इस बयान को लेकर राहुल गांधी की दैवेगौड़ा ने की निंदा

बेंगलुरू। जनता दल(एस)-जद(एस) के अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी दैवेगौड़ा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उस बयान की कड़ी निंदा की है जिसमें उन्होंने कहा था कि आगामी कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए गौड़ा ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ गठजोड़ कर लिया है तथा वह वह भाजपा की बी टीम है।

राहुल गांधी ने कर्नाटक यात्रा के दौरान पिछले दो दिनों में आरोप लगाए थे कि जद(एस) अब जनता दल (संघ परिवार) बन चुका है और वह भाजपा की बी टीम है तथा गौड़ा को यह स्पष्ट करना चाहिए कि क्या वह भाजपा को मदद देने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि जद(एस) के पास कोई विचारधारा नहीं है। देवगौड़ा ने पत्रकारों के पूछे गए सवालों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा राहुल गांधी को एक परिपक्व इंसान बनने के लिए काफी लंबी राजनीतिक यात्रा करनी थी लेकिन उन्हें अकेले ही शीर्ष राजनेता बनने दीजिए। उनके भाषण कोई और लिखता है और वह मेरे जैसे 85 वर्षीय राजनीतिज्ञ को राजनीति के मंत्र बताने की कोशिश कर रहे हैं। इस तरह के गैर जिम्मेदाराना बयानों की कड़ी निंदा की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को पहले यह समझ लेना चाहिए कि कर्नाटक में कौन सी कांग्रेस राज कर रही है और यह कोई नहीं बल्कि सिद्धारमैया की अगुवाई वाला धड़ा है, जो पहले हमारी ही पार्टी में रह चुके हैं। उन्होने इस बात पर भी आश्चर्य व्यक्त किया कि कांग्रेस कब से स्वच्छ छवि वाली पार्टी बन गई है।

लगातार 13 वें दिन नहीं चल सका प्रश्नकाल

नई दिल्ली। तेलंगाना में आरक्षण से जुड़े मुद्दे पर तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के और कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड के गठन की मांग को लेकर अन्नाद्रमुक के भारी हंगामे की वजह से बुधवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

बजट सत्र के दूसरे चरण में गत दो सप्ताह की कार्यवाही हंगामे की वजह से बाधित रहने के बाद तीसरे सप्ताह में भी कोई कामकाज नहीं हो पा रहा है और बुधवार को लगातार 13 वें दिन भी प्रश्नकाल हंगामे की भेंट चढ़ गया। लोकसभा की कार्यवाही बुधवार सुबह जैसे ही आरंभ हुई तो अन्नाद्रमुक और टीआरएस के सदस्य नारेबाजी करते हुए अध्यक्ष के आसन के निकट पहुंच गए।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने प्रश्नकाल चलाने का प्रयास किया लेकिन हंगामा थमता नहीं देख उन्होंने सदन की कार्यवाही एक घंटे के लिए स्थगित कर दी। अन्नाद्रमुक और टीआरएस के सदस्य ‘वी वांट जस्टिस’ के नारे लगा रहे थे। टीआरएस के सदस्यों ने ‘एक राष्ट्र, एक नीति’ की मांग वाली तख्तियां ले रखी थीं। बजट सत्र के दूसरे चरण में पांच मार्च को आरंभ होने के बाद से लोकसभा की कार्यवाही पीएनबी धोखाधड़ी मामले, आंध्र प्रदेश के लिए विशेष दर्जे की मांग और तेलंगाना में आरक्षण के मुद्दे सहित कई विषयों पर लगभग रोजाना बाधित हो रही है।

%d bloggers like this: