कई राज्यों में बरपा बर्ड फ्लू का कहर: जानें राजस्थान का हाल

कोरोना वायरस के टीके की खबर से देश को थोड़ी राहत मिली ही थी कि अब कई राज्यों में बर्ड फ्लू ने चिंता बढ़ा दी है। पिछले एक सप्ताल में कई राज्यों में भारी तादाता में पक्षियों की तेजी से मौत हो रही है। राजस्थान में कई जिलों में कौवों की बड़ी संख्या में मौते होने की खबर से सरकारी और प्रशासन की चिंता बढ़ गयी है। अगर बात करें हरियाणा के पंचकुला की तो यहां 1 लाख से अधिक पोल्ट्री पक्षियों की मौत की खबरें सामने आ रही है। इस खबर के बाद प्रशासन ने व्यापक फोरेंसिक जांच शुरू कर दी है।

राजस्थान में 100 से ज्यादा पक्षियों की मौत
राजस्थान में भी कई जिलों में पक्षियों की मौत की खबरे आना शुरू हो गया है राज्य के विभिन्न जिलों में 150 से ज्यादा पक्षियों की मौत हो चुकी है। पशुपालन विभाग के आंकड़ों के अनुसार 425 से अधिक कौवों, बगुलों और अन्य पक्षियों की मौत हुई है इसके बाद पक्षियों के नमूनों को जांच के लिये भोपाल के राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान भेजा गया है।

केरल में 40,000 पक्षियों को मारना पड़ा है।
केरल के कुछ जिलों में बर्ड फ्लू फैलने की जानकारी सामने आई है और इसी बात को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने प्रभावित क्षेत्रों के एक किलोमीटर के दायरे में बत्तख, मुर्गियों और अन्य घरेलू पक्षियों को मारने का आदेश जारी किया है। अधिकारियों ने कहा कि वायरस को रोकने के लिए करीब 40,000 पक्षियों को मारना पड़ेगा।

हिमाचल में 1500 से ज्यादा प्रवासी पक्षियों की मौत
हिमाचल प्रदेश में पोंग बांध झील अभयारण्य में अब तक 1500 से ज्यादा प्रवासी पक्षी मृत मिले हैं । अभी तक यहां बर्ड फ्लू की पुष्टि की बात नहीं कही जा रही है।


अगर बर्ड फ्लू के कारण इन पक्षियों की मौत हो रही है तो यह बहुत ज्यादा चिंता का विषय है जो कोरोना काल में प्रशासन के लिए नई परेशानी खड़ी कर सकता है। राजस्थान में पहले भी सांभर जिले में प्रवासी पक्षियों की बड़ी तादाद में मौत हुई थी और इसको लेकर काफी राजनीति भी देखने को मिली थी। लोगों को इस समय ज्यादा सावधानी रखने की जरूरत है और अब कोरोना के साथ बर्ड फ्लू से भी अपना बचाव करना होगा।

बलत्कारी गुरमीत राम रहीम को मिली सजा –

रोहतक  | बाबा गुरमीत राम रहीम को 20  साल की कड़ी सजा | बहस के दोरान  राम रहीम जज के सामने हाथ जोड़े  खड़ा रहा   |  जज जगदीप सिंह  ने 10-10  मिनिट की जिरह के बाद अपना फैसला  सुना दिया | अभियोजन पक्ष ने बाबा राम रहीम को उम्र केद  की मांग की थी, वही बचाव पक्ष ने कहा की बाबा ने लोगो की भलाई के लिए काम किये है तो उन्हें सजा में कुछ नरमी बरती जानी चाहिए | यौनशोषण मामले में राम रहीम को 25 अगस्त को दोषी करार दिया गया था। अभी बाबा गुरमीत राम रहीम  कैदी नंबर 1997 था। बाबा को  अब कैदियों वाले कपड़े पहनने होंगे। उसे जेल मैनुअल के हिसाब से काम भी करना होगा।

सजा सुनाए जाने के दौरान डेरा प्रेमियों ने सिरसा के फुल्का गांव में दो गाड़ियों में आग लगाई। इसकी सूचना भी कोर्ट को दी गई।

 

हरियाणा की बीजेपी सरकार क्यों है नमस्तक –

बाबा राम रहीम के हरियाणा ,पंजाब . राजस्थान  में लाखो की संख्या में अनुयायी है जो बाबा के कहने पर ही विधानसभा और लोकसभा के चुनावो में बाबा द्वारा  बताये गई  पार्टी और प्रत्याशी को वोट करते है और बाबा के इस आशीर्वाद से पार्टी , प्रत्याशी  चुनाव जीत जाता है | यही कारण है की  बाबा राम रहीम के सभी पार्टिया के बड़े नेता चाहे – मुख्यमंत्री  हो या सांसद बाबा के समक्ष अपनी हाजरी लगाते है वोट बैंक के लिए |

इसे  हरियाणा में फेल रही धारा 144 के साथ देखा जा रहा है , मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बाबा के खिलाफ फेसला आने के  पूर्व अनुमान और जानकारी के बावजूद लाखो की संख्या में डेरा में अनुयायी  को एकत्र होने दिया  |  खट्टर सरकार ने   सब कुछ पता होने बावजूद हरियाणा को आग के हवाले कर दिया  जिसका परिणाम 100 से अधिक लोगो को अपनी जान गवानी पड़ी ,450 से अधिक लोग घायल हो गए |  यह सब कुछ बीजेपी कट्टर सरकार के नाक के नीचे होता रहा ,और सरकार तमाशबीन की तरह लीपा-पोती करती रही |

आज बाबा राम रहीम के लगभग सभी बड़े नेता ओ के साथ अच्छे सम्बन्ध है जिसके चलते  वर्तमान समय में  कई नेताओ के साथ बाबा के   फोटो वायरल हो रहे है   |  बाबा की गिरफ्तारी के बाद एक बात यह भी सामने आ रही है की हरियाणा की बीजेपी सरकार ने  चुनाव के समय बाबा से यह डील की  बीजेपी के  सत्ता में आने के बाद , बाबा  पर चल रहे सभी केस हटाये जायेगे , लेकिन यह आरोप कितने सही है यह अभी सामने नहीं आये है यह आरोप बाबा राम रहीम के दामाद ने लगाये थे लेकिन अब वह इस से मुकर चुके है |

 

 

राम रहीम के डेरा मुख्यालय को सेना ने अपने कब्जे में लिया –

राम रहीम के डेरा मुख्यालय को सेना ने अपने कब्जे में ले लिया  लोगो को डेरा छोड़ने को बोला  “

जप्त होगी बाबा की सम्पति–  डेरा प्रमुख के अनुयायियों द्वारा हिंसक प्रदर्शन में

होआ भारी जान -माल के नुकसान की

भरपाई  बाबा की सम्पति को बेचकर की  जाएगी  | यह आदेश 

जज जगदीप सिंह ने दिए है |

35 से अधिक लोगो के मारे जाने 

की खबर के साथ ही 250 से अधिक घायलों का  इ

लाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है | 

हरियाणा सरकार  ने कहा – हरियाणा सरकार के मुख्यमंत्री मनोहर लाला खट्टर ने कहा है की जनता उपद्रवियों के बेखावे में ना आये और शांति बनाये रखे |

मिडिया पर किये गए हमले की भरपाई हरियाणा सरकार करेगी ज्ञात हो उपद्रवियों ने मिडिया की ओवी वेन को निशाना बनाया था .

साथ ही अन्य गाडियों को पेट्रोल बोम का इस्तेमाल कर भारी आग जनी की थी |डी जी  ( जेल )  का कहना है कि गुरमीत राम रहीम को कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं दिया जाएगा   | बता दें कि शुक्रवार को कोर्ट द्वारा  राम रहीम को बलत्कार का दोषी करार देने  के बाद उन्हें रोहतक की जेल भेज दिया गया था  | डीजी डॉक्टर केपी सिंह का कहना है कि उन्हें सामान्य व्यक्ति की तरह ही रखा जा रहा है इससे पहले उन्हें गेस्ट हाउस में रखा गया था  | रिपोर्टों के अनु

सार गुरमीत राम रहीम को स्पेशल सेल में रखा गया है  इतना ही नहीं बताया जा रहा है कि उन्हें पीने के लिए मिनिरल वाटर की बोतल का पानी दिया गया है. साथ ही उन्हें एक सहायक भी दिया गया है. इसके अलावा बताया यह भी जा रहा है कि उन्हें उनके ही कपड़े पहने रहने की इजाजत दी गई है जबकि नियमत: जेल में कैदियों को वहां के कपड़े पहनने होते है |

http://www.politico24x7.com/रंगीन-बाबा-डेरा-प्रमुख-रा/ ‎

रेप मामले के दोषी को राज्य सरकार और जेल प्रशासन द्वारा इस प्रकार की छूट दिए जाने पर कई सवाल उठाए जा रहे हैं  बता दें कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के साध्वी से रेप मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद उसके समर्थकों ने हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली समेत दूसरे पड़ोसी राज्यों में भारी उत्पात मचाया है. अब तक करीब 30 से अधिक  लोगों की जान जा चुकी है.

पंजाब, हरियाणा हाईकोर्ट ने शुक्रवार एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान उत्पात से हुए नुकसान की भरपाई के लिए गुरमीत राम रहीम की संपत्ति बेचने का आदेश दिया था |

डीजीपी सस्पेंड –  हरियाणा में धारा144 को   सही से लागु नहीं करवाने  व भारी जान -माल के नुकसान के मध्य नचार हरियाणा डीजीपी को सस्पेंड कर दिया है |

रंगीन बाबा डेरा प्रमुख राम रहीम यौन शोषण मामले दोषी करार, समर्थको का उग्र प्रदर्शन –

हरियाणा । एक गुमनाम पत्र पर लिए गए संज्ञान के करीब 15 साल बाद आज पंचकुला सीबीआई कोर्ट ने यौन शोषण मामले में फैसला सुनाते हुए डेरा प्रमुख बाबा राम रहीम को दोषी करार दिया है। राम रहीम को अंबाला सेंट्रल जेल ले जाया जा रहा है। सजा पर अगली सुनवाई 28 अगस्‍त को की जाए

गी। फैसले के बाद पंचकुला में सेना ने  फ्लैग मार्च  निकला है । इसके साथ ही  हरियाणा के कई शहरों की बिजली काटी दी गई है ।  सुनवाई के समय कोर्ट में केवल जज राम रहीम और स्‍टाफ ही  मौजूद रहा । जज जगदीप सिंह ने पूरा फै

सला पढ़ा।

रंगीन है बाबा-

डेरा प्रमुख  गुरमीत राम रहीम  पर समय -समय पर सवाल उठते रहे है ज्ञात हो की बाबा ने कुछ फिल्मो का निर्माण भी किया है और अभिनेता वह खुद ही रहे है | बतोर अभिनेता बाबा ने रोमेन्स भी ऑन स्क्रीन पर किया है बाबा ने कार ,बाइक पर कलाबाजी के जोहर भी दिखाया है   बाबा पर पुरुष सेवको को नपुंसक बनाने का केस भी न्यायलय में चल रहा है |

हरियाणा सीएम ने कहा, सुरक्षा के हैं सख्‍त इंतजाम

हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहर खट्टर ने डेरा समर्थकों से अपील करते हुए कहा है की , कोर्ट के  फैसला  का समान होगा | हम  उसे लागू कराएंगे। उन्‍होंने आगे कहा कि पूरे हरियाणा  राज्‍य में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं और प्रत्यक स्तर के हालात से निपटने के लिए पूरी तैयारी की जा चुकी है । ज्ञात हो  कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कानून-व्‍यवस्‍था की जानकारी समय – समय पर  ली है । साथ ही गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने दोनों राज्‍यों के मुख्‍यमंत्री से निरतर  बात चल रही है । बता दें कि शुक्रवार सुबह 9.05 बजे राम रहीम सिरसा आश्रम से पंचकुला कोर्ट के लिए रवाना हो गए थे। सिरसा से रवानगी के वक्‍त राम रहीम के साथ 800 गाड़ियों का काफिला चला था।

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट  ने दिए सख्त निर्देश –

कानून व्‍यवस्‍था पर प्रशासन को कड़ा निर्देश जारी करते हुए पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने कहा कि किसी तरह की अराजकता बर्दाश्‍त नहीं की जाएगी, जरूरत पड़ने पर बल प्रयोग किया जाए। कोर्ट ने अपने निर्देश में कहा कि कोई नेता पंचकुला न पहुंच पाए और यदि कोई नेता ऐसा करता भी है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जाए। कोर्ट ने आगे कहा कि अदालत की प्रक्रिया की वीडियोग्राफी करायी जाए और ध्‍यान रखा जाए कि राम रहीम की पेशी में किसी तरह की देरी न हो। इसके अलावा कोर्ट ने आत्मदाह की कोशिशों पर नजर रखने को भी कहा है।

हेलीकॉप्टर व ड्रोन से हो रही है  निगरानी –

पंचकुला में  पिछले 3 दिन से ही भारी संख्या में सुरक्षाबलों और विशेष बटालियन को तैनात किया गया है। हेलीकॉप्‍टरों के जरिए भी निगरानी की जा रही है। अदालत के परिसर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। पुलिस और प्रशासन को डर है कि इस मामले में अगर फैसला डेरा प्रमुख के खिलाफ आया तो कानून-व्यवस्था के लिये चुनौतीपूर्ण हालात उत्पन्न  हो सकते हैं। इसको  देखते हुये पंजाब और हरियाणा के संवेदनशील इलाकों में 20000 अर्धसैनिक बलों के  जवानों को तैनात किया है।

डेरा प्रमुख का ट्वीट – कुछ ख़ास 

एक दिन पहले गुरुवार को ही  डेरा प्रमुख ने एक  ट्वीट कर कहा था कि वे कोर्ट में पेश होंगे। कोर्ट में पेशी उनकी अपनी जिम्मेदारी है, लेकिन सरकार उन्हें हवाई मार्ग के जरिए यहां लाने में मदद कर सकती है। मेने हमेशा ही न्यायलय और कानून का सम्मान किया है। हालांकि हमारी कमर में दर्द है, फिर भी कानून की पालना करते हुए हम कोर्ट जरूर जाएंगे। सभी शांति बनाए रखें। हमें भगवान पर दृढ़ भरोसा है -संत गुरमीत राम रहीम सिंह, डेरा प्रमुख।

समर्थकों को बाबा ने दिया शांति का पैगाम –

डेरा प्रमुख ने अपने  समर्थकों से शांति की अपील करते एक वीडियो जारी किया है। जिसमें समर्थकों को अपने घर में रहने की अपील की है। उन्‍होंने कहा है कि मैं स्‍वर्ग में जाकर फैसला सुनूंगा।

पिछेले रास्ते से हो रहा है बाबा का समर्थन –

आज सुबह जेसे ही बाबा की गाड़ियां  सिरसा से निकलीं, कई समर्थक उनकी गाड़ियों के आगे लेट गए, लोगों ने उन्हें आगे से हटाया। इसके बाद कैथल में राम रहीम के समर्थकों ने करीब 40 मिनट तक काफिले को रोके रखा। वे सड़क पर लेट गए और सुरक्षाकर्मियों को उन्हें हटाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। इस बीच अंबाला में पुलिस और समर्थकों के बीच बहस हो गयी। दरअसल हाईवे से पुलिस द्वारा समर्थकों को हटाया जा रहा था। इससे पहले काफिले में तीन गाड़ियों के आपस में टकराने की भी खबर मिली थी।

डीजीपी का बयान –

हरियाणा के डीजीपी ने कहा, हम पर विश्‍वास रखें, कानून क्षेत्र में शांति है और कानून-व्‍यवस्‍था बनी हुई है। सीआरपीएफ डीजी राजीव भटनागर ने बताया कि सेना को तैयार रहने को कहा गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कानून व्‍यवस्‍था की जानकारी ली है। इससे पहले गुरुवार को हाई कोर्ट ने हरियाणा और पंजाब के एडवोकेट जनरल तथा पुलिस अधिकारियों से पूछा है कि धारा 144 लागू होने के बाद भी लाखों की भीड़ क्यों एकत्र हुई। कहा कि राज्य में जमा हो रहे लोगों को तुरंत उनके घर वापस भेजा जाए। साथ ही अधिक फोर्स तैनात करने के निर्देश दिए। कोर्ट ने सख्त लहजे में कहा कि हरियाणा के डीजीपी मामले से निपटने में पूरी तरह फेल साबित हो रहे हैं। हाई कोर्ट उन्हें डिसमिस करने का आदेश जारी कर सकता है।

सिरसा में कर्फ्यू-

फैसला आने से पहले पंजाब और हरियाणा सरकार ने कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सेना को रिजर्व में रखा है। हरियाणा-पंजाब में 64 हजार सैनिकों को तैनात किया गया है और हरियाणा के सिरसा में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू है। पंचकुला और सिरसा में डेरा समर्थकों की भारी तादाद देखते हुए सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। पंजाब और हरियाणा में शुक्रवार को स्कूल और कॉलेज व चंडीगढ़ के तमाम दफ्तरों को बंद कर दिया गया है।

पंचकुला के लिए बस- रेल सेवा बंद

अधिकारियों ने पंचकुला के लिये बस और रेल सेवा भी रोक दी है। रेल विभाग ने पंजाब और हरियाणा जाने वालीं 29 ट्रेनों को आज से चार दिन के लिए रद्द कर दिया है। पंजाब जाने वाली 22 और हरियाणा जाने वाली सात ट्रेनें रद्द की गई हैं। परिचालन की स्थिति में चार दिनों ये ट्रेनें कुल 74 चक्कर लगातीं। डेरा प्रमुख के प्रशंसक पंचकुला, चंडीगढ़ और आस-पास के क्षेत्रों में इकट्ठा हो रहे हैं। पंचकुला, सिरसा, हिसार और कई दूसरे स्थानों पर सुरक्षा बलों द्वारा फ्लैग मार्च निकाला गया और कई अस्पतालों को सुरक्षात्मक उपायों के मद्देनजर हाई अलर्ट पर रखा गया है।

इंटरनेट और मोबाइल डाटा सेवाएं बंद

हरियाणा-पंजाब व चंडीगढ़ में तत्काल प्रभाव से इंटरनेट और मोबाइल डाटा सेवाएं बंद हैं। पंजाब सरकार ने हरियाणा के अलावा राजस्थान की सीमा भी सील करने के आदेश दिए हैं। केंद्र ने हालात से निपटने के लिए पंजाब को अर्धसैनिक बलों की 10 और कंपनियां दी हैं। हरियाणा में अर्धसैनिक बलों की 50 से अधिक कंपनियों ने मोर्चा संभाल लिया है। उत्तर रेलवे ने हरियाणा जाने वाली ट्रेनों में सुरक्षा बढ़ाने के साथ कई ट्रेनें रद कर दी हैं। गुरुवार को भी कई ट्रेनें नहीं चलीं।

2002 में यौन शोषण का मामला दर्ज

डेरा प्रमुख के खिलाफ सीबीआई ने 2002 में यौन शोषण का मामला पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के निर्देश पर दर्ज किया था। इससे पहले दो महिला अनुयायियों के कथित यौन शोषण के बारे में पर्चे बांटे गए थे। सिंह पर हरियाणा के सिरसा स्थित डेरा परिसर के भीतर दुष्‍कर्म का आरोप है।


क्या था पूरा मामला एक नजर  : गुमनाम पत्र में लगाए गए थे संगीन आरोप 


गुमनाम पत्र के माध्यम से एक साध्वी ने डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम पर यौन शोषण सहित कई अन्य संगीन आरोप लगाए थे। यह पत्र तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को लिखा गया था। साथ ही इसकी प्रति पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट को भेजी गई थी। पत्र में आरोप लगाए गए थे कि पीडि़ता पंजाब की रहने वाली है और सिरसा के डेरा सच्चा सौदा में 5 साल से एक साध्वी के रूप में रह रही है। आरोप लगाया गया कि साध्वियों का शोषण किया जा रहा है। अपनी आपबीती भी बताई गई थी, जिसमें डेरामुखी गुरमीत राम रहीम पर यौन शोषण के आरोप लगे थे। घटना 1999 की है और पत्र 2001 में लिखा गया। प्राथमिकी 2002 में दर्ज की गई। तब उच्च न्यायालय ने पत्र का संज्ञान लेते हुए सितंबर 2002 को मामले की सीबीआई  जांच के आदेश दिए थे। सीबीआइ ने जांच में उक्त तथ्यों को सही पाया और डेरा प्रमुख के खिलाफ विशेष अदालत के समक्ष 31 जुलाई 2007 में आरोप पत्र दाखिल  किया था |