छुआछूत खत्म करने के उदेश्य से – भारत की नई संसद भवन में लगेगा -2000 किलों वजनी पीतल का सिक्का – मार्टिन मकवाना 

एक देश – एक राष्ट – भीम रुदन कार्यक्रम 
एक देश एक राष्ट्र  “भीम रुदन”  राष्ट्रीय अभियान का राजस्थान में लॉन्चिंग
जयपुर | अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कार्यकर्ता मार्टिन मकवाना ने भारत से छुआछूत जातिवाद ख़त्म करने और भारत के संविधान में वर्णित मूल्यों को भारत सरकार सहित देश की जनता तक प्रभावी रूप से व्यवहारिक जीवन में लाने के उदेश्य से आजादी के 100 साल होने तक भारत से छुआछूत ख़त्म हो , इस उदेश्य से  जयपुर में ” भीम रुदन कार्यक्रम ” में राजस्थान के सामाजिक कार्यकर्त्ताओं को संबोधित किया |
मार्टिन मकवाना का कहना हैं की आज भारत देश को आजाद हुयें 74 वर्ष हो चुके हैं और सन  20 47  में देश  की आज़ादी को  100 साल पुरें हो जायेगें | इतने लम्बे समय के अंतराल बाद भी देश में अमानवीय छुआछूत – जातिवाद आज चरम पर हैं जो की शर्मसार करने वाली हैं |
अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कार्यकर्ता मार्टिन मकवाना
20 हजार करोड़ की लागत से बनेगा – भारत का नया संसद भवन 
केंद  सरकार द्वारा सेन्ट्रल विस्टा परियोजन के अंतर्गत 20 हजार करोड़ रुपयें की लागत से नया संसद भवन का निर्माण किया जा रहा हैं इसके साथ ही मानवाधिकार कार्यकर्त्ता मार्टिन मकवाना पुरे भारत देश से 1 रुपया और पीतल मांग रहें हैं मार्टिन का  कहना हैं की देश की नई संसद भवन में दुनिया का सबसे बड़ा 2000 किलो वजनी पीतल का सिक्का राष्टपति महोदय के माध्यम लगवाया जायेगा |
क्या ख़ास हैं 2000 किलो पीतल सिक्कें में – 
नई संसद भवन में जो पीतल का सिक्का लगाया जा रहा हैं एक तो यह दुनिया का सबसे बड़ा पीतल का सिक्का होगा , इसके साथ ही जो 2000 किलों ( पीतल  भंगार ) जनता द्वारा एकत्रित कर इस कार्य को किया जा रहा हैं जो की जन सहभागिता हैं इसके साथ ही भारत देश में जितने भी महापुरुष हुयें हैं जिन्होंने सामाजिक क्रांति के अग्रदूत रहें हैं जिनका सपना समता मूलक समाज का रहा हैं उनके चित्र अंकित होगें – जैसे  महात्मा बुद्ध ,  कबीर , रविदास , ज्योतिबा फुले , सावत्री बाई फुले , पेरियार ,  डॉ अम्बेडकर , बिरसा मुंडा आदी |
इस अवसर पर राजस्थान से 100 से अधिक सामाजिक कार्यकर्त्ता उपस्थित रहें |