जयपुर में पहले चरण में 3 लाख 50 हजार लोगों को लगेगा कोरोना का टीका, जानें अपना नाम

जयपुर: प्रदेशवासियों को नये साल की शुरूआत में ही कोरोना का टीका लगना शुरू हो जाएगा और इसके लिए राज्य सरकार ने लगभग 3 लाख 50 हजार लोगोंं की लिस्ट भी तैयार कर ली है। इस टीके को लेकर केन्द्रीय स्थावस्थ्य मंत्री ने भी बता दिया था कि आने वाले नये साल में भारत में कोरोना का टीका लगने की पूरी पूरी उम्मीद है और यह बात अब सही साबित होती नजर आ रही है।

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर प्रदेश के चिकित्सा विभाग सभी तैयारियां लगभग पूरी करने में जुटा है और इसके लिए प्रदेश के राजकीय, निजी चिकित्सा और महिला-बाल विकास के विभाग के कार्मिकों को कोविड-19 वैक्सीन लगाकर सुरक्षित किया जायेगा। राज्य सरकार इस वैक्सीन को बड़ी आसानी से और तेजी से लोगों तक पहुंचाने के लिए एक योजना भी तैयार कर ली है जिसके माध्यम से यह टीकाकरण किया जाएगा।

 

 

इस वैक्सीन को सुरक्षित रखने के​ लिए 2 हजार 444 कोल्ड चैन वैक्सीनेशन पाॅइन्ट्स चयनित जिला अस्पतालों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तैयार किये गये है। कोल्ड चैन तक वैक्सीन पहुंचने के लिए स्वास्थ्य विभाग परिवहन विभाग की सहायता भी ले रहा है अगर आने वाले दिनों इस दवा को रखने के लिए कोल्ड स्टोरेज की जरूरत पड़ती है तो उसकी भी तैयारी की जा रही है।

प्रदेश के लोगों के लिए बहुत राहत भरी खबर है जिसके कारण अब लोगों को कोरोना के कारण अपनी जान नहीं गवानी पड़ेगी और समय पर उनका सही इलाज हो सकेगा। अगर बात करें कोरोना काल की तो कोरोना की रोकथाम और अन्य फैसने करने राजस्थान सरकार पूरे देश में पहले स्थान पर रहीं है जिसके चलते पीएम मोदी ने भी कई बार राज्य सरकार की प्रशंसा की है

 

कोरोना और सियासी संकट के बीच गहलोत सरकार के दो साल पूरे, जानें उपलब्धियां

राजस्थान की कांग्रेस सरकार आज अपने दो साल पूरे करने के मौके पर प्रदेश के सभी जिलों में अपना रिपोर्ट कार्ड जनता के सामने पेश करेगी। दो साल के कार्यकाल में सीएम गहलोत को सियासी संकट के साथ कोरोना से निपटने के लिए जो प्रयास किये है वह तारीफ के काबिल है। दो साल के मौके पर अपने चुनावी घोषणा पत्र में जो वादे किये थे उनको अभी तक 50 प्रतिशत पूरा करने की बात कही जा रही है।

दो साल के कार्यकाल में सरकार ने बेरोजगारी को कम करने के लिए जो वादे किये थे उन पर अभी तक किसी प्रकार की कोई बड़ी उपलब्धी हासिल करने में कामयाब नहीं हुई है। राज्य सरकार का दूसरा वर्ष पूर्ण होने पर राज्य स्तरीय समारोह 18 दिसंबर को आयोजित किया जाएगा। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में वर्चुअल माध्यम से विभिन्न विकास कार्यों के लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के कार्यक्रम रखें गये है।

गहलोत ने दो-दो मंत्रियों के समूह में 19 एवं 20 दिसम्बर को जिलों का दौरा करने एवं राज्य सरकार की योजनाओं तथा कोरोना प्रबंधन की समीक्षा करने के भी निर्देश जारी किये है। गहलोत सरकार ने बंद पड़ी रिफाइनरी और मेट्रो प्रोजेक्ट को फिर से नई गति देने के साथा कोविड की चुनौती को जिस तरह से निपटा है वह देश और दुनिया के लिए एक नजीर बनी है।

सरकार के सबसे महत्वपूर्ण फैसले जिससे प्रदेश की जनता को लाभ मिला

महिला सुरक्षा और महिला सशक्तिकरण की दिशा में राज्य में 24/ 7 महिला हेल्पलाइन
किसानों के 7692 करोड़ रुपए के अल्पकालीन फसली ऋण माफ किए
मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना में निःशुल्क दवाइयों की संख्या 607 से बढ़ाकर 709 की गई

सबसे महत्वपूर्ण वादे जो आज भी अधूरे

राजस्थान में लगभग दो लाख से ज्यादा संविदा कर्मियों को स्थाई करने का वादा पूरा नहीं हुआ है।
विभिन्न विभागों की लंबित भर्तियों का मामला अभी तक हल नहीं हुआ है।
रोजगार के लिए हर साल 75 हजार भर्तियां करने का वाद भी अभी तक पूरा नहीं हुआ है।

इन कारणों से जयपुर में तेजी से बढ़ रहा हैं कोरोना मरीजों का आंकड़ा – सतर्क रहें

कोविड 19 के मरीजों की संख्या में निरंतर बढ़ोतरी राज्य सरकार के लियें चिंता का विषय बनी – मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कर रहें हैं स्वयं मोनिटरिंग 

जयपुर |  राजस्थान की राजधानी जयपुर में कोरोना विस्फोट होता नजर आ रहा है और हर दिन रेकॉर्ड तोड़ मरीज सामने आ रहे हैं। पीछले 8 महीनों की बात करें तो नवम्बर महीने में कोरोना मरीजों का ग्राफ सबसे तेज गति से बड़ा है और इसके कई कारण सामने आ रहे हैं। इसके चलते राज्य सरकार ने फिर से लॉकडाउन जैसे हालात ना हो इसके पहले ही थोड़ी सख्ती दिखाना शुरू कर दिया है। बीते दिनों त्यौहार के साथ चुनाव और अब शादियों का सीजन कोरोना की दूसरी लहर को पेर पसारने का मौका दे दिया ​है जिसके कारण कोरोना का ग्राफ लगातार बढ़ता ही जा रहा है। कोरोना के चलते राज्य सरकार के कई मंत्री भी इसकी चपेट में आ चुके है इसके बाद भी लोग बेपरवाह होकर कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

चुनाव: राज्य सरकार के लिए पंचायत चुनाव के साथ नगर निकाय चुनाव करवाना जरूरी था लेकिन इसके कारण भी कोरोना का प्रसार हुआ कई बार प्रचार के समय नियमों की जमकर धज्जियां उड़ाई गयी हैं ।

त्यौहार : त्यौहार सीजन होने कारण लोगों ने कोरोना को भूलकर जमकर खरीददारी करने के लिए घरों से निकले और इतरी भीड़ जमा होने लगी जिसके कारण कोरोना को फैलने में आसानी हुई।

 

शादियां: इन दिनों शादियां का सीजन भी कोरोना के प्रसार में सबसे बड़ा कारक सिद्ध हो रहा हैं लोग शादियों में अपने रिश्तेदार आदी के साथ बहुत ही नजदीकी  दिखा रहें हैं जिसके कारण कोरोना का फैलाव हो रहा हैं

वैक्सीन: पिछले कुछ दिनों से लोगों में यह अफवाह फैली हुई है कि कोरोना की दवाई बन चुकी है और इसके कारण वह लापरवाही बरत रहे है जबकि कोरोना की अभी तक कोई कारगर वैक्सीन नहीं बनी है इसलिए आप अपने आप को बचाकर रखे और परिवार के लोगों को इसके बारे में बताये।

 

हमारा चैनल आप सभी प्रदेशवासियों से अपील करता है कि कोरोना का एकमात्र इलाज बचाव है और आप अपने साथ अपने परिवार के सदस्यों को इससे बचाने के लिए सभी बातों का ध्यान रखें। बीना वजह घर से बाहर नहीं निकले, घर पर ही खाना खाये, मास्क का इस्तेमाल करें और भीड़—भाड़ वाली जगह पर जाने से अपने आप को दूर रखें।

%d bloggers like this: