राहुल गांधी दूसरे चरण के चुनाव के लिए 26 अप्रैल को शुरू करेंगे प्रचार

बेंगलुरू। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दूसरे चरण के चुनाव प्रचार के लिए राहुल गांधी 26 अप्रैल से ही कर्नाटक से अपनी ‘जन आशीर्वाद यात्रे’ के सिलसिले को आगे बढ़ाएंगे. इस यात्रा के जरिए राहुल अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने की कोशिश करेंगे. 12 मई को होने वाले राज्य विधान सभा चुनाव के लिए पार्टी अपने प्रत्याशियों की दूसरी सूची जारी करने को लेकर युद्ध स्तर पर काम कर रही है क्योंकि पार्टी में अंतर्कलह के कारण यह काम आसान नहीं है।

इस चरण के चुनाव प्रचार का अभियान की शुरुआत राहुल गांधी 26 अप्रैल को उत्तरी कर्नाटक के गडक और हावेरी जिलों से करेंगे। वह 27 अप्रैल को उत्तर कन्नड जिले और कोदाउ जिले के मदिकेरी का दौरा करेंगे। कांग्रेस ने मदिकेरी सीट से अधिवक्ता एच एस चंद्रमौली का नाम सूची में डालने के बाद प्रतीक्षा सूची में डाल दिया है। चंद्रमौली का नाम पंजाब नेशनल बैंक महाघोटाले के आरोपी नीरव मोदी के संबंधी मेहुल चोकसी के साथ जुड़ जाने से उनका नाम विवादों में आ गया था।

मुख्यमंत्री सिद्दारामैया के कानूनी सलाहकार ब्रिजेश कल्प्पा के भी चंद्रमौली को टिकट दिये जाने को लेकर नाराजगी जताने के बाद पार्टी में समस्या खड़ी हो गयी। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)और जनता दल(सेक्युलर) ने भी चंद्रमौली को मदिकेरी सीट से चुनावी समर में उतारे का विरोध किया है। वर्तमान में इस सीट का भाजपा के ए राजन प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

कर्नाटक चुनाव को लेकर राहुल द्रविड़ ने दिया ये बयान, कहा…

बेंगलुरु। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने कर्नाटक में होने वाले अगामी विधानसभा चुनाव में लोगों से मतदान करने की अपील करते हुए कहा कि अगर आप मतदान करेंगे तो लोकतंत्र की जीत होगी।

राज्य चुनाव अधिकारियों ने 12 मई को होने वाले विधानसभा चुनाव में मतदान को बढ़ाने के लिए द्रविड़ को दूत बनाया है। उन्होंने इसके लिए द्रविड़ का 30 सेकेन्ड का संदेश जारी किया है। ‘द वाल’ के नाम से विख्यात इस खिलाड़ी ने कहा कि जैसे क्रिकेट में हर खिलाड़ी जरूरी है, लोकतंत्र के लिए भी हर मतदाता जरूरी है।

उन्होंने कहा, जब हर खिलाड़ी अच्छा खेलता है, हम मैच जीत सकते हैं। क्रिकेट में हर खिलाड़ी जरूरी है। लोकतंत्र में भी सब जरूरी हैं। मैं मतदान करूंगा। आप भी मतदान करिए। इस वीडियो संदेश को विभिन्न टेलीविजन चैनलों के माध्यम से प्रसारित किया जाएगा। इसके अलावा उनके संदेश वाले पोस्टर और होîडग्स को भी राज्य के विभिन्न हिस्सों में लगाया जाएगा।

अमित शाह ने सिद्धारमैया सरकार पर साधा निशाना, कहा…

इंटरनेट डेस्क। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को कर्नाटक की सिद्दारमैया सरकार पर आरोप लगाया कि वे हिंदुओं को बांटने की कोशिश कर रही है और देश में सबसे भ्रष्ट सरकारों में शामिल है। कर्नाटक की दो दिवसीय यात्रा पर आए शाह ने कहा कि लिंगायतों और वीरशैव भलगायतों को धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा देने का राज्य सरकार का कदम हिंदुओं को बांटने की कोशिश है। शाह ने यहां पत्रकारों से कहा कि कर्नाटक में( विधानसभा) चुनावों से ठीक पहले लिंगायतों और वीरशैवों के लिए अल्पसंख्यक दर्जे की घोषणा कर उन्होंने लिंगायतों और वीरशैवों, लिंगायतों एवं अन्य समुदायों को बांटने की कोशिश की है। इस कदम के वक्त पर सवाल उठाते हुए उन्होंने सिद्दारमैया सरकार से पूछा, आप 5 वर्ष से क्या कर रहे थे?

