने लगा। लगभग पांच मिनट तक चले हंगामे के बाद मेघवाल ने सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह तक के लिये स्थगित कर दी। शून्य काल के बाद सदन की कार्यवाही शुरू होते ही संसदीय कार्यमंत्री राजेन्द्र राठौड और गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने आसन से मांग की कि इस प्रकरण की जांच करायी जाये।

दोनों ने कहा कि इस विडियों की सत्यता की जांच के लिये नेता प्रतिपक्ष द्वारा चुनावी नतीजों के लिये तीन करोड रूपये लगाने के विडियों की फोरेंसिक जांच भी करायी जाये। दोनों नेताओं ने कहा कि यह विडियों 26 जनवरी 2018 का ही है जिसमें नेता प्रतिपक्ष दो लोकसभा ओर एक विधानसभा की सीट पर तीन करोड़ रूपये का सट्टा लगा रहे है। उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष को स्वयं इसकी जांच कराने के लिये पहल करनी चाहिये थी। इसी बीच डूडी बार-बार खडे होकर इस विडियों को गलत बताते रहे लेकिन सदन में हंगामा जारी रहा। दोंनों पक्षों की ओर से हो रहे हंगामें के बाद सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह तक स्थगित कर दी गयी।

%d bloggers like this: