महाराष्ट्र : 14 अप्रैल को रात 8 बजे से सूबे में धारा 144 लागू करने का ऐलान किया है- मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

‘ब्रेक द चेन अभियान’

मुंबई | महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते केसों की संख्या ने मुख्यमंत्री ठाकरे को बड़े सख्त कदम उठाने पर मजबूर पर दिया हैं मुख्यमंत्री ठाकरे आज राज 8 बजें मीडिया को संबोधित किया जिसमे 14 अप्रैल से  आंशिक  लॉक डाउन की घोषणा की घोषणा की हैं |

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कोरोना संकट से निपटने के लिए कड़े प्रतिबंधों का ऐलान किया है। प्रदेश में बीते साल की तरह पूर्ण लॉकडाउन नहीं रहेगा, लेकिन सभी गैर-जरूरी सेवाएं बंद रहेंगी और बेवजह निकलने पर रोक होगी। सीएम उद्धव ठाकरे ने 14 अप्रैल को रात 8 बजे से सूबे में धारा 144 लागू करने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि यह आपके मन-मुताबिक न हो, लेकिन तब भी ऐसा करना पड़ रहा है। पूरे राज्य में अगले 15 दिन तक संचार बंदी लागू की जाएगी। उन्होंने लॉकडाउन शब्द का इस्तेमाल न करते हुए इसे ‘ब्रेक द चेन अभियान’ करार दिया।

सीएम उद्धव ठाकरे ने साफ किया कि जरूरी सेवाओं को छोड़कर सारे दफ्तर बंद रहेंगे। ईकॉमर्स, बैंक, मीडिया, पेट्रोल पंप, सुरक्षा गार्ड जैसे लोगों को इसमें छूट दी गई है। रेस्तरां आदि खुले रहेंगे, लेकिन वहां बैठकर खाने पर रोक होगी। सिर्फ होम डिलिवरी और टेक-अवे की सुविधा रहेगी।

 

गरीबों को राशन से लेकर कैश तक की मदद का ऐलान –

कंस्ट्रक्शन के काम में लगे मजदूरों को प्रति माह 1,500 रुपये की आर्थिक मदद देने वाले हैं। अधिकृत फेरी वालों को भी मदद दी जाएगी। रिक्शे वालों को भी 1,500 रुपये और आदिवासियों को 2,00 रुपये महीने की मदद मिलेगी। 7 करोड़ लोगों को 3 किलो गेहूं और 2 किलो चावल अगले तीन महीने तक देंगे। यह सुविधा राशन कार्ड होल्डर्स को सरकारी दुकानों से दिया जाएगा। सीएम ने कहा कि इस आंशिक लॉकडाउन के दौरान किसी की रोजी-रोटी पर संकट न आए, ऐसा हमारा प्रयास रहेगा। हमने 3,300 करोड़ रुपये की रकम कोविड के लिए निकाले हैं, जिससे लोगों को मदद दी जाएगी। हमने कुल 5,500 करोड़ रुपये का बजट कोरोना के लिए तय किया है। उन्होंने कहा कि अब हमारे कोई चारा नहीं है, इसलिए हम ऐसा कर रहे हैं। आरोग्य सुविधाओं और वैक्सीनेशन को बढ़ाने के लिए हमने यह फैसला लिया है। मेरी सभी से हाथ जोड़कर विनती है कि इसका पालन करें।

 

भारत में कोरोना की दूसरी लहर हो सकती है विनाश्कारी ! जाने इसके बचाव

Rajasthan, including the capital city of Jaipur,

can be installed in many main cities Section 14 4 and partial lock down

जयपुर | कोरोना के चलते पूरे देश में लॉकडाउन किया गया था जिसके कारण देश की जनता को बहुत ज्यादा कष्ट सहन करने पड़े थे। लेकिन कोरोना से होने वाली मौतों का आकड़ा इतना भयवाह नहीं हुआ जीतना दूसरे देशों में देखा गया है। लेकिन एक बार फिर सर्दी के मौसम और बढ़ते प्रदूषण के चलते भारत में कोरोना की दूसरी लहर आने का खतरा ज्यादा बढ़ने के आसार नजर आ रहे हैं।

कोरोना की दूसरी लहर से पहले ही केन्द्र सरकार के साथ कई राज्य सरकारों ने इसकी चेतावनी भी जारी कर दी है और लोगों का आगाह किया है कि वह यह नहीं भूले की कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है और ना ही इसकी कोई कारगार वैक्सीन बनी है जिससे इलाज हो सकें।

 

 

कोरोना की दूसरी लहर जिन देशों में आई है वहां हालात बहुत गंभीर है और इसके चलते भारत में समय रहते इसको रोकने की तैयारी शुरू कर दी है। देश की कुछ शहरों की बात करें तो कोरोना मरीजों का ग्राफ जबरदस्त तरीके से बढ़ता जा रहा है जिसके कारण प्रशासन की नींद उड़ गई है।

कोरोना को रोकने का सबसे कारगार उपाय मास्क अनिवार्य रूप से इस्तेमाल, भीड़-भाड़ में जाने से बचें और दिन मेें लगातर गर्म पानी का इस्तेमाल करें।

 

राजधानी जयपुर शहर सहित राजस्थान कई मुख्य शहरो में लग सकती हैं धारा  14 4 व् आंशिक लॉक डाउन – 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कोविड 19 को लेकर गंभीर हैं जिसको लेकर वह मेडिकल विभाग से लेकर राज्य के वरिष्ट अधिकारीयों की बैठक ले चुके हैं वह कोविड की गाइड लाइन जारी कर निर्देश भी दे चुके हैं अब सूत्रों के अनुसार जयपुर सहित राजस्थान के कई मुख्य जिलो में  प्रशासन मास्क को लेकर सख्ती बरत रही हैं