1 जनवरी को 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने वाले युवा 20 नवम्बर से मतदाता सूची में जुड़वा सकेंगे अपना नाम

On January 1, the youth who have completed 18 years of age will be able to get their name
 added  to the voter list from November 20 – Chief Election Officer

********************

जयपुर, 24 सितम्बर। यदि आपकी उम्र आगामी 1 जनवरी को 18 वर्ष पूरी होेने जा रही है और आपका नाम विधानसभा की मतदाता सूची में नहीं है, तो आप निर्वाचन विभाग द्वारा जारी विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के तहत 20 नवंबर से अपना नाम मतदाता सूची में जुड़वा सकते हैं।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता ने बताया कि कोई भी पात्र व्यक्ति 20 नवंबर से 21 दिसंबर के मध्य मतदाता सूची में अपना जुड़वाने, हटवाने एवं संशोधन करवाने के लिए अपने निवास स्थान के समीप के मतदान केन्द्र पर बूथ लेवल अधिकारी को निर्धारित प्रारूप में आवेदन कर सकता है। इसके साथ-साथ निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी एवं सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी के कार्यालय में भी आवेदन किए जा सकते हैं। इसके अलावा भारत निर्वाचन आयोग के मतदाता सेवा पोर्टल (NVSP Portal) एवं मोबाइल एप पर भी ऑनलाइन दस्तावेजों के साथ आवेदन भर कर प्रस्तुत किए जा सकते हैं। 
मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार प्रत्येक वर्ष की 1 जनवरी को 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने वाले पात्र युवाओं का मतदाता सूची में पंजीकरण किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा राज्य की सभी 200 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की मतदाता सूचियों का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण करने के लिए संशोधित कार्यक्रम जारी किया है। इसके अनुसार मतदाता सूचियों का प्रारूप प्रकाशन दिनांक 20 नवम्बर, 2020 (शुक्रवार) को जबकि अंतिम प्रकाशन 18 जनवरी, 2021 (सोमवार) को किया जाएगा।
 गुप्ता जी  ने बताया कि 28 नवंबर और 5 दिसंबर (शनिवार) को मतदाता सूचियों के संबंधित भाग की प्रविष्टियों का ग्रामसभा या स्थानीय निकाय एवं आवासीय रेजीडेन्सियल सोसायटी के साथ बैठक आयोजित कर मतदाता सूचियों का पठन एवं प्रविष्टियों का सत्यापन किया जाएगा। इसी प्रकार से 29 नवंबर और 6 दिसंबर को राज्य के सभी मतदान केन्द्रों पर बूथ लेवल अधिकारी प्रातः 9 से सायं 6 बजे के मध्य उपस्थित रह कर दावे एवं आपत्तियों के प्रार्थना पत्र प्राप्त करेंगे।
उन्होंने बताया कि इस दौरान उनके साथ मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय राजनीतिक दलों के बूथ स्तरीय अभिकर्ता भी उपस्थित रहेंगे। मतदान केन्द्रों पर प्रारूप मतदाता सूची आम नागरिकों के लिए उपलब्ध रहेगी। इसके अलावा प्रारूप मतदाता सूची निर्वाचन विभाग की वेबसाइट ceorajasthan.nic.in पर भी उपलब्ध रहेगी। सभी प्रकार के आवेदन पत्र बीएलओ के पास उपलब्ध रहेंगे जो कि निःशुल्क प्राप्त किए जा सकते हैं। 
कोरोना को देखते हुए करें ऑनलाइन आवेदन
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने राज्य के युवाओं एवं अन्य पात्र व्यक्तियों से आग्रह किया है कि कोरोना  महामारी को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन या मोबाइल एप पर आवेदन करें ताकि मतदान केन्द्र पर लोगों से व्यक्तिगत सम्पर्क से बचा जा सके। उन्होंने मतदाता सूची में पंजीकृत मतदाताओं से भी आव्हान किया कि वह प्रकाशित प्रारूप मतदाता सूची में अपनी प्रविष्टियों को विभाग की वेबसाइट पर ऑनलाइन या मतदान केन्द्रों पर जाकर आवश्यक रूप से देखें और किसी प्रकार का संशोधन वांछनीय हो तो उसके अनुसार ऑनलाइन आवेदन करें।

राजस्थान विधानसभा चुनाव 7 दिसम्बर को , राज्य में लगी आचार संहिता-

जयपुर |  राजस्थान विधानसभा के चुनाव 7 दिसम्बर को होगे  इसके साथ ही मध्यप्रदेश  के 28 नवम्बर व् छतीसगढ़  में 12 व् 20 नवम्बर प्रस्तावित होगे |

राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम के साथ-साथ तेलंगाना के लिए भी चुनाव कार्यक्रम का ऐलान  आज हो  गया है , चुनाव आयोग ने आज प्रेस कान्फेंस कर यह जानकारी साझा की ,इसके साथ ही इन राज्यों में अब आदर्श आचार संहिता के अनुसार अब कोई स्थानांतरण पदस्थापन कोई मंत्रिमंडल की बैठक, कोई राजकीय स्वीकृति या किसी भी प्रकार की कोई बैठक कोई सरकारी वाहन का प्रयोग समस्त प्रकार की कार्यवाही पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

 

 

 

लोकसभा चुनावों में होगा VVPAT का इस्तेमाल – चुनाव आयोग

क्या थमेगा EVM विवाद –

जयपुर | आगामी सभी चुनावों में अब चुनाव आयोग  VVPAT मशीन का इस्तेमाल करेगी ,अपने एक वक्तव्य में चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा  है की  विगत सालो में हुए चुनावों में वीवीपीएटी मशीनों का इस्तेमाल सफल रहा है साथ ही उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव भी EVM व् VVPAT के साथ होगा |

निर्वाचन आयोग ने 2019 के लोकसभा चुनावों में सभी मतदाता केन्द्रों पर 100 प्रतिशत VVPAT मशीने उपलब्ध कराने को लेकर अपनी प्रतिबध्ता दोहराई है

जाने क्या है VVPAT मशीन –

VVPAT एक ऐसी मशीन है, जिससे उस पार्टी के चुनाव चिह्न वाली पर्ची निकलती है, जिसमें मतदाता ने वोट दिया है ,इससे यह स्पष्ट हो  जाता है व्यक्ति ने जिस पार्टी को वोट दिया है वो वोट उसी पार्टी को डला  है मतदाता द्वारा जब  वोट डाला जाता है तो उसकी गिनती EVM में हो जाती है लेकिन अब EVM के साथ ही जिस पार्टी को वोट किया है उसकी पर्ची VVPAT  मशीन में गिर जाती है और यह क्रिया मतदाता के सामने होती है और मतगणना के समय EVM और VVPAT मशीन की प्रचियों को साथ गिना जायेगा जिसके बाद ही गणना को अंतिम माना जायेगा |

मिडिया द्वारा चुनावी भविष्यवाणी करना -गैर कानूनी

चुनाव आयोग ने कहा है कि एग्जिट पोल के नतीजे दिखाने पर पाबंदी के दोरान ज्योतिषियों ,टेरो कार्ड रीडरो , चुनाव भविष्यवाणी और किसी भी तरह जनता को प्रभावित करने वाले कारक अनुचित और गैर कानूनी है | आयोग ने कहा  कि जन प्रतिनिधित्व कानून की धारा126-ए के तहत प्रतिबन्ध है | मिडिया द्वारा ऐसे कार्य क्रम का प्रसारण नहीं होना चाहिए ,जो चुनावी भविष्यवाणी करते हो

%d bloggers like this: