चुनाव से पहले राजस्थान में BJP ने चला मास्टरस्ट्रोक –

जयपुर। राजस्थान में विधानसभा चुनाव से पहले होने वाले टिकट वितरण के लिए सत्तारुढ़ भाजपा ने फिर से सत्ता में वापसी करने की कोशिश कर दी है। आपको बता दें कि इस साल दिसंबर में राज्य में नई सरकार शपथ लेगी। इससे पहले राज्य में होने वाले चुनाव में टिकट वितरण के लिए भाजपा ने तैयारी शुरु कर दी है। जिलों में पार्टी और मौजूदा विधायकों की स्थिति जांचना शुरू कर दी है। इसके लिए हर जिलें में बीजेपी नेताओं के तीन दिन के प्रवास भी हो रहे है। इस प्रवास के दौरान भाजपा ने अपने आला नेताओं को विभिन्न जिलों में भेजा है। जहां वे अपने विधायकों की स्थिति का आंकलन करने के साथ-साथ अपनी पार्टी के लिए जिताउ प्रत्याशियों की संभावनाओं की तलाश शुरु करेंगें।

अपने प्रवास के दौरान पार्टी के नेता देखेंगे कि आने वाले चुनवा के लिए विभिन्न विधानसभा क्षेत्र से जिताऊ प्रत्याशी कौन होगा। आपको बता दें आला नेताओं की ये रिपोर्ट प्रदेश नेत्तृव के साथ राज्य की मुख्यमंत्री के साथ-साथ आलाकमान को भी भेजी जाएगी। जानकारी के अनुसार पार्टी ने मंत्रियों को उनके जिले न भेजकर दूसरे जिलों में भेजा है। पार्टी का मानना है कि अगर कहीं खामी पाई जाती है तो उसके सुधार के प्रयास पहले ही किए जा सकेंगे।

आपको बता दें कि हाल में भाजपा ने मास्टरस्ट्रोक खेलते हुए राष्ट्रीय जनता पार्टी के सह संयोजक किरोड़ी लाल मीणा का विलय भाजपा में कराने के साथ उन्हे राज्यसभा भेजकर मीणा समाज को अपनी ओर करने का प्रयास किया है।

राजस्थान में उपचुनाव : फिल्म ‘पद्मावत’ BJP के लिए बन गई है बड़ी मुसीबत

जयपुर। राजस्थान के अजमेर और अलवर लोकसभा और मांडलगढ़ विधानसभा उपचुनाव में एक बड़ा मुद्दा फिल्म ‘पद्मावत’ भी बन गई है। वसुंधरा सरकार की कोशिश है किसी तरह से इस फिल्म की रिलीज पर रोक लग जाए लेकिन अभी तक नाकामी हाथ आई है। उधर राजपूत समाज का लगातार प्रदर्शन कर रहा है। राजपूत समाज राज्य सरकार से गैंगेस्टर आनंदपाल सिंह के एन्काउंटर से भी नाराज है। वो काफी दिनों से इस मुठभेड़ की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रहे हैं।

वहीं यह चुनाव वसुंधरा राजे और सचिन पायलट के लिए नाक की लड़ाई बन चुका है। सीएम वसुंधरा को यह साबित करना है कि उनकी पकड़ अभी बरकरार है तो पिछले चुनाव में हार का स्वाद चख चुके सचिन पायलट के लिए हर हाल में जीत जरूरी है। माना जा रहा है कि फिल्म पद्मावती की वजह से यहां समीकरण बदले से नजर आ रहे हैं।

 

ये उपचुनाव इसलिए भी खास है क्योंकि राजस्थान में दस महीने में विधानसभा चुनाव होने हैं. ऐसे में अजमेर लोकसभा का उपचुनाव मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है। अजमेर में करीब साढ़े अठारह लाख मतदाता है जिसमें से २ लाख करीब राजपूत हैं। इस सीट पर बीजेपी ने संवरलाल जाट के बेटे को टिकट दिया है। संवरलाल जाट के निधन से ही यह सीट खाली हुई थी। कांग्रेस यहां पर वसुंधरा राजे सरकार के चार सालों के कामकाज का मुद्दा बना रही है. जबकि सचिन पायलट इसी सीट से 2014 का चुनाव हार चुके हैं।

उप चुनावों को प्रभावित करने के लिए किया बाड़मेर रिफाईनरी का शुभारम्भ : पायलट

जयपुर | कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलेट ने आज बाड़मेर रिफाइनरी के शुभ आरम्भ पर प्रधानमंत्री मोदी द्वारा राजस्थान की जनता को गुमराह करने वाला कहा |  पायलेट ने कहा की भाजपा सरकार राजस्थान उपचुनावों को प्रभावित करने के किये रिफाइनरी का शुभ प्रारम्भ का कार्यक्रम इस समय रखा है ताकि चुनाव ओ, को प्रभावित कर सके  |

श्री पायलट ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार इस बात से अवगत थी कि जनवरी माह में उप चुनाव के लिए तिथियां घोषित हो सकती है इसलिए चुनावों को प्रभावित करने के लिए इस कार्यक्रम को निर्धारित किया गया था।

उन्होंने कहा कि जिस रिफाईनरी प्रोजेक्ट को लेकर गत् चार वर्षों तक भाजपा सरकार द्वेषता का परिचय देती रही उसी रिफाईनरी प्रोजेक्ट को अब प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री मील का पत्थर करार दे रहे हैं, जबकि सच्चाई यह है कि चार वर्षों तक लम्बित रखने के बावजूद एमओयू में कोई भी विशेष परिवर्तन देखने को नहीं मिल
रहा है जैसा कि मुख्यमंत्री दावा कर रही थी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 की तुलना में अब रिफाईनरी प्रोजेक्ट की कीमत 6000 करोड़ रूपये ज्यादा हो गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का पूरा भाषण राजनीतिक था, इससे स्पष्ट

हो गया कि उप चुनावों के क्षेत्रों की जनता को प्रभावित करने के मद्देनजर प्रदेश की भाजपा सरकार ने रिफाईनरी योजना के शुभारम्भ का
बहाना बनाया है। उन्होंने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि प्रधानमंत्री ने कांग्रेस व अकाल
को जुड़वा भाई बताया है जो भाजपा की जनता को भ्रमित करने की नीति का द्योतक है।
उन्होंने कहा कि यदि रिफाईनरी प्रोजेक्ट का चार साल पहले शुभारम्भ कर दिया जाता तो
आज प्रदेश को लाखों रोजगारों की सोगात मिलने के साथ ही बदहाली से जूझ रहे राजकोष को
भी सम्बल मिलता और विकास की परियोजनायें गति प्राप्त कर सकती थी। उन्होंने कहा कि
रिफाईनरी शुभारम्भ का यह कार्यक्रम पूरी तरह से उप चुनावों को प्रभावित करने के उद्देश्य से
रखा गया है, परन्तु देश व प्रदेश की जनता भाजपा के सभी हथकण्डों को समझती है, इसलिए
ऐसे कार्यक्रमों से जनता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि तीनों उप चुनावों की सीटें

कांग्रेस जीतेगी और आगामी समय में होने वाले विधानसभा चुनावों में भी कांग्रेस की जीत से
जनता को भाजपा की अराजकता से मुक्ति मिलेगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने किया बाड़मेर रिफानरी शुभारम्भ – मायने कुछ ख़ास

जयपुर | राजस्थान के  बाड़मेर जिले के पचपदरा में प्रधानमंत्री मोदी  ने आज बाड़मेर  रिफायनरी का शुभारम्भ किया| इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री व् मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे व् अन्य मंत्री शामिल हुवे |

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा की इस योजना से राज्य को पेट्रोल और गैस के नये आयाम प्राप्त होंगे और प्रधानमंत्री मोदी ने कोंग्रेस सरकार पर कटाक्ष करते हुवे कहा की हमारी सरकार काम करती है  पिछली सरकार की तरह पत्थर रख के फोटो नही खिचवाती| उन्होंने ये भी कहा की कोंग्रेस सरकार सिर्फ जूठे वादे और बड़ी बड़ी बातें करती है  | कांग्रेस ने रेल बजट में 1500 से ज्यादा ऐसे कही घोषणा की जिनका जमीनी स्तर पर कोई  कोई  नामो निशान ही नही है |

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा की आयल रिफायनरी से  राज्य में कई  नये रोजगार चालू होंगे, और प्लास्टिक,पैन्ट, जैसी नई कंपनिया खुलेगी जिससे राज्य में 10,000 से भी ज्यादा लोगो को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे | मोदी जी के राजस्थान आने से वसुंधरा राजे खुश नजर आई |

कांग्रेस सरकार में सोनिया गाँधी कर चुकी थी रिफाइनरी का शिल्यान्यास – कांग्रेस सरकारमें  कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने बाड़मेर  रिफायनरी योजना का शिलान्यास किया था| किन्तु उस वक़्त राजस्थान में अशोक गहलोत  की सरकार ने कुछ कारणों की वजह से योजना को आगे नही बड़ा पाई थी| और 2013 में भाजपा सरकार आते ही वसुंधरा राजे ने इस परियोजना को यह कह कर बंद कर  दिया था की इस योजना से सरकार को नुकसान है | किन्तु आज मुख्यमंत्री राजे ने प्रधानमंत्री मोदी जी से बाड़मेर रिफायनरी परियोजना का शुभ आरभ के नाम पर आज दोबारा उद्घाटन करा दिया |

यह परियोजना 43000 करोड़ की बतायी जा रही है | यह राज्य का अब तक का सबसे बड़ा निवेश है  | इसमें 74% तेल कंपनी का और 26% राज्य सरकार का हिस्सा है |और यह योजना अनुमानित 4 साल में पूरी हो जाएगी |

कांग्रेस सरकार के वक़्त भी सरकार का 26% ही फायदा था फिर अब कैसे सरकार को ज्यादा फायदा हो रहा हे इस योजना से……..

क्या होगा राजस्थान पर असर –

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का कहना है रिफानरी से राजस्थान की अर्थव्यस्था पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा , लोगो को रोजगार की प्राप्ति होगी साथ ही राजस्थान में निवेश को बढ़ावा मिलेगा |

क्यों खास है मोदी जी का राजस्थान आना –

अब उन्हें राजस्थान में हो रहे उप चुनावो में भी अपना दम – ख़म दिखने की नोबत आ गई है इसलिए  मात्र तीन उपचुनाव के लिए प्रधानमंत्री मोदी राजस्थान में चुनावी रैली को संबोधन करने आ रहे है जिसका कारण बाड़मेर में रिफाइनरी का उद्घाटन बताया जा रहा है अब पता नहीं रिफाइनरी का उद्घाटन कितनी बार किया जाएगा,  लेकिन मोदी जी राजस्थान केवल उपचुनाव को लेकर आ रहे | और बाड़मेर में रिफायनरी का उद्घाटन एक बड़ा राजनीतिक कारण हो सकता  है |

 

बसपा सुप्रीमो मायावती का 62 वां जन्मदिवस आज जयपुर में मनाया गया-

जयपुर | बसपा सुप्रीमो मायावती का 62 वां जन्मदिवस आज जयपुर में मनाया  गया | बसपा पार्टी में बहन जी के जन्म दिवस को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाया |  मुख्य समारोह में हजारो की संख्या में पार्टी कार्यकर्त्ता पहुँचे |

मुख्य अतिथि धर्मबीर सिंह अशोक जी व् अन्य पदाधिकारियों में केक काट कर बहन जी का जन्म दिवस मनाया

मुख्य अतिथि धर्मबीर सिंह अशोक ने कहा की आगामी बहन जी के जन्म दिवस तक राजस्थान में बसपा की सरकार पूर्ण बहुमत से होगी |

गोरतलब है की धर्म वीर अशोक जी के नेतत्व पिछले एक साल से बसपा पार्टी राजस्थान में “आवों गावों की और चले “कार्यक्रम के तहत ग्रामीण क्षेत्रो में निरंतर जनसंपर्क अभियान चला रही है |

कांग्रेस व् भाजपा पर प्रहार  – धर्म वीर अशोक ने कार्यकर्त्ताओ व् जनता  से कहा की लम्बे समय से राज्य में भाजपा और कांग्रेस विकास के नाम पर जनता से छल कर रही है अब राजस्थान की जनता इन भ्रष्ट लोगो के जुमलो से त्रस्त हो चुकी है राज्य की जनता बदलाव चाहती है |

कार्यक्रम में राजस्थान प्रदेशाध्यक्ष सीता राम मेघवाल , प्रभारी जय प्रकाश ,जयपुर शहर अध्यक्ष  कमल वर्मा ,पार्टी कोषाध्यक्ष मुकेश कुमार मेघवंशी डॉ विजय प्रताप ,दूंगा राम आदि लोग उपस्थित रहे | 

बसपा इस बार राजस्थान में पूर्ण बहुमत से सरकार बना रही है और समाज के दबे -कुचले ,मजदूर वर्ग के लोगो को प्रतम मानते हुवे उन के विकास के लिए प्रतिबद्ध है |

story by – lekhraj poniya 

politico24x7.com / news team

तमिलनाडु : RK नगर उपचुनाव से पहले जयललिता का वीडियो जारी, EC ने लिया संज्ञान

चेन्नई। तमिलनाडु में आरके नगर उपचुनाव के ठीक पहले राज्य की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता का एक वीडियो जारी हुआ है। यह वीडियो तब का है जब जयललिता इलाज के लिए अपोलो अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। वीडियो दिनाकरण गुट के एक नेता पी वेट्रीवेल ने जारी किया है। इसके सामने आने के बाद पूरे मामले में चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया है और दिनाकरण पर केस दर्ज हो सकता है।
amzn_assoc_ad_type =”responsive_search_widget”; amzn_assoc_tracking_id =”politico24x7-21″; amzn_assoc_marketplace =”amazon”; amzn_assoc_region =”IN”; amzn_assoc_placement =””; amzn_assoc_search_type = “search_widget”;amzn_assoc_width =”auto”; amzn_assoc_height =”auto”; amzn_assoc_default_search_category =”Shoes”; amzn_assoc_default_search_key =””;amzn_assoc_theme =”light”; amzn_assoc_bg_color =”FFFFFF”; //z-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&Operation=GetScript&ID=OneJS&WS=1&Marketplace=IN
आरके नगर उपचुनाव के लिए प्रचार थम चुका है और गुरुवार को मतदान होना है। ऐसे में जयललिता का यह वीडियो जारी किए जाने को आयोग ने आचार संहिता का उल्लंघन माना है। जो वीडियो जारी हुआ है उसमें जयललिता जूस पीती नजर आ रही हैं। उनकी हालत काफी नाजुक दिख रही है। वीडियो आरके नगर उपचुनाव के ठीक एक दिन पहले जारी किया गया है जिसके बाद सियासी पारा गरमाने लगा है। माना जा रहा है कि दिनाकरण गुट ने जनता की सहानुभूति पाने की कोशिश में यह वीडियो जारी किया है।

 

वीडियो जारी करने के बाद पी वेटरवेल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह वीडियो तब का है जब जयललिता का अपोलो अस्पताल में इलाज चल रहा था। यह झूठ है कि उस दौरान उनसे कोई मिलने के लिए नहीं गया। वेटरीवेल ने आगे कहा कि हमारे पास वीडियो प्रूफ है और इसे जारी करने से पहले हमने कई दिनों तक इंतजार किया लेकिन अब हमारे पास कोई विकल्प नहीं बचा। जांच कमिशन ने अभी तक हमें समन नहीं किया है लेकिन हमे बुलाया जाता है तो हम यह वीडियो उन्हें सौंप देंगे।

 

बता दें कि पिछले साल 22 सितंबर को जयललिता की तबीयत बिगड़ने के बाद 5 दिसंबर को इलाज के दौरान उनका निधन हो गया था। इसके बाद से ही लगातार उनके इलाज और निधन को लेकर कई तरह के सवाल राजनीतिक दल उठाते आ रहे हैं। इसके चलते इस पूरे मामले की जांच के लिए एक जांच आयोग का भी गठन किया गया है।

 राजस्थान विश्व विधालय छात्रसंघ चुनाव अध्यक्ष – पवन यादव

जयपुर |  राजस्थान विश्व विधालय से छात्रसंघ  चुनाव में अध्यक्ष पद पर बागी पवन यादव ने जीत हासिल की । उन्होंने एक निर्दलिय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था। 2656 वोटों से एबीवीपी के संजय माचेड़ी के हराया। उपाध्यक्ष पद पर महिला चौधरी। वहीं जनरल सेक्रेटरी बद पर मनीष मीणा और महासचिव पद पर मानवेंद्र बूडानिया ने जीत हासिल की। जयपुर के कॉमर्स कॉ

Pawan-Yadav-RU-president

लेज में जहां आकाश राठौर अध्यक्ष चुने गए। वही राजस्थान कॉलेज में महेंद्र देगड़ा ने जीत हासिल की। वही महारानी कॉलेज में नेहा हादव ने जीत हासिल की।

– बता दें कि छात्रसंघ चुनाव 28 अगस्त को हुए थे। पहली बार चुनाव और परिणाम के बीच 7 दिन का अंतराल दिया गया है।
– इससे पहले चुनाव के दिन ही नतीजे आते थे। इस बार 23662 में से 12205 छात्रों ने वोटिंग की है।
– अध्यक्ष, उपाध्यक्ष महासचिव के लिए 26 उम्मीदवार हैं।
राजस्थान विश्वविद्यालय  परिणाम-
अध्यक्ष- पद पर एवीवीपी के बागी निर्दलीय पवन यादव जीते 
महासचिव- पद पर एनएसयूआई से मानवेन्द्र बुडानिया से जीते,
सयुक्त सचिव – पद पर एवीवीपी की मनीषा मीणा जीती एवं

उपाध्यक्ष -पद पर एनएसयूआई से महिमा चौधरी ने चुनाव जीता

जयपुर कॉमर्स कॉलेज के परिणाम
अध्यक्ष- आकाश राठौर
उपाध्यक्ष- रोहित मीणा
जनरल सेक्रेटरी- मनोज मीणा

ज्वॉइंट सेक्रेटरी- तन्मय जैन

जयपुर राजस्थान कॉेलज के परिणाम
अध्यक्ष – महेंद्र देगड़ा
उपाध्यक्ष- शिवप्रसाद
जनरल सेक्रेटरी- राहुल शर्मा
ज्वॉइंट सेक्रेटरी- आकाश मीणा
महारानी कॉलेज
अध्यक्ष- नेहा यादव
उपाध्यक्ष- जेबू निशा
जनरल सेक्रेटरी- संगीता सेन
ज्वॉइंट सेक्रेटरी- पूनम