एके एंटनी ने कांग्रेस के 136वें स्थापना दिवस पर झंडा फहराया

आज देश की सबसे पुरानी पार्टी यानी कांग्रेस अपना 136वां स्थापना दिवस मना रही है। पार्टी के स्थापना दिवस से एक दिन पहले राहुल गांधी किसी विशेष काम के चलते विदेश दौरे पर रवाना हो गए तो दूसरी तरफ सोनिया गांधी खराब स्वास्थ्य के कारण पार्टी का झंडा नहीं फहरा पायेगी ऐसे में एके एंटनी ने स्थापना दिवस के मौके पर झंडा फहराया

स्थापना दिवस और किसान आंदोलन के बीच राहुल के विदेश दौरे को लेकर राजनीति भी शुरू हो गयी है क्योंकि कांग्रेस पार्टी आज किसानों के समर्थन में तिरंगा यात्रा निकालेगी। इस मौके पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्यों ने पार्टी की राज्य इकाइयों को निर्देश दिया है कि वे कोरोना की गाइडलाईन का पालन करते हुए ‘तिरंगा यात्रा’ का आयोजन करें और युवाओं के साथ जुड़ने के लिए सोशल मीडिया अभियान ‘सेल्फी विद तिरंगा’ चलाएं।

 

 

स्थापना दिवस पर राहुल गांधी ने कहा कि सच्चाई और समानता के अपने इस संकल्प को दोहराते हैं और ‘देश हित की आवाज उठाने के लिए कांग्रेस शुरू से प्रतिबद्ध रही है। कांग्रेस पिछले एक समय से अपनो की लड़ाई में उलझी हुई कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता राहुल को अध्यक्ष बनाना चाहते है तो कुछ नेता प्रियंका को अध्यक्ष बनाने के पक्ष में इसी कारण से बीजेपी कांग्रेस पर वंशवाद का आरोप लगाने का मौका नहीं छोड़ती है।

राहुल के विदेश दौरे पर सफाई देते हुए सुरजेवाला ने कहा, कि राहुल गांधी एक निजी यात्रा पर हैं और वह बहुत जल्द हमारे बीच होंगे। खबरों के अनुसार बताया जा रह है कि राहुल अपनी नानी से मिलने गये है जो बीमार है। कांग्रेस ने इस यात्रा को लेकर बीजेपी पर निम्न दर्जे की राजनीति करने का आरोप लगाया है।

 

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राहुल की विदेश यात्रा को लेकर कहा कि, ‘कांग्रेस अपना 136वां स्थापना दिवस मना रही है और राहुल जी ‘9 2 11’ हो गए’

 

 

कांग्रेस पार्टी अब युवाओं को देगी अधिक मौका – संगठन में फेरबदल तय

राजस्थान में फेरबदल की तैयारी , प्रदेश के नेताओं से रायशुमारी शुरू

नई दिल्ली | अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही कांग्रेस पार्टी अपने संगठन में बड़ा फेरबदल कर सकती हैं इस के साथ ही राहुल गाँधी को फिर से पार्टी का राष्टीय अध्यक्ष बनाने की कोशिश पार्टी के वरिष्ट कांग्रेस जनों द्वारा की जा रही हैं |

राजस्थान असम और बिहार पर हैं ख़ास नजर –

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत .
साभार

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व कांग्रेस पार्टी सुरक्षित हैं क्योंकि राज्यसभा चुनाव में राजस्थान में सरकार बदलने की बाते सामने आई थी जिस के मध्यनजर मुख्यमंत्री ने लगभग 10 दिनों ने विधायको की बाडेबंदी की थी , लेकिन राज्यसभा चुनाव के परिणाम वही रहे जो तय माने जा रहें थे 2 कांग्रेस व् 1 भाजपा | कांग्रेस संगठन के महासचिव केसी वेणुगोपाल व् नीरज दांगी कांग्रेस से विजय रहें तो भाजपा से राजेन्द्र गहलोत |

कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल को मिल सकती हैं नई ज़िम्मेदारी 

आगामी समय में बिहार ,असम में विधानसभा के चुनाव प्रस्तावित हैं और राजस्थान में भी संगठन में फेरबदल की आवश्यकता हैं इसके मध्य नजर राजस्थान से नव निर्वाचित सांसद व् संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल को संगठन को मजबूत करने की ज़िम्मेदारी मिल सकती हैं जिसमे खासतौर पर युवाओं को नई ज़िम्मेदारी व् पद मिल सकता हैं |

राजस्थान को मिल सकता हैं नया प्रदेशाध्यक्ष 

सूत्रों के अनुसार कांग्रेस पार्टी राजस्थान में नया प्रदेश अध्यक्ष बना सकती हैं चुकी सचिन  पायलेट राजस्थान के उप मुख्यमंत्री हैं और उनके पास कई महत्वपूर्ण मंत्रलाय है जिसके चलते वह संगठन निर्माण में अधिक समय नहीं दे पा रहें हैं जिसको लेकर संगठन में बड़े विभिन्न समाज के नेताओं से राय – मशुहरा लिया जा रहा हैं |

अशोक गहलोत व् सचिन में कई बार देखने को मिला हैं मनमुटाव – 

सचिन पायलेट व् अशोक गहलोत

वैसे तो राजस्थान में सरकार बनने व् मुख्यमंत्री पद को लेकर लम्बी खींचतान चली थी जिसे सभी ने देखा था लेकिन पिछले 2 साल में दोनों ही नेताओं ने सुझबुझ का परिचय दिया हैं लेकिन उनके समर्थको में व् निर्दलीय विधायको के समर्थन के पीछे जो वादे कियें गयें थें अब उनको जमीनी स्थर पर अमल करने का समय आ गया है यह जब ही संभव हैं जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थन का प्रदेश अध्यक्ष बने वैसे सचिन पायलेट को प्रदेश अध्यक्ष बने 6 साल से अधिक हो गया हैं |

निगम व् पंचायत चुनाव – 

आगामी समय में शहरों में नगर – निगम व् गांवों में पंचायत के चुनाव होने हैं इस को लेकर भी पार्टी थोड़ी चिंतित है कहा जा रहा हैं की टिकट वितरण व् अपने खेमे को मजबूत करने के लियें अंदुरनी रस्सा कस्सी हो सकती हैं वही संगठन को मजबूत करने के लियें अशोक गहलोत व् सचिन पायलेट दोनों के पास समय नहीं हैं ऐसे में भाजपा भी बड़ा खेल कर सकती हैं इन तमाम मुद्दों को देखते हुयें कांग्रेस राजस्थान में संगठन की पकड़ को मजबूत बनाने में अंदुरनी तौर पर लगी हैं |

वसुंधरा राजे के नेतृत्व में अगला चुनाव नहीं लडूंगा: तिवाडी

जयपुर। राजस्थान में भाजपा के वरिष्ठ नेता घनश्याम तिवाड़ी ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में अगला चुनाव नही लड़े की घोषणा करते हुए कहा कि वर्तमान स्थिति में वो पार्टी से इस्तीफा नहीं देंगे। आज अपने आवास पर आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा कि राजे के जनविरोधी कार्यकलापों और भ्रष्टाचार को बढावा देने की नीतियों के कारण प्रदेश के कार्यकर्ताओं में आक्रोश की भावना बढ़ती जा रही है। इस संबंध में उन्होंने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को पत्र लिखकर आगाह भी किया है। तिवाड़ी ने कहा कि इसके बाद भी अगर पार्टी नेतृत्व कार्यवाही नहीं करता तो यह घातक सिद्ध होगा।

राज्य में नये राजनीतिक दल के गठन के संबंध में पूछे जाने पर तिवाड़ी ने कहा कि यदि केन्द्रीय नेतृत्व राजे को राजस्थान की राजनीति से बर्खास्त कर दे तो वह इस संबंध में पुनर्विचार कर सकते है। पार्टी अध्यक्ष को लिखे पत्र के कारण उन पर होने वाली कार्यवाही के संबंध में पूछे जाने पर तिवाड़ी ने कहा कि यदि इस कारण से पार्टी मुझे बर्खास्त करती है तो यह उनकी मर्जी है लेकिन मैं पार्टी से इस्तीफा नही दूंगा। साथ ही तिवाड़ी ने यह भी कहा कि वह चुनाव तो सांगानेर की जनता से राय करके ही लडेंगे। यह अलग बात है कि वह किस पार्टी से लड़े इसका निर्णय तो बाद में किया जाएगा।

भारत वाहिनी दल के बारे में बात करते हुए तिवाडी ने काह कि चुनाव आयोग ने दल के गठन की स्वीकृति दे दी है और यह अभी प्रक्रियाधीन है। उन्होंने कहा कि भारत वाहिनी दल आगामी विधानसभा चुनावों में अपने उम्मीदवार उतारेगी और इसका निर्णय वह स्वयं करेगें। उम्मीदवारों के चयन के बारे में पूछे गये सवाल पर उन्होंने कहा कि दलों को छोडकर आने वाले प्रत्याशियों को टिकट नहीं दिया जायेगा और सिद्धांतों और नयी ऊर्जा देने वाले युवाओं को ही टिकट दिया जायगा।

CM पद को लेकर अशोक गहलोत ने दिया ये बयान, कहा…

जोधपुर। कांग्रेस के नवनियुक्त संगठन महासचिव और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जिस प्रकार प्रदेश में हुए उपचुनाव में सब नेताओं ने मिलकर कांग्रेस को जीत दिलाई थी वैसा ही प्रदेश के विधानसभा चुनावों में भी होगा। कांग्रेस एक जुट होकर विधानसभा चुनाव लड़ेगी। मीडिया से चर्चा के दौरान गहलोत से पूछा गया कि क्या आपको केंद्र की जिम्मेदारी देकर राजस्थान में सचिन पायलट को फ्री हैंड दे दिया गया? गहलोत ने कहा राजस्था का हर गांव ढाणी में दिल में है। मैं पांच साल तक अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का महामंत्री रहने से पहले भी दिल्ली में रहा लेकिन वापस राजस्थान का मुख्यमंत्री लौटा था। मैं जब भी राजनीति से रिटायर्ड हो जाउंगा तब जोधपूर ही आकर रहूंगा।

 

गहलोत ने कहा कि कांग्रेस आलाकमान ने मेरे पर विश्वास करके जो जिम्मेदारी दी है मैं उसे पूरी तरह निभाने की कोशिश करूंगा। हम आने वाली नई पीढ़ी को कांग्रेस से जोड़ेंगे। आज नई पीढ़ी और कांग्रेस के बीच में थोड़ी दूरी आ गई है। नई पीढ़ी के लोगों को कांग्रेस के बलिदानों के बारे में जानकारी नही है। जबकि बीजेपी अब 70 साल बाद गांधी व पटेल को अपना रही है। थोड़े समय बाद बीजेपी नेहरू को भी अपनाने लगेगी।

गहलोत ने कहा कि आरएसएस पर्दे के पीछे की राजनीति के कर लोगों को भ्रमित कर वोट मांगती है। और फिर इसका फायदा भाजपा उठा लेती है। आरएसएस को अब खुलकर मैदान में आना चाहिए। आरएसएस को बीजेपी में मर्ज करके चुनाव लड़ना चाहिए ताकि सीधा मुकाबला हो जाए। लोगों को भ्रम में डालकर हिंदुत्व, राम मंदिर तो कभी गौ माता के नाम पर राजनीति करना बंद करना चाहिए।

मंत्रिपरिषद में फेरबदल की अटकलों को लेकर विधायकों की बैठक लेगी वसुंधरा राजे

जयपुर। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मंत्रिपरिषद में फेरबदल को लेकर चल रहे अटकलों के बीच आज शाम 4 बजे जयपुर संभाग के विधायकों की बैठक बुलाई है। इस बैठक में जयपुर ,दौसा, अलवर,सीकर और झुंझुनू जिले के भाजपा विधायक शिरकत करेंगे। आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के क्या आधार हो सकते है साथ ही क्षेत्र की समस्याओं पर चर्चा की जाएगी।

 

बैठक में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी और संगठन महामंत्री चंद्रशेखर भी मौजूद रहेंगे। गौरतलब है कि उपचुनाव में मिली करारी हार के बाद से ही सत्ता और संगठन के स्तर पर मंथन का दौर जारी है। इसी के चलते संभागवार भाजपा विधायकों की बैठक का दौर चल रहा हैं। इन बैठकों में जयपुर संभाग बच रहा था जिसकी बैठक आज बुलाई गई है। पार्टी के पदाधिकारियों ने बताया कि बैठक में मौजूदा विधायकों से क्षेत्र में आ रही समस्याओं के बारे में जानकारी ली जाएगी।

साथ ही आगे आने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा को किस तरह से जीत मिल सकती है इसके लिए सुझाव लिए जाएंगे। जानकारों के अनुसार मंत्रिपरिषद में फेरबदल से पहले पार्टी के शीर्ष पदाधिकारी संभागवार भाजपा विधायकों की बैठक करके संगठन और मुख्यमंत्री से नाराज चल रहे विधायकों को मनाने का प्रयास करने की कोशिश कर रही है। जिससे मंत्रिपरिषद में बदलाव होने पर किसी तरह का विवाद पार्टी में सामने नही आए।

झुंझुनू में वसुंधरा राजे ने दिया ये बड़ा बयान, कहा…

झुंझुनू। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बेटी बचाओ बेटी बढ़ाओं अभियान की सफलता का संकल्प दोहराते हुए कहा कि आमजन को जोड़कर इस योजना को प्रदेश में आगे बढ़ाया जाएगा।

राजे ने कहा कि महिलाएं हर क्षेत्र में प्रभावी भुमिका निभा रही है। उन्होंने कहा कि झुंझुनू में बेटियों को बढ़ावा देने के लिए अपना बच्चा अपना विद्यालय की शुरूआत की है। उन्होंने दिव्यांग मोनिका काला का जिक्र करते हुए कहा कि इस अभियान के तहत उसे विद्यालय में प्रवेश दिया गया है जो कि आठवीं में पढ़ रही है। इसी तरह प्रदेश के भरतपुर, गंगानगर और दौसा जिले में बेटियों के लिए सामूहिक बीमा योजना शुरू की गयी है।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में झुंझुनू क्षेत्र की उन बच्चियों का जिक्र किया जिन्होंने मेहनत कर आज अच्छा मुकाम हासिल किया है।

राजस्थान सरकार ने की कर्ज माफी के साथ-साथ कई महत्वपूर्ण घोषनाएं

जयपुर। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने किसानों की कर्ज माफी, बीकानेर जिले में गौ अभ्यारण्य स्थापित करने, लंबित वीसीआर मामलों में जुर्माना राशि नहीं वसूलने, निजी वाहनों को टोल टैक्स में छूट देने, पुलिस विभाग में 952 अतिरिक्त पद सृजित करने सहित कई घोषणायें की हैं।  राजे ने विधानसभा में वित्त विधेयक पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए ये घोषणाएं की। उन्होंने कहा कि लघु एवं सीमांत किसानों के 30 सितम्बर, 2017 तक के बकाया अल्पकालीन फसली ऋण में से 50 हजार रुपए तक के कर्ज माफी की घोषणा के साथ सहकारी बैंकों के अन्य काश्तकारों को भी 50 हजार रूपये तक के बकाया अल्पकालीन फसली ऋण को लघु काश्तकारों के लिए निर्धारित कृषि जोत के अनुपात में ऋण को एकबारीय माफ किया जाएगा।

 

उन्होंने कहा कि गौवंश के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए बीकानेर जिले की डूंगरगढ तहसील के ग्राम नापासर में पांच 5 करोड़ रूपये की लागत से गौ-अभ्यारण्य स्थापित होगा। इसी तरह पांच करोड रूपये की लागत से मांढेरा रूंध के घास बीड क्षेत्र को ‘कदम्ब कुंज वन’ के रूप में विकसित किया जाएगा। वहां कदम्ब, गूलर, पीपल, बड़, जामुन, नीम आदि के पौधे लगाए जाएंगे। इसी तरह जोधपुर कृषि विश्वविद्यालय से संबद्ध नागौर कृषि महाविद्यालय में फूड टेक्नोलोजी का पृथक विभाग खोला जाएगा। इसके अलावा निजी वाहनों को टोल टैक्स से छूट देने की घोषणा भी की गई।

उन्होंने कहा कि चुरु में अग्रसेन नगर रेलवे फाटक पर आरओबी का निर्माण, हनुमानगढ-भटिण्डा ब्रॉडगेज रेलवे लाइन पर संगरिया क्षेत्र में अंडरपास का निर्माण, बयाना (भरतपुर) में रोडवेज बस स्टैण्ड का निर्माण, राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम को प्रतिमाह 45 करोड़ रूपये की राशि का सहयोग राजस्थान परिवहन आधारभूत विकास निधि से ऋण एवं अनुदान के रूप में राज्य सरकार द्वारा किया जाएगा।इसी तरह बाली/रानी/देसूरी के 222 गांवों के लिए 476 करोड़ की लागत से जवाई बांध से पेयजल योजना। इस वर्ष 50 करोड़ का प्रावधान, कोटा के सांगोद, पीपलदा एवं लाडपुरा विधानसभा क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति के लिए 297.48 करोड़ रूपये की हरिपुरा मांझी पेयजल योजना की घोषणा भी की गई। इससे सांगोद विधानसभा के 102 गांव एवं 20 मजरे, पीपलदा विधानसभा के 44 गांव एवं 6 मजरे तथा लाडपुरा विधानसभा के 61 गांव एवं 61 मजरे (कुल 259 हेबिटेशन) लाभान्वित होंगे।

