मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना  , विशेष पंजीयन शिविर 10 अप्रेल तक

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना 
 
विशेष पंजीयन शिविर 10 अप्रेल तक, उसके बाद  30 अप्रेल तक लाभार्थी करा पाएंगे रजिस्ट्रेशन
जयपुर, 4 अप्रैल। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत 10 अप्रैल तक प्रदेश की ग्राम पंचायतों और शहरी क्षेत्रों में लग रहे विशेष पंजीयन शिविरों में  रजिस्ट्रेशन का कार्य जारी है।  जिला स्तर पर जिला कलक्टर और ब्लॉक स्तर पर उपखण्ड अधिकारी के नेतृत्व में शिविर में व्यवस्थाओं का संचालन किया जा रहा है। योजना से सम्बंध किसी भी जानकारी के लिए टोल फ्री नबंर 1800 180 6127 पर भी सम्पर्क किया जा सकता है।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि 10 अप्रेल तक इन विशेष पंजीयन शिविर में रजिस्ट्रेशन का कार्य चल रहा है। उसके बाद भी लाभार्थी स्वयं ऑनलाइन अथवा ई-मित्र केन्द्र के माध्यम से 30 अप्रेल 2021 तक अपना रजिस्ट्रेशन योजना में करा सकता है। 1 मई 2021 से प्रदेश में योजना लागू हो जाएगी।
डॉ शर्मा ने बताया  कि योजना में रजिस्ट्रेशन होने के बाद 1 मई से लाभार्थी प्रदेश के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, जिला अस्पताल, सेटेलाइट अस्पताल, मेडिकल कॉलेज अस्पताल, भारत सरकार के प्रदेश में स्थित अस्पताल जैसे एम्स और रेलवे अस्पतालो के साथ-साथ योजना से जुड़े सभी निजी अस्पतालों में भी स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा। इन सभी अस्पतालों में भर्ती होने पर लाभार्थी परिवार को प्रतिवर्ष 5 लाख रूपये तक का निःशुल्क इलाज मिल पायेगा जिसमें जांच, दवाइयां, उपचार सभी शामिल होगा।
मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा और जांच योजना से मरीजो को वर्तमान में ओपीडी सेवाओ में निःशुल्क चिकित्सा का लाभ मिल रहा है। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से प्रदेश के सभी निवासी अब चिकित्सा के  ऊपर लगने वाले बड़े खर्चो से मुक्त हो पाएंगे।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरुणा राजोरिया ने बताया कि योजनांतर्गत पात्र परिवार योजना के साॅफ्टवेयर पर पंजीयन उपरांत संलग्न प्रारूप में ’पाॅलिसी दस्तावेज’ डाउनलोड कर प्राप्त कर सकता है जिसमें लाभार्थी परिवार के जनआधार एवं पाॅलिसी संबन्धित विवरण दर्ज होगा। योजना में अपने रजिस्ट्रेशन के लिये पंजीयन शिविर में लाभार्थी को अपना जनआधार कार्ड अथवा जनआधार रजिस्ट्रेशन के साथ आधार कार्ड को साथ लेकर जाना होगा। स्वास्थ्य बीमा योजना में पहले से लाभान्वित हो रहे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम और सामाजिक-आर्थिक जनगणना के पात्र परिवारों को पंजीयन कराने की आवश्यकता नही होगी।
संयुक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी काना राम ने बताया कि जिन लोगो का जनआधार कार्ड नही बना हुआ है, उन्हे पहले ई-मित्र पर जाकर अपना जनआधार कार्ड बनाना होगा। इसके लिये ई-मित्र द्वारा कोई शुल्क नही लिया जाता है। यह पूर्णतया निःशुल्क है।

छत्तीसगढ़ के सुकमा-बीजापुर में हुए नक्सली  हमले में 22 जवान शहीद , 9 नक्सली भी मारे गयें – अमित शाह का दौरा रद्द 

नक्सली हमलें के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने रद्द किया अपना असम दौरा समीक्षा बैठक जल्द –

 

Naxalite attack in Sukma-Bijapur in Chhattisgarh killed 22 jawans,

9 Naxalites also killed – Amit Shah’s visit canceled

 

 छत्तीसगढ़ नक्सली हमले के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने अपना असम दौरा रद्द कर दिया , असम में अभी विधानसभा चुनाव हो रहें हैं वहां अमित शाह को 2 चुनावी रैलियां करनी थीं लेकिन वह दिल्ली लौट आयें हैं और जल्द हमलें की समीक्षा बैठेंक करने वाले हैं |

 

 

दो चुनावी रैलिय रद्द – 

गृह मंत्री अमित शाह की असम में आज दो चुनावी रैलिय प्रस्तावित थी लेकिन नक्सली हमलें के चलते दोनों चुनावी रेलिया रद्द कर दी गई हैं अभी छतीसगढ़ में सुकमा – विजापुर में सर्च आपरेशन चल रहा हैं घटना पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा हैं की वह अभी दिल्ली लौट रहें हैं और छतीसगढ़ मुख्यमंत्री से बात चल रही हैं और  डीजीपी से मौके पर जाने को कहा है  सभी हमलें की जांच के आदेश दे दियें गयें हैं जांच

राजस्थान विधानसभा उपचुनाव –  कांग्रेस भाजपा का समीकरण बिगाड़ रहें हैं हनुमान बेनीवाल 

राजस्थान विधानसभा उपचुनाव 20 21 
कांग्रेस भाजपा का समीकरण बिगाड़ रहीं हैं हनुमान बेनीवाल की पार्टी रालोपा – 
पवन देव 
जयपुर |  राजस्थान में विधानसभा के उपचुनाव हो रहें हैं यह चुनाव जहाँ कांग्रेस भाजपा के लियें बहुत ख़ास हैं वर्तमान कांग्रेस सरकार की सरकार गिराने के घटनाक्रम के बाद तो कांग्रेस में गुटबाज़ी सचिन पायलट , अशोक गहलोत के बीच रह रह आग के बाद दुआ उठ ही रहा हैं राजस्थान प्रभारी अजय माकन भी एक सूत्र का संदेश देने की कोशिश कर हैं लेकीन सच्चाई और कुछ ही हैं जो जग ज़ाहिर हैं सुजानगढ़ में मनोज मेघवाल की नामांकन रैली भी ही स्टेज बैनर से सचिन पायलट की फोटो गायब थी  और सभा से पहले उनकी फ़ोटो को स्टेज पर लगाया गया था आलम यह हैं कांग्रेस पार्टी की आपसी फुट का |
भाजपा की नैया  क्या वसुंधरा राजे के  बीना तट तक पहुँच पायेगीं  – दबी जुबा ही सही यह बात सत्य हैं राजस्थान में भाजपा में वसुंधरा राजे से बड़ा कोई चेहरा नहीं हैं उनकी राजनीति के तरीके से सब अवगत हैं उनके कार्यकाल में ही संघ की कसमें खाने वाले पूर्व मंत्री घनश्याम तिवाड़ी की तो यह स्थिति हो गई थी उन्होंने ने कांग्रेस पार्टी जॉइन कर ली थी ऐसे कई उदाहरण हैं जो राजस्थान में वसुंधरा राजे और कांग्रेस में अशोक गहलोत के शासन काल में अव्यस्थित हुयें हैं |
क्यों खास हैं हनुमान बेनीवालराजस्थान की राजनीति में अगर अंगद की तरह अगर कोई नेता स्थापित हुआ हैं तो वह हैं हनुमान बेनीवाल 
बेनीवाल अपने छात्रसंघ जीवन से ही राजनीति में सक्रिय रहें हैं और आज भी उनका काम करने का तरीका युवा नेता जैसा ही हैं इसलिए युवाओं में उनकी पकड़ मजबूत हैं और वह मंजे हुयें राजनेता की तरह राजस्थान में जमें हैं आज वह भाजपा से समर्थन से सांसद हैं और अभी उनकी पार्टी रालोपा के आज तीन विधायक हैं
hanuman beniwal
जाट और दलितों को साधने की कोशिश – सूत्रों की मानें तो बेनीवाल इस वक्त पश्चिमी राजस्थान में जाट वोटो के साथ दलितों को साधने की कोशिश कर रहें हैं यह कड़ी थोड़ी मुश्किल हैं क्योंकि पश्चिमी राजस्थान में जाटों द्वारा दलितों पर ज्यादा अत्याचार    मारपीट की घटनाएं सामने आती हैं अगर बेनीवाल जाट और दलितों को साधने में कामयाब हो जाते हैं तो यह समीकरण भजपा और कांग्रेस दोनों के लियें ही मुश्किल रहने वाला हैं |
सुजानगढ़ में क्या हैं जातीय समीकरण –
रालोपा पार्टी के जयपुर जिला प्रवक्ता राजेश बुनकर ने कहा हैं हमारी पार्टी हमारें राष्टीय नेता सांसद हनुमान बेनीवाल जी के  नेतृत्व में राजस्थान की तीनों सीटों पर मजबूती से जनसंपर्क कर रही हैं हमारे सभी नेता – कार्यकता यहाँ जनता के बीच हैं और हम क्षेत्र में पहले भी काम कर रहें थे इसलियें जनता हम पर विश्वास कर रही हैं और हम तीनों सीटों पर विजय हासिल कर रहें हैं |

बेरोजगारों के लियें अवसर – मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विभिन्न विभागों के लिए 209 पदों के सृजन को दी मंजूरी – जानें यहाँ

इन विभागों के लिए 209 पदों का होगा सृजन –
जयपुर, 3  अप्रेल। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने युवाओं को रोजगार के अधिकाधिक अवसर उपलब्ध कराने तथा राजकार्य के सुचारू संचालन के लिए विभिन्न विभागों, प्राधिकरण तथा न्यायालयों के लिए अलग-अलग संवर्गों के 209 नवीन पदों के सृजन को मंजूरी दी है।
40 नए न्यायालयों के लिए 120 नए पद –
 मुख्यमंत्री  ने विधि एवं विधिक कार्य विभाग की ओर से 31 अक्टूबर, 2020 को जारी अधिसूचना से सृजित 40 नवीन न्यायालयों के लिए 120 विभिन्न पदों के सृजन की स्वीकृति दी है। इनमें अभियोजन अधिकारी के 12, सहायक अभियोजन अधिकारी के 28, वरिष्ठ सहायक के 12, कनिष्ठ सहायक के 28 तथा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के 40 पद शामिल हैं। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की भर्ती सेवानिवृत्त कार्मिक या रेक्सको के माध्यम से की जाएगी। मुख्यमंत्री की इस मंजूरी से नवीन न्यायालयों में अभियोजन पैरवी का कार्य सुचारू रूप से संपादित हो सकेगा।
ashok gehlot
वन्यजीवों की देखभाल के लिए 50 पदों का सृजन
मुख्यमंत्री ने वन विभाग द्वारा संधारित वन्य जीव अभयारण्य, राष्ट्रीय उद्यान, टाइगर रिजर्व, चिडियाघर एवं बायोलॉजिकल पार्क में वन्य जीवों की चिकित्सा तथा देखरेख के लिए 17 पशु चिकित्सकों तथा 33 पशुधन सहायक / पशु चिकित्सा सहायक के नवीन पदों के सृजन को मंजूरी दी है। वन विभाग में सृजित किए जाने वाले ये पद पशुपालन विभाग की कैडर स्ट्रेंथ में शामिल होंगे।
रेरा और ट्रिब्यूनल के लिए 31 पद
मुख्यमंत्री  ने राजस्थान रियल एस्टेट रेग्यूलेटरी अथोरिटी (रेरा) मं  19 पदों के सृजन को मंजूरी दी है। इनमें चेयरमेन का एक, सदस्यों के दो पद, डिप्टी रजिस्ट्रार तकनीकी, जूनियर ड्राफ्टमेन, डिप्टी रजिस्ट्रार कंप्लेंट एवं कोर्ट, लॉ ऑफिसर, सहायक लेखाधिकारी द्वितीय, कनिष्ठ सहायक कैशियर, प्रवर्तन अधिकारी, अभियोजक, ड्राइवर के एक-एक पद तथा सूचना सहायक व कनिष्ठ सहायक के दो-दो पद एवं स्टेनोग्राफर के तीन पदों की स्वीकृति दी गई है। मुख्यमंत्री ने राजस्थान रियल एस्टेट अपीलेट ट्रिब्यूनल में 12 नवीन पदों के सृजन की भी स्वीकृति दी है। इनमें रजिस्ट्रार, सहायक लेखाधिकारी द्वितीय, रीडर तथा गार्ड का एक-एक पद तथा शीघ्रलिपिक, सूचना सहायक, कनिष्ठ सहायक एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के दो-दो पद शामिल हैं।
अजमेर मेडिकल कॉलेज के लिए चिकित्सक शिक्षकों के 8 पद
श्री गहलोत ने चिकित्सा महाविद्यालय अजमेर में स्नातक सीटों में वृद्धि के कारण एमसीआई के नियमों के अनुरूप आठ नए पदों के सृजन को भी मंजूरी दी है। इनमें एनाटॉमी विभाग में सहायक आचार्य का एक, वरिष्ठ प्रदर्शक के दो, फार्माकोलॉजी विभाग में सहायक आचार्य का एक, वरिष्ठ प्रदर्शक का एक तथा कम्यूनिटी मेडिसिन विभाग में सह-आचार्य, सहायक आचार्य एवं वरिष्ठ प्रदर्शक का एक-एक पद शामिल है।

प्रधानमंत्री मोदी का बांग्लादेश दौरा – हिंसा में 12 लोगों की मौत , ममता बेनर्जी ने उठायें सवाल , चुनाव आयोग चुप – ख़ास रिपोर्ट 

कट्टरपंथीयों ने बांग्लादेश को किया आग के हवाले – शेख हसीना की मुश्किलें बढ़ी 

 

प्रधानमंत्री मोदी के दौरे के बाद बांग्लादेश में भारी हिंसा हो रही हैं और अभी तक 12 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी हैं देश में भी उठ रहें हैं सवाल – 

 

 

प्रधानमंत्री मोदी के बांग्लादेश  दौरे का विरोध रुकने का नाम ही नहीं ले रहा –  कट्टरपंथीयों ने एक बड़े मंदिर को बनाया निशाना माँ काली और भगवान कृष्‍ण की मूर्ति तोड़ी धार्मिक उन्माद चरम पर 

 

 

  • प्रधानमंत्री मोदी के बांग्लादेश से वापस जाते ही चटगांव क्षेत्र में स्थित ब्राह्मनबरिया में जमकर हिंसा
  • बांग्‍लादेश के मुस्लिम कट्टरपंथी गु‍ट हिफाजत-ए-इस्‍लाम के हथियार बंद समर्थकों ने भारी हिंसा की
  • इन कट्टरपंथियों ने एक मंदिर को तहस-नहस कर दिया और मां काली और श्रीकृष्‍ण की मूर्ति को तोड़ा

 

 

 

 

पवन देव 

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री मोदी के बांग्लादेश दौरे का बांग्लादेश के चरमपंथी लोग जमकर विरोध कर रहें  हैं बांग्लादेश हिंसा अब  धार्मिक हिंसा का रूप ले रही हैं कई जगह तोड़फोड़ , लूट हो रही हैं तो चरमपंथी और पुलिस के बीच भी हिंसा देखने को मिल रही हैं कई ट्रेने रोक दी गई हैं तो कई ऑफिस में भी तोड़फोड़ हो चुकी हैं |

 

हिफाजत-ए-इस्‍लाम के समर्थकों ने पुलिस स्‍टेशन, पब्लिक ऑफिस, प्रधानमंत्री शेख हसीना की पार्टी के कार्यालय और बसों को जमकर निशाना बनाया जा रहा हैं  इन लोगों ने एक ट्रेन के 15 डिब्‍बों को तहस नहस कर डाला और उसकी 117 खिड़क‍ियों को तोड़ दिया इसके साथ  इन कट्टरपंथियों के आतंक का असर यह रहा कि ऑफिस, पुलिस स्‍टेशन जल रहे थे लेकिन फायर ब्रिगेड की टीम चाहकर भी वहां तक जाने की हिम्‍मत नहीं जुटा पाई यह हिंसात्मक  मंजर बांग्लादेश में साफ़ दिख रहा हैं हिंसा की मुख्य वजह प्रधानमंत्री मोदी को निमन्त्रण देना हैं क्योकिं मुस्लिम समुदाय के लोग मोदी का विरोध कर रहें थे लेकिन दौरे को टाला नहीं गया |

 

ममता बेनर्जी ने उठायें सवाल – 

पश्चिम बंगाल में चल रहें चुनावों के बीच प्रधानमंत्री मोदी के बांग्लादेश दौरे पर  ममता बेनर्जी ने सवाल उठायें हैं की प्रधानमंत्री चुनाव को प्रभावित करने के लियें आंचार संहिता लगने के बाद बांग्लादेश देश दौरा करते हैं और उनके भाषण और कार्यक्रम सीधे सीधे मतदाता को प्रभावित कर रहें हैं  दीदी ने तो यह तक कह दिया हैं की मोदी जी का वीजा रद्द होना चाहियें |

 

 

भाजपा और मोदी की पुरानी रणनीति हैं चुनावों को प्रभावित करने की – 

 

ऐसा पहली बार नहीं हुआ हैं की चुनाव समय में प्रधानमंत्री मोदी अन्य देशों की यात्रा करते हो गौरतलब हैं की जब गुजरात में चुनाव हो रहें थे और चुनाव प्रचार थम चूका था मोदी जी ने नेपाल का दौरा किया था और धार्मिक स्थलों की यात्रा की थी जिसका भारत के तमाम बड़े टीवी चेनलों ने लाइव प्रसारण किया था कुल मिलाकर भाजपा का हिन्दू एजेंडा साफ़ वोटरों को प्रभावित कर रहा हैं |

 

 

for Advertainment –

 

 

 

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव – पहले चरण में 79 .79 % हुई वोटिंग , कई जगह विवाद

 

 

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में पहलें चरण के मतदान बूथ कैप्चरिंग की कोशिश   ई वी एम्  पर फिर उठे सवाल –

 

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के पहले चरण की 30 सीटों पर वोटिंग हुई। असम में 47 सीटों पर भी वोट डाले गए। बंगाल में मुख्य मुकाबला तृणमूल कांग्रेस (TMC) और बीजेपी में माना जा रहा है। इस चरण में 73 लाख से अधिक मतदाताओं ने 191 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला किया। पहले चरण में पुरुलिया जिले की सभी नौ सीटों, बांकुड़ा की चार सीटों, झारग्राम की चार सीटों, पश्चिम मेदिनीपुर की छह और पूर्व मेदिनीपुर की सात सीटों पर मतदान हुआ।

 

 

 

कोविड-19 के दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन करते हुए मतदान हुआ। जानें मतदान से जुड़े लाइव अपडेट्स

 

प्रथम चरण के चुनाव में कुछ जगह बूथ कैप्चरिंग की शिकायत के साथ ही कुछ अन्य विवाद सामने आई हैं

 

मुख्य बातें – 

ममता बनर्जी रविवार से अगले पांच तक नंदीग्राम में ही रहकर चुनाव प्रचार करेगी इसके साथ ही एक्टर मिथुन चक्रवती , अमित शाह आगामी दो दिन तक रोड शो करेगें , दुसरे चरण का चुनाव प्रचार मंगलवार को खत्म हो जायेगा – गुरुवार को मतदान पड़ेगें

 

केलाश विजयवर्गीय ने कहा – 6 साल से बंगाल से पहला चुनाव हुआ जिसमे हिंसा और धांधली की कम घटनायें हुई , दुसरे चरण में एसी 10 फीसदी घटनायें भी न हो , उसके लियें हमने चुनाव आयोग से असामाजिक तत्वों पर करवाई करने की मांग की |

 

 

 

 

 

केंद्रीय विद्यालय में एडमिशन पंजीकरण पोर्टल 1 से 19 अप्रैल तक खुला रहेगा –

केंद्रीय विद्यालय (केवी) में एडमिशन के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया 1 अप्रैल से शुरू होगी

पंजीकरण पोर्टल 1 से 19 अप्रैल तक खुला रहेगा

देश के सभी केंद्रीय विद्यालय(केवी) में प्रथम कक्षा के लिए ऑनलाइन पंजीकरण होगा

नई दिल्ली |  शैक्षणिक वर्ष 2021-2022 के लिए केंद्रीय विद्यालय की प्रथम कक्षा में एडमिशन के लिए ऑनलाइन पंजीकरण 1 अप्रैल 2021 से शुरू होगा जबकि दूसरी कक्षा और इससे ऊपर की कक्षाओं के लिए पंजीकरण ऑफलाइन मोड में 8 अप्रैल 2021 से शुरू किए जाएंगे।

पहली क्लास के लिए ऑनलाइन पंजीकरण 1 अप्रैल 2021 को सुबह 10:00 बजे से शुरू होगा और 19 अप्रैल 2021 को शाम 7:00 बजे बंद होगा। एडमिशन के लिए अधिक जानकारी https://kvsonlineadmission.kvs.gov.in वेबसाइट पर या एंड्रॉइड मोबाइल ऐप के जरिए भी प्राप्त की जा सकती है।

शैक्षणिक वर्ष 2021-2022 के लिए प्रथम कक्षा मेंकेवीएस ऑनलाइन एडमिशन हेतु ऐप डाउनलोड और इंस्टॉल करने के लिए निर्देश और आधिकारिक एंड्रॉइड मोबाइल ऐप https://kvsonlineadmission.kvs.gov.in/apps और गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध होंगे।

 

 

दूसरी कक्षा और इससे ऊपर की कक्षाओं के लिए रजिस्ट्रेशन सीटों की उपलब्धता के आधार पर 08.04.2021 को सुबह 8 बजे से 15.04.2021 को शाम 4 बजे तक ऑफलाइन मोड में मंगाए जाएंगे।

ग्यारहवीं कक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन फॉर्म्स,केवीएस (एचक्यू) की वेबसाइट (https://kvsangathan.nic.in)पर उपलब्ध 2021-2022 में एडमिशन के लिए तय शेड्यूल, के अनुसार विद्यालय की वेबसाइट से डाउनलोड किए जा सकते हैं।

सभी कक्षाओं के लिए आयु की गणना 31.03.2021 तक की जाएगी। सीटों का आरक्षण वेबसाइट (https://kvsangathan.nic.in) पर उपलब्ध केवीएस एडमिशन दिशानिर्देश के अनुसार होगा।

कोविड-19 की वर्तमान स्थिति को देखते हुए, केवीएस सभी अभिभावकों से अनुरोध है कि वह सक्षम प्राधिकारी (केंद्र/राज्य/स्थानीय) द्वारा जारी निर्देशों का पालन करें।

वर्तमान में, केंद्रीय विद्यालय संगठन 1247 केवी की श्रृंखला चला रहा है।

 

 

 

 

 

राजस्थान के हालातों पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, महिला आयोग चिंतित,  गहलोत सरकार संवेदनहीन: डाॅ. सतीश पूनियां

प्रदेश में कानून व्यवस्था के हालात भयावह, मानवाधिकार आयोग, महिला आयोग के बाद जरूरत हुई तो राष्ट्रपति, राज्यपाल का दरवाजा खटखटाएंगे: डाॅ. पूनियां

जयपुर, 27 मार्च। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने भाजपा के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के बाद प्रदेश की बिगड़ती कानून-व्यवस्था पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग द्वारा राज्य सरकार को जारी किए गए नोटिस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि प्रदेश के बिगड़े हालातों पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग और महिला आयोग चिंतित हैं, पर राज्य की कांग्रेस सरकार संवेदनहीन बनी हुई है।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि कोटा जिले के सुकैत में 15 साल की एक दलित बालिका से 9 दिन तक 3 दर्जन से ज्यादा अपराधियों द्वारा बलात्कार किए जाने की घृणित घटना के बाद भाजपा का एक जांच दल पीड़िता से मिलने भेजा था, जिसमें पार्टी की राष्ट्रीय मंत्री डाॅ. अलका गुर्जर, प्रदेश मंत्री जितेंद्र गोठवाल, महिला मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अलका मूंदड़ा, पूर्व प्रवक्ता लक्ष्मीकांत भारद्वाज शामिल थे। इन्होंने कांग्रेस सरकार के राज में अपराधियों द्वारा एक 15 साल की दलित लड़की के साथ हुए घिनौने अत्याचार और पुलिस की भूमिका पर रिपोर्ट दी।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि इस रिपोर्ट और प्रदेशभर में सामने आ रही घटनाओं के बाद प्रदेश भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल, जिसमें डाॅ. अलका गुर्जर,  सांसद दीया कुमारी, जसकौर मीणा, विधायक अनिता भदेल, डाॅ. अलका मूंदड़ा और लक्ष्मीकांत भारद्वाज को भेजा, उन्होंने राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा से मुलाकात कर उन्हें प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ घट रही घटनाओं से अवगत करवाया, इस पर संज्ञान लेने का आग्रह किया।

रेखा शर्मा ने घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि वे खुद 6 अप्रैल को राजस्थान का दौरा करेंगी और डीजीपी और मुख्य सचिव से रिपोर्ट लेंगी, आवश्यकता हुई तो पीड़ितों से मुलाकात करेंगी। प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के वरिष्ठ सदस्य जस्टिस पी.सी. पंत से भी मुलाकात की, उन्हें भी राजस्थान की परिस्थितियों से अवगत करवाकर यहां घट रही प्रमुख घटनाओं का ब्यौरा दिया और संज्ञान लेने का आग्रह किया, जिस पर उन्होंने राज्य सरकार के मुख्य सचिव व पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी किया है।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि कांग्रेस राज में प्रदेश के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। महिलाओं, छोटी बच्चियों, दलितों पर अत्याचार की शर्मनाक घटनाएं बेतहाशा बढ़ रही हैं। कई शहरों में व्यापारियों की हत्या व लूट जैसी गंभीर अपराध घटित हो रही हैं। प्रदेश की जनता खुद को डरा हुआ महसूस कर रही है, अपराधियों के हौसले बुलंद है, सरकार इन पर अंकुश लगाना तो दूर, एक पुलिस अधिकारी, जिसने डीसीपी के आॅफिस में बलात्कार पीड़ित महिला के साथ रेप किया, उसको सरकार सदन में बयान देकर बर्खास्त करने की बात कहती है, किंतु सदन के बाहर उसी आरोपी अधिकारी को आवश्यक सेवानिवृत्ति देकर पुरस्कृत कर देती है।

 

 

डाॅ. पूनियां ने कहा है कि भाजपा सड़क से सदन तक इन मुद्दों को उठा रही है, रोज जनता पर हो रहे अत्याचार की घटनाओं पर भाजपा चुप नहीं रहेगी, सरकार ने कानून व्यवस्था नहीं सुधारी तो लोगों की जान-माल की सुरक्षा और बहन-बेटियों पर हो रहे अत्याचार की घटनाओं पर राज्यपाल और राष्ट्रपति से मिलकर उनसे दखल का आग्रह करेंगे।

गोविन्ददेवजी मन्दिर परिक्षेत्र में बाल भिक्षावृत्ति एवं बाल श्रम रोकथाम हेतु अभियान का संचालन –

गोविन्ददेवजी मन्दिर परिक्षेत्र में बाल भिक्षावृत्ति एवं बाल श्रम रोकथाम हेतु अभियान का संचालन
– दुकानदारों से बच्चों से काम नहीं कराने के शपथ पत्र भरवाए
-पांच दिवसीय अभियान के दौरान वाहन रैली, हस्ताक्षर अभियान एवं अन्य गतिविधियां
जयपुर, 26 मार्च। जिला बाल संरक्षण इकाई एवं बाल अधिकारिता विभाग, जयपुर द्वारा जिले में बाल भिक्षावृत्ति एवं बाल श्रम की रोकथाम के लिए 22 मार्च से 26 मार्च तक विशेष जागरूकता अभियान का संचालन किया गया।
सहायक निदेशक, जिला बाल संरक्षण इकाई  रोहित जैन ने बताया कि प्रथम दिन गोविन्द देवजी मन्दिर एवं आस-पास के क्षेत्र से बाल भिक्षावृत्ति एवं बाल श्रम में लिप्त बच्चों को मुक्त कराया गया तथा आस-पास के क्षेत्र में आवासरत व्यक्तियों, दुकानदारों एवं जनसामान्य से ऎसे बच्चों की सूचना चाइल्ड हैल्पलाइन के दूरभाष नम्बर 1098 पर देने की अपील की गई।
साथ ही विभिन्न संस्थाओं के सहयोग से मन्दिर के आस-पास संचालित दुकानों एवं प्रतिष्ठानों के मालिक एवं दुकानदारों से 18 वर्ष के कम उम्र के बच्चों से काम नहीं कराने, उन्हें भिक्षा के रूप में धनराशि नहीं देने तथा बाल श्रम एवं बाल भिक्षावृत्ति रोकथाम हेतु सहयोग करने हेतु शपथ पत्र पर हस्ताक्षर कराकर सहमति प्राप्त की गई।
 जैन ने बताया कि अभियान के दौरान चाइल्ड लाइन, शिक्षा विभाग, श्रम विभाग, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अधिकारियों एवं स्वयं सेवी संस्थाओं के सहयोग से ओपन हाउस, जागरूकता कार्यक्रम, आउटरीच, हस्ताक्षर अभियान, व्यापार मण्डल की बाल भिक्षावृत्ति एवं बाल श्रम रोकथाम हेतु सहमति एवं सहयोग हेतु शपथ ग्रहण सहित विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया गया। सड़क पर रहने वाले परिवारों की काउंसलिंग कर ऎसे परिवारों के साथ आवासरत बच्चों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं।
अभियान के द्वितीय एवं तृतीय दिवस को जिले में आईइण्डिया एवं जनकला साहित्य मंच संस्था द्वारा चाइल्ड लाइन के सदस्यों द्वारा गोविन्ददेवजी मन्दिर के आस-पास के क्षेत्र में बाल श्रम एवं बाल भिक्षावृत्ति रोकथाम हेतु जागरूकता के लिए ओपन हाउस गतिविधि एवं हस्ताक्षर अभियान का संचालन किया गया। इस दौरान जिले में कार्यरत टाबरसंस्था, जनकला साहित्य मंच संस्था, अन्ताक्षरी फाउण्डेशन एवं बचपन बचाओं आंदोलन के प्रतिनिधियों द्वारा बाल श्रम एवं बाल भिक्षावृत्ति में लिप्त बच्चों को मुक्त कराया गया।
जागरूकता अभियान के चतुर्थ दिवस जलेब चौक परिसर में आवासरत परिवारों, कार्यरत व्यवसायियों, माणक चौक पुलिस थानेे के पुलिस अधिकारियों, गोविन्ददेवजी मन्दिर के पुजारियों के साथ सामूहिक संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
जागरूकता अभियान के अन्तिम दिवस 26 मार्च को जिला बाल संरक्षण इकाई द्वारा वाहन रैली का आयोजन किया गया जिसे अतिरिक्त जिला कलक्टर दक्षिण  शंकरलाल सैनी द्वारा हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया।

राजस्थान विधान सभा उप चुनाव – तीसरे दिन 5 नामांकन पत्र हुए दाखिल

विधान सभा उप चुनाव-2021
तीसरे दिन 5 नामांकन पत्र हुए दाखिल
तीनों विधानसभाओं में नामांकन पत्र दाखिल करने वाले उम्मीदवारों की संख्या 6 हुई।
जयपुर, 25 मार्च। प्रदेश की तीन विधानसभाओं के लिए होने वाले उपचुनाव में नामांकन के तीसरे दिन 5 उम्मीदवारों ने 6 नाम निर्देशन पत्र (नोमिनेशन) दाखिल किए हैं। इन सहित अब तक 6 उम्मीदवारों द्वारा 7 नामांकन पत्र दाखिल करवाए जा चुके हैं।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता ने बताया कि मंगलवार को लोक अधिसूचना जारी होने के साथ ही सुजानगढ़, राजसमंद और सहाड़ा के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने का कार्य आरंभ हो गया था। गुरुवार को भीलवाड़ा के सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी  दिनेश कुमार शर्मा और राजसमंद विधानसभा से 3 निर्दलीय उम्मीदवार  मोहन लाल,  गिरिराज कुमावत और  नीरूराम कापरी ने नामांकन पत्र दाखिल किया। चुरू के सुजानगढ़ से निर्दलीय प्रत्याशी  त्रिलोकचंद मेघवाल ने नामांकन दाखिल किया है। इस तरह आज 5 और कुल 6 उम्मीदवारों द्वारा 7 नामांकन पत्र दाखिल किए जा चुके हैं।
 गुप्ता ने बताया कि उम्मीदवार 30 मार्च तक नाम निर्देशन पत्र दाखिल कर सकते हैं। प्राप्त सभी नामांकन पत्रों की 31 मार्च को संवीक्षा की जाएगी, जबकि 3 अप्रेल तक उम्मीदवार नाम वापस ले सकेंगे। 17 अप्रेल को प्रातः 7 बजे से सायं 6 बजे तक मतदान होगा, जबकि मतगणना 2 मई को करवाई जाएगी।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी बताया कि आमजन नामांकन की स्थिति, उम्मीदवारों द्वारा अपलोड किए गए एफिडेविट आदि सभी तरह की जानकारी विभाग की वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि विभाग की वेबसाइट ceorajasthan.nic.in पर ‘एसेंबली बाइ इलेक्शन-2021‘ लिंक दिया है, जहां उप चुनाव से जुड़ी तमाम तरह की जानकारी उपलब्ध है।