डांगावस दलित हत्याकांड: समिति के प्रदेश संयोजक उतरे चुनाव मैदान में

राजस्थान। राजस्थान के अजमेर में हुआ डांगावस दलित हत्याकांड का मामला एक बार फिर सुर्ख़ियों में है। इस बार हत्याकांड संघर्ष समिति ने अपना उम्मीदवार लोकसभा उपचुनाव में उतारा है। समिति ने शुक्रवार को एक प्रेसवार्ता कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दलितों पर हुए अत्याचारों पर चुप रही कांग्रेस व सत्ता पक्ष बीजेपी के खिलाफ उन्होंने मोर्चा खोला है और इस चुनाव में अपना उम्मीदवार उतारकर दोनों ही पार्टियों को सबक सिखाने की ठानी है।

 

डांगावास दलित हत्याकांड संघर्ष समिति के प्रदेश संयोजक धर्मपाल कटारिया ने कहा कि हत्याकांड को ढाई साल बीत जाने पर भी उन्हें न्याय नहीं मिला। इसी वहज से नाराज होकर उन्होंने बीजेपी के खिलाफ चुनावी मैदान में आने की ठानी। वहीं कटारिया ने कांग्रेस को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जिस कांग्रेस ने सत्तर साल से दलितों की राजनीति कर राज किया उसने भी इस हत्याकांड में उनका साथ नहीं दिया।

 

इससे नाराज समिति अब चुनाव में दोनों दलों को सबक सिखाएगी. उन्होंने कहा कि 15 जनवरी से वे अपने चुनावी अभियान की शुरुआत करेंगे जिसमे घर- घर जाकर दोनों पार्टियों के चेहरे जनता के सामने रखकर वोट मांगेंगे। साथ ही दलितों का वोट बर्बाद नहीं हो इसके लिए लोगों से सोच समझकर मतदान करने को कहेंगे।