उन्होंने कहा कि 2013 में जब आपकी अपनी( यूपीए) सरकार केंद्र की सत्ता में थी तो उन्होंने इसे खारिज कर दिया था। उस समय सिद्दारमैया चुप क्यों थे? यह हिंदुओं को बांटने की कोशिश है। शाह ने कहा कि यह वीरशैव एवं लिंगायत समुदायों की बेहतरी के लिए उठाया गया कदम नहीं है बल्कि बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनने से रोकने की साजिश है। येदियुरप्पा को लिंगायत समुदाय का कद्दावर नेता माना जाता है। उन्होंने कहा कि लिंगायत समुदाय इसे समझता है और मुझे यकीन है कि कर्नाटक के लोग बैलेट के जरिए इसका जवाब देंगे। कर्नाटक कैबिनेट ने हाल में केंद्र सरकार से सिफारिश की है कि लिंगायतों एवं वीरशैव लिंगायतों को धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा दिया जाए।

 

राज्य सरकार के इस कदम को बीजेपी के वोट बैंक में सेंध लगाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। शाह ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने मठों और मंदिरों को भी सरकारी नियंत्रण में लाने की कोशिश की, लेकिन विपक्ष के विरोध की वजह से उन्होंने अपने कदम पीछे खींच लिए। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि मैंने 5-6 बार कर्नाटक की यात्रा की है और लोगों से मिलने के बाद मैं कर्नाटक की भावनाएं समझ सका। उन्होंने कहा कि कर्नाटक के लोगों का मानना है कि वह( सिद्दारमैया) ‘ अहिंद’ नेता नहीं बल्कि‘ अहिंदू’ ( हिंदू विरोधी) नेता हैं।’कन्नड़ भाषा में‘ अहिंद’ शब्द का इस्तेमाल अल्पसंख्यकों, पिछड़े वर्गों और दलितों के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस ने सिद्दारमैया को नहीं रोका तो पार्टी को चुनावों में गंभीर परिणाम का सामना करना पड़ सकता है।

शाह ने कहा कि एक तरफ कांग्रेस अध्यक्ष हिंदुओं, मुस्लिमों, सिखों और ईसाइयों को एकजुट करने की बातें करते हैं जबकि दूसरी तरफ कर्नाटक में उनके अपने मुख्यमंत्री हिंदुओं को बांटने की बातें कर रहे हैं। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि मैंने किसी राजनीतिक पार्टी के भीतर इतने बड़े मतभेद नहीं देखे हैं।
इस्लामी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया( पीएफआई) और इसकी राजनीतिक शाखा एसडीपीआई( सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया) पर हिंदुओं एवं भाजपा- आरएसएस के कार्यकर्ताओं की हत्या में शामिल होने के आरोप लगाते हुए शाह ने कहा कि उनके खिलाफ केस वापस लेकर राज्य सरकार वोट बैंक की घटिया राजनीति कर रही है।शाह ने कहा कि एक तरफ केरल सरकार ने केंद्र सरकार से पीएफआई पर पााबंदी लगाने की सिफारिश की है, लेकिन सिद्दारमैया को पीएफआई में कुछ गलत नहीं दिखता। कर्नाटक एवं भारत की सुरक्षा के लिए तुष्टिकरण की यह नीति सबसे बड़ा खतरा है।भाजपा अध्यक्ष ने कहा, कर्नाटक के लोगों को समझ आ चुका है कि यह सबसे भ्रष्ट सरकार है। हाल में उच्चतम न्यायालय के एक न्यायाधीश ने कहा था कि यदि देश में भ्रष्टाचार को लेकर कोई प्रतिस्पर्धा हो तो सिद्दारमैया सरकार को नंबर वन का अवॉर्ड मिलेगा।

%d bloggers like this: