प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेआखिर तोड़ी चुप्पी –

बाबा साहेब ने दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को, लोकतांत्रिक बने रहने का रास्ता दिखाया था- मोदी

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के संविधान निर्माता डॉ भीमराव आंबेडकर जी की 127 वीं जयंती की पूर्व संध्या देश को ” डॉक्टर आंबेडकर नेशनल मेमोरियल के तौर पर एक अनमोल उपहार दिया |

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा की –

आज बाबा साहेब की स्मृति में बने इस नेशनल मेमोरियल को राष्ट्र को समर्पित करते हुए, मैं खुद को भाग्यशाली महसूस कर रहा हूं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आखिरकार कठुआ और उन्नाव गैंगरेप मामले में चुप्पी तोड़ दी है. गैंगरेप की दोनों घटनाओँ पर पीएम मोदी ने कहा कि ऐसी घटनाओँ से पूरा देश शर्मसार है. बेटियों को न्याय मिलकर रहेगा. न्याय दिलाना हमारी जिम्मेदारी है.

पीएम मोदी नई दिल्ली में डॉ. अम्बेडकर राष्ट्रीय स्मारक के लोकार्पण के अवसर पर बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि जिस तरह की घटनाएं हमने बीते दिनों में देखीं हैं, वो सामाजिक न्याय की अवधारणा को चुनौती देती हैं. पिछले 2 दिनो से जो घटनायें चर्चा में हैं वो निश्चित रूप से किसी भी सभ्य समाज के लिये शर्मनाक हैं. एक समाज के रूप में, एक देश के रूप में हम सब इसके लिए शर्मसार हैं|

खास नज़र –

  • इस स्मारक को एक किताब की शक्ल में तैयार किया गया है। जो की  हमारे देश का वो संविधान, जिसके शिल्पकार डॉक्टर आंबेडकर थे।

  • म्यूजियम को पूर्ण रूप से आधुनिक तकनीक व् डॉ बाबा साहब के जीवन के अहम पड़ावों को दिखाया गया है

-बाबा साहेब ने दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को, लोकतांत्रिक बने रहने का रास्ता दिखाया था।

 

 

 

 

 

 

डॉ .अम्बेडकर पर टिप्पणी करने पर विधायक विजय बंसल पिटते -पिटते बचे –

जयपुर | भरतपुर के बीजेपी विधायक विजय बंसल आजकल सस्ती लोक प्रियता के लिए संविधान निर्माता डॉ . भीम राव अम्बेडकर को लेकर दूसरी बार टिप्पणी

की |पहली बार उन्होंने भरतपुर में डॉ. अम्बेडकर जयंती  पर बयान देते हुवे कहा था की -डॉ .भीम राव अम्बेडकर संविधान निर्माता नहीं है वे मात्र संविधान सभा के सदस्य

vijay bansal pic net

थे | लेकिन दूसरी बार टिप्पणी बंसल ने विधानसभा में की तो वह पीटते -पीटते बचे |

क्या था पूरा मामला –

भरतपुर विधायक विजय बंसल ने डॉ.बाबा साहब को लेकर जब विधानसभा में टिप्पणी की तो विधानसभा  में हंगामा हो

गया | पिलानी से बीजेपी विधायक  एवं राज्य अनुसूचित आयोग के चेयरमेन सुंदरलाल उनसे भीड़ गए | नोबत हाथापाई तक पहुँच गई |मंत्री अरुण चुतुर्वेदी ने बीच – बचाव किया | सुन्दर लाल के समर्थन में हीरा लाल नागर सहित बीजेपी के विधायक खड़े हो गए और बंसल का विरोध करने लगे |बाद में बीजेपी के कुछ विधायक बंसल को हाथ पकड़कर सदन से बाहर ले गए |लेकिन कांग्रेस ने बंसल का  जोरदार विरोध किया ओर वैल में आकर नारेबाजी करने लगे |कांग्रेस ने बंसल को सदन से बरखास्त करने की माँग की | बाद में विधानसभा उपाध्यक्ष  राव राजेन्द्र ने  आदेश दिया की जांच करवाई जाये और बंसल के खिलाफ कारवाई की जाये |