राजस्थान डिजिफेस्ट कोटा-2017 का उत्साही आगाज़ –

राजस्थान में डिजिटल क्रांति का भव्य दिग्दर्शन – ‘हेकाथॉन 2.0’ में देश की आईटी प्रतिभाओं का समागम

जयपुर, 17 अगस्त। राजस्थान में डिजिटल क्रांति के बढ़ते कदमों को जन-जन तक पहुंचाने और नव प्रतिभाओं के नवाचारों से इसे अधिक समृद्ध बनाने की मंशा से दो-दिवसीय राजस्थान डिजिफेस्ट कोटा-2017 का उत्साही आगाज गुरूवार को कोटा के यूआईटी ऑडिटोरियम में हुआ। राजस्थान सरकार की इस नवोन्मेषी पहल से प्रदेश में हो रहे डिजिटल नवाचारों का भव्य प्रदर्शन हो रहा हैवहीं हेकाथॅान 2.0’ जैसी प्रतियोगिता से देश के कोने-कोने से आए मेधावी विद्यार्थियों की नव संकल्पनाओं को धरातल पर उतारने का मंच मिला है।

देश-विदेश में शिक्षा नगरी के रूप में खास पहचान बना चुके कोटा में पहली बार हो रहे आईटी प्रतिभाओं के इस महाकुंभ में देश के विभिन्न प्रान्तों से सूचना प्रौद्योगिकी, अभियांत्रिकी एवं अन्य तकनीकी विषयों के विद्यार्थी भाग ले रहे हैं और साथ ही विभिन्न विषय विशेषज्ञ तथा स्टार्ट अप से जुड़ी हस्तियां भी इस समारोह में नव प्रतिभाओं को प्रोत्साहन दे रही हैं।

ऎतिहासिक पहल

राजस्थान के सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग के तत्वावधान में आयोजित डिजिफेस्ट की शुरूआत ‘हेकाथॅान 2.0’ के साथ हुई, जिसमें लगभग 800 कोडर्स एवं विद्यार्थी अपनी प्रतिभा और नवाचार का प्रदर्शन कर रहे हैं। यह प्रतियोगिता लगातार 24 घंटे चलेगी। संभागियों ने राज्य सरकार के इस कदम को डिजिटल क्षेत्र में प्रतिभाओं को प्रोत्साहन देने की ऎतिहासिक पहल बताया है।

क्या है ‘हैकाथॉन 2.0
‘हैकाथॉन 2.0’ में देश भर के विभिन्न इंजीनियरिंग व तकनीकी संस्थानों के विद्यार्थी ऑनलाइन व ऑनस्पॉट रजिस्ट्रेशन के माध्यम से शामिल हुए हैं। ये प्रतिभागी भामाशाह योजना, ई-मित्र, इंटरनेट ऑफ थिंग, ब्लॉग चेन एवं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आदि विषयों पर एप्लीकेशन के माध्यम से नवाचार व उपयोगी सुझाव इस 24 घंटे की अवधि के दौरान प्रस्तुत कर रहे हैं। हैकाथॉन में शामिल विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत एप्लीकेशन की संकल्पना, उपयोगिता, डिजाइन एवं क्रियान्वयन संभाविता के आधार पर शीर्ष टीमों को चुना जाएगा एवं विशेषज्ञों द्वारा उनका साक्षात्कार लेने के पश्चात् विजेताओं का चयन कर उन्हें पुरस्कृत किया जाएगा

महिला सहायता ट्रेकिंग

पारूल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी बडौदा से हेकाथॉन में भाग ले रही शिखा रथ ने बताया कि उनकी टीम भामाशाह पोर्टल को महिला ट्रेकिंग सिस्टम एप्लीकेशन के माध्यम से लिंक करना चाहती है। इसके माध्यम से महिलाएं यात्रा करते समय अपनी लोकेशन जीपीएस द्वारा ऑनलाइन ट्रेकर स्टेटस द्वारा पोर्टल पर दर्ज कर सकेंगी।  इसे सीएम हेल्पलाइन से भी लिंक किया जा सकता है।

डिजिटल राजस्थान –

राजस्थान डिजिफेस्ट का एक खास आकर्षण यहां लगाई गई डिजिटल प्रदर्शनी है। इस प्रदर्शनी में राजस्थान में संचालित विभिन्न योजनाओं के डिजिटल प्लेटफॉर्म, विभागीय पोर्टल, मोबाइल एप्लीकेशन इत्यादि को प्रदर्शित किया गया है। आमजन इनके संचालन, क्रियान्वयन व उपयोग की जानकारी से लाभान्वित हो रहे हैं। प्रदर्शनी में ड्राइविंग सिमुलेटर के माध्यम से वर्चुअल ड्राइविंग प्रशिक्षण, ऑगमेंटेड रियलिटी विद मोशन सेंसिंग, वर्चुअल रियलिटी टूर, ऑनलाइन एमिशन एफ्लुएंट मॉनिटरिंग सिस्टम और ड्रोन सिस्टम में संभागी खास रूचि ले रहे हैं। इसके साथ ही ज्ञान संकल्प पोर्टल, स्मार्ट कोटा, मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान आदि की जानकारी भी यहां डिजिटल रूप से प्रदर्शित की गई है।