उन्होंने कहा कि नियमित कृषि उपभोक्ताओं की वीसीआर नहीं भरी जाएगी एवं जो कृषि उपभोक्ता विद्युत भार में वृद्धि कराना चाहेंगे उनकी भार वृद्धि सामान्य दरों पर की जाएगी। बूंद-बूंद, फव्वारा या डिग्गी सिंचाई पद्धति में कृषि कनेक्शन के लिए सितम्बर 2015 के बाद से लम्बित आवेदनों को कनेक्शन दिया जायेगा। स्वैच्छिक भार वृद्धि घोषणा योजना के तहत लंबित वीसीआर के प्रकरणों में 30 जून 2018 तक के लिए जुर्माना राशि वसूल नहीं किये जाने एवं सामान्य दरों पर ही निस्तारण की घोषणा भी की गई।  इसी तरह पीएचसी एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) के अलावा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र नरैना पंचायत समिति दूदू (जयपुर), मेड पंचायत समिति विराट नगर, (जयपुर), करवर पंचायत समिति नैनवां (बून्दी), थावलां पंचायत समिति रियांबडी (नागौर), सेतरावा पंचायत समिति देचू (जोधपुर) एवं गडिय़ाला-पंचायत समिति कोलायत (बीकानेर) को सीएचसी में क्रमोन्नत तथा उप स्वास्थ्य केन्द्र छापरी खुर्द पंचायत समिति डीडवाना एवं नीमोद, पंचायत समिति मौलासर, जिला नागौर को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में क्रमोन्नत किया जायेगा।

राजस्थान: विधानसभा भवन में ‘बुरी आत्माओं का साया’, रखी ये मांग

जयपुर। गत छह महीने में दो विधायकों के निधन के बाद राजस्थान के विधायक यह मानने लगे हैं कि विधानसभा भवन में ‘बुरी आत्माओं का साया’ है और उन्होंने शुद्धि के लिए इमारत में हवन कराने की हिमायत की है। नागौर से भाजपा विधायक हबीबुर रहमान ने बताया कि उन्होंने कल मुख्यमंत्री से कहा है कि विधानसभा भवन में शुद्धि के लिये हवन कराया जाये।

उन्होंने कहा कि विधानसभा भवन जिस भूमि पर बना है वहां पहले श्मशान और कब्रिस्तान हुआ करते थे और ‘बुरी आत्माओं के प्रभाव’ से ऐसा हो रहा होगा। सरकार के मुख्य सचेतक कालूलाल गुर्जर ने भी सदस्यों के निधन से सदन के सदस्यों के असहज होने की बात स्वीकारी है। उन्हें भी ऐसा लगता है। गुर्जर ने सदन के परिसर में संवादाताओं से कहा कि कल सदन के सदस्यों के मन में प्रश्न उठ रहा था कि सदस्यों की मौत क्यों हो रही है। उन्होंने अपने विचार और सुझाव दिये हैं। ऐसा कहा जाता है कि विधानसभा भवन श्मशान की जमीन पर बनाया गया है। कुछ नकारात्मक असर के चलते परेशानियां उत्पन्न हो रही हैं।

गौरतलब है कि नाथद्वारा के विधायक कल्याण सिंह चौहान का कल उदयपुर के एक निजी अस्पताल में उपचार के दौरान निधन हो गया था, जबकि भीलवाडा के मांडलगढ़ से विधायक कीर्ति कुमारी का पिछले वर्ष अगस्त में स्वाईनफ्लू के कारण निधन हो गया था। दोनों विधायक सत्ताधारी पार्टी के सदस्य थे। देश के आधुनिक विधानसभा भवनों में एक राजस्थान विधानसभा भवन 16.96 एकड़ में बना है। इसका निर्माण 1994 में शुरू हुआ था और मार्च 2001 में भवन का निर्माण पूर्ण हो गया। लाल कोठी श्मशान गृह विधानसभा भवन के बगल में स्थित है, जिसके चलते लोगों में भ्रम है कि भवन में किसी प्रकार का वास्तु दोष हो सकता है। विधानसभा भवन में 260 सदस्यों के बैठने की क्षमता है। इसी तरह की क्षमता वाला एक हाल पांचवी मंजिल पर है। इस भवन से पूर्व विधानसभा हवामहल के पास स्थित सवाई मान सिंह टाउन हाल में संचालित होता था।

पश्चिमी राजस्थान सहित पूरे प्रदेश की तस्वीर बदलेगी: वसुंधरा

जयपुर। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा है कि सौर ऊर्जा, गैस और तेल उत्पादन तथा रिफाइनरी के कारण बाड़मेर जिला शीघ्र ही प्रदेश का चमकता सूरज बनकर उभरेगा। राजे ने बाड़मेर जिले के तारातरा मठ धाम में मोहनपुरी महाराज की मूर्ति के प्राण प्रतिष्ठा समारोह को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि बाड़मेर जिले में होने वाले सौर ऊर्जा, गैस और तेल के उत्पादन और यहां लगने वाली रिफाइनरी से पश्चिमी राजस्थान सहित पूरे प्रदेश की तस्वीर बदलेगी।

उन्होंने कहा कि आने वाले समय में प्रदेश का हर धार्मिक स्थल एक पर्यटक स्थल के रूप में भी विकसित किया जाएगा। इसके लिए 550 करोड़ रुपये की लागत से 200 मंदिरों को विजय बनाने और वहां सुविधाएं विकसित करने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले चार साल में धार्मिक पर्यटन को लगातार सुविधामय बनाया है और करीब 32 हजार तीर्थ यात्रियों को हवाई जहाज, रेल तथा बसों के माध्यम से नि:शुल्क तीर्थ यात्राएं कराई हैं। उन्होंने मोहनपुरी महाराज को एक वचनसिद्ध योगीराज बताते हुए कहा कि उन्होंने अध्यात्म के साथ-साथ गौ सेवा और परोपकार के कार्यों को आगे बढ़ाया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार भी गौ सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर रही है।

इस बार बजट में इसके लिए कई घोषणाएं की गई है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने जैतपुरी और मोहनपुरी महाराज की समाधि पर शीश नवाया और पूजा-अर्चना की। उन्होंने मठ धाम स्थित नारायणपुरी, विजयपुरी, श्यामपुरी, इन्द्रपुरी, अम्बेपुरी, तेजपुरी, धर्मपुरी और वागपुरी जी की समाधि के भी दर्शन किए।

राजनीति को लेकर वसुंधरा राजे ने दिया ये बड़ा बयान, कहा…

चित्तौडगढ़। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने लोगों से साम्प्रदायिक सौहार्द बनाने का आह्वान करते हुए कहा है कि इसके बने रहने से निवेशक राज्य में निवेश के लिए आकर्षित होंगे। राजे आज यहां आयोजित संत समागम को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि इसके लिए जरूरी है कि हम अपने इतिहास के साथ जुड़े रहकर आपसी सौहार्द बनाए रखें।

उन्होंने कहा कि धर्म के बिना राजनीति अधूरी है और धर्म एवं राजनीति के बीच बने सौहार्द के वातावरण में ही राजस्थान आगे बढ़ेगा। उन्होंने अपनी सरकार के धर्म के प्रति कार्यों का उल्लेख करते हुए कहा कि सरकार ने एक सौ करोड़ रुपए के धार्मिक पैनोरमा तैयार करने का कार्य प्रारम्भ किया है वहीं 551 करोड़ रुपए की लागत से 625 मंदिरों के जीर्णोद्धार के कार्य प्रगति पर है।

उन्होंने इससे पूर्व दुर्ग पर पिछले नौ दिनों से चल रहे नौ कुण्डीय यज्ञ में राज्य की खुशहाली एवं सौहार्द बने रहने के लिए आहूति दी एवं कालिका माता मंदिर में दर्शन किये। मुख्य संत समागम में प्रदेश के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया, नगरीय विकास मंत्री श्रीचंद्र कृपलानी, संसदीय सचिव शत्रुघ्न गौतम, सांसद चंद्रप्रकाश जोशी सहित जिले के विधायक अर्जुनलाल जीनगर, चंद्रभानसिंह, सुरेश धाकड़ एवं गौतम दक भी उपस्थित रहे।