संसाधनों की उपलब्धता पर ट्रोमा सेंटर खोले जाएंगे : कालीचरण सराफ

जयपुर। राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ ने कहा कि वित्तीय संसाधन उपलब्ध होने पर आवश्यकतानुसार ट्रोमा सेंटर स्थापित किए जाएंगे। सराफ ने शुक्रवार को विधानसभा में प्रश्नकाल में विधायक मामन सिंह के प्रश्न का जवाब देते हुए कहा कि भिवाड़ी की विशेष परिस्थितियों को देखते हुए वित्तीय संसाधनों की उपलब्धता के आधार पर वहां ट्रोमा सेंटर खोलने पर विचार किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि भिवाड़ी में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के स्थानांतरण के संबंध में सीएमएचओ से रिपोर्ट आ गई है एवं जिला कलेक्टर की रिपोर्ट अपेक्षित है। रिपोर्ट के प्राप्त होने के बाद ही इस संबंध में उचित निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि ट्रोमा सेन्टर खोलने के मापदण्डों के मुताबिक 2 ट्रोमा सेन्टरों के मध्य 100 किलोमीटर की दूरी होना है। भिवाड़ी से 80 किलोमीटर दूर अलवर में और 75 किलोमीटर दूर बहरोड में ट्रोमा सेन्टर स्थापित हैं।अत: वर्तमान में भिवाड़ी में ट्रोमा सेन्टर खोलने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है। उन्होंने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भिवाड़ी पर ब्लड स्टोरेज यूनिट के लिए 20 फरवरी 2018 को ही लाइसेंस जारी हुआ है।

ब्लड बैंक खोलने हेतु ब्लड की 2 हजार यूनिट वार्षिक उपभोग होना है।मापदण्ड पूर्ण होने पर भिवाड़ी में ब्लड बैंक खोलने पर विचार किया जाएगा। विधायक मामन सिंह द्वारा पर्ची काउंटर बढाने और पद रिक्त होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भिवाड़ी में वर्ष 2017 में औसत ओपीडी लगभग 512 प्रतिदिन रहा है।संस्थान पर 1 पर्ची काउंटर संचालित है, जिस पर पर्ची काटने वाले 2 कर्मचारी कार्यरत हैं। उन्होंने कहा कि वित्तीय साल 2018-19 में पर्ची काउंटर को कम्प्यूटरीकृत कर अतिरिक्त पर्ची काउंटर खोलने के प्रयास किए जाएंगे।उन्होंने कहा कि भिवाड़ी में चिकित्सकों के कुल 12 पद स्वीकृत है, वर्तमान में 6 चिकित्सक कार्यरत है। उन्होंने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भिवाड़ी में अराजपत्रित कर्मचारियों के कुल 27 पद स्वीकृत है, वर्तमान में 26 कार्मिक कार्यरत है।

चिकित्सक हड़ताल ख़त्म – चिकित्सक काम पर लौटे

चिकित्सक काम पर लौटे
जयपुर, 12 नवम्बर। सेवारत चिकित्सा संघ से अपरान्ह 2 बजे से रात्रि लगभग 11 बजे तक 9 घंटे चली वार्ता के बाद बनी आम सहमति के पश्चात संघ ने काम पर लौटने का निर्णय लिया है।
चिकित्सा मंत्री

की मौजूदगी में इस वार्ता में अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त डी. बी. गुप्ता, प्रमुख शासन सचिव गृह दीपक उप्रेती, प्रमुख शा
सन सचिव चिकित्सा वीनू गुप्ता , चिकित्सा शिक्षा सचिव आनंद कुमार , वित्त सचिव मंजू राजपाल सहित अन्य अधिकारीगण शामिल थे । संघ की ओर से अध्यक्ष डॉ. अजय चौधरी, डॉ. जगदीश मोदी,डॉ. लक्ष्मण ओला, डॉ. नसरीन भारती, डॉ. मोहन लाल सिंधी शामिल थे।
%d bloggers like this: