अन्य राज्यों से ब्याह कर आई लड़कियों के जाति प्रमाण-पत्र में परेशानी न हो: मुख्यमंत्री

10 नवम्बर, 2017 | जयपुर

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने निर्देश दिए हैं कि अन्य राज्यों से राजस्थान में शादी कर आई विवाहित लड़कियों के जाति प्रमाण-पत्र बनाने में कोई कठिनाई नहीं आनी चाहिए। उन्होंने संभागीय आयुक्त राजेश्वर सिंह एवं प्रभारी सचिव अखिल अरोड़ा को इस संबंध में मुख्य सचिव के साथ बैठक कर इसका नियमानुसार हल निकालने के निर्देश दिए। यहाँ उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री के सामने हरियाणा एवं अन्य राज्यों से राजस्थान खासकर अलवर

ब्याह कर लाई गई विवाहित लड़कियों के जाति प्रमाण-पत्र नहीं बनाए जाने की समस्या आई तो उन्होंने इसे गंभीरता से लिया और अधिकारियों को निर्देश दिए। श्रीमती राजे गुरुवार को अलवर ज़िले के बहरोड़ विधान सभा क्षेत्र के जनसंवाद कार्यक्रम में बोल रही थीं।

आमजन की अपेक्षाएं जानने के लिए शुरू किया जनसंवाद

मुख्यमंत्री ने कहा कि आमजन मुख्यमंत्री को सीधे संवाद के माध्यम से अपनी समस्या बता सके, इसके लिए जनसंवाद कार्यक्रम शुरू किया गया। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के माध्यम से हर वर्ग की समस्याओं को जानने और उनका निराकरण करने का मौका मिलता है। सीधे संवाद में हमें विकास की ज़मीनी हकीकत का भी पता चलता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहली बार मुख्यमंत्री जनसंवाद कार्यक्रम के माध्यम से लोगों के पास पहुंचकर समस्याओं का निराकरण कर रही हैं।

पीडब्ल्यूडी के एसई से तत्काल रिपोर्ट मांगी

जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री को सर्वसमाज के लोगों ने विजय नगर गांव में सड़क नहीं होने की वजह से हो र

 

ही परेशानी से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने इसे गंभीरता से लिया और सार्वजनिक निर्माण विभाग के एसई को कार्यक्रम खत्म होते ही मौके पर जाकर पता लगाने और विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

दो दिन में कनेक्शन करने के निर्देश

खुंदरोट की ढाणी में जलापूर्ति के लिए पीएचईडी द्वारा 6 माह पहले खोदे गये ट्यूबवेल में अभी तक बिजली कनेक्शन नहीं होने की शिकायत पर मुख्यमंत्री ने बिजली विभाग के अधीक्षण अभियंता को तीन दिन में कनेक्शन देकर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए। उन्होंने बिजली मीटरों की रीडिंग कई महीनों तक नहीं की शिकायत पर विद्युत निगम के अधीक्षण अभियंता को निर्देश दिए। साथ ही वीसीआर के प्रकरणों का उचित तरीके से हल करने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने लोगों से कहा कि बिजली छीजत रोकने में पूरा सहयोग करें ताकि बिजली की सुचारू आपूर्ति की जा सके। उन्होंने अधीक्षण अभियंता को हर महीने के दूसरे एवं चौथे शनिवार को तय कार्यक्रम के अनुसार विद्युत चौपाल आयोजित कर उपभोक्ताओं को राहत देने के निर्देश दिए।

 

%d bloggers like this: