जो विकास 50 साल में नहीं हुआ, हमने 4 साल में कर दिखाया: मुख्यमंत्री राजे

राजस्थान वसुंधरा सरकार की चौथी वर्षगांठ के अवसर कुछ ख़ास  –

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि आज़ादी के बाद जो विकास 50 सालों में भी नहीं हुआ, वे काम हमने { वसुंधरा सरकार } में मात्र चार साल में कर दिखाया  हैं। हमने सकारात्मक सोच, सकारात्मक काम और सकारात्मक ऊर्जा के साथ देश और प्रदेश के विकास का जो संकल्प लिया है उसे हर हाल में पूरा करेंगे।amzn_assoc_ad_type =”responsive_search_widget”; amzn_assoc_tracking_id =”politico24x7-21″; amzn_assoc_marketplace =”amazon”; amzn_assoc_region =”IN”; amzn_assoc_placement =””; amzn_assoc_search_type = “search_widget”;amzn_assoc_width =”auto”; amzn_assoc_height =”auto”; amzn_assoc_default_search_category =”Books”; amzn_assoc_default_search_key =”rajasthan “;amzn_assoc_theme =”light”; amzn_assoc_bg_color =”FFFFFF”; //z-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&Operation=GetScript&ID=OneJS&WS=1&Marketplace=IN

मुख्यमंत्री  राजे ने  बुधवार को सरकार की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर झुंझुनूं में आयोजित समारोह को संबोधित कर रही थीं। इस अवसर पर उन्होंने झुंझुनूं ज़िले के लिए 2 हज़ार 237 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के साथ ही प्रदेश के विकास के लिए कई महत्वपूर्ण घोषणाएं कीं।

मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों की खुशहाली के लिए कई  सौगातों की बौछार करते हुए कहा कि चार साल पहले जब हमने सत्ता संभाली थी तो वादा किया था कि राजस्थान का खोया स्वाभिमान हम हर कीमत पर लौटाएंगे। आज हम विकास के कई मायनों में देश के अन्य राज्यों से आगे हैं। हमने दिन-रात मेहनत कर राजस्थान के लिए यह मुकाम बनाया है। उन्होंने कहा कि झुन्झुनूं में राष्ट्रीय खेल संस्थान, पटियाला की तर्ज पर क्रीड़ा विश्वविद्यालय के स्थान पर राज्य क्रीड़ा संस्थान की स्थापना की जायेगी। राज्य की सभी 15 खेल अकादमियों को इससे सम्बद्ध किया जाएगा।

कुंभाराम कैनाल पर पानी हम लाए-

श्रीमती राजे ने कहा कि हमने केवल 4 साल में कुंभाराम कैनाल पर पानी पहुंचाया है। हमने 172 करोड़ रूपए खर्च कर तारानगर से मलसीसर तक पाइपलाइन से पानी पहुंचाया और उसे शोधित कर झुन्झुनूं ज़िले के विभिन्न गांवों और कस्बों को दिया। अब क्षेत्र को प्रतिदिन 15 करोड़ 50 लाख लीटर पानी उपलब्ध होगा।

आज़ादी के बाद पहली बार 6,994 गांवों तक पेयजल और 1,662 तक सड़क पहुंचाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि 50 वर्षों में प्रदेश के 16 ज़िलों के 6 हज़ार 994 गांव पेयजल से वंचित रहे जिन्हें हमने पेयजल उपलब्ध कराया। इसी तरह 22 ज़िलों के 1662 गांव जो सड़क से नहीं जुड़ पाए थे, हमने उन्हें सड़कों से जोड़ा। ऐसे कई स्थान जहाँ न सरकारी और न निजी कॉलेज था वहाँ हमने सरकारी कॉलेज खोले।

हर रोज़ 25 किमी सड़क विकास- 

श्रीमती राजे ने कहा कि आज प्रदेश में प्रतिदिन 25 किलोमीटर सड़क विकास हो रहा है। प्रदेश में हर ग्राम पंचायत में आदर्श विद्यालय की हमारी योजना के तहत आज 4 हज़ार 437 आदर्श विद्यालय विकसित हो चुके हैं। साथ ही अंग्रेज़ी माध्यम के विवेकानंद मॉडल स्कूल भी शुरू हो गए हैं।

किसानों को 58 हज़ार करोड़ के ब्याज मुक्त फसली ऋण –

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की खुशहाली के लिए हमने हरसंभव प्रयास किए हैं। पिछले चार वर्ष में हमने 58 हज़ार 210 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त फसली ऋण दिया, जो देश में एक रिकॉर्ड है। इस कार्यकाल में हम 75 हज़ार करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त फसली ऋण देंगे|

नहीं किया राजनीतिक भेदभाव –

श्रीमती राजे ने कहा कि हमने विकास में कभी भी राजनीतिक भेदभाव नहीं किया। ज़िले के सभी विधानसभा क्षेत्रों में समान रूप से 4 वर्ष के दौरान 5 हज़ार 400 करोड़ के विकास कार्य करवाए | हम झुंझुनूं की 445 युद्ध वीरांगनाओं को विशेष पहचान पत्र जारी कर रहे हैं, जिससे उन्हें राजकीय कार्यों में प्राथमिकता मिल सकेगी। झुंझुनूं ज़िले के पूर्व सैनिकों के 1620 बच्चों को छात्रवृत्ति दी जा रही है। साथ ही द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लेने वाले ज़िले के 398 पूर्व सैनिकों एवं विधवाओं को सरकार 4 हज़ार रुपए प्रतिमाह आर्थिक सहायता दे रही है।

श्रीमती राजे ने समारोह में ज़िले के 13 अमर शहीदों की वीरांगनाओं और परमवीर चक्र विजेता शहीद पीरूसिंह के भाई ओमप्रकाश को तलवार भेंट कर सम्मानित किया। उन्होंने मुख्यमंत्री बेटी योजना में 9 प्रतिभाशाली बालिकाओं को सम्मानित किया तथा भामाशाह पशुधन बीमा योजना के तहत 2 पशुपालकों को 40 हज़ार का चैक भेंट किया। साथ ही प्रतिभावान छात्राओं को झुंझुनू ज़िले की 13 बालिकाओं को स्कूटी की चाबी एवं लैपटॉप देकर उत्साहवर्धन किया।

ज़िला विकास पुस्तिका का विमोचन एवं प्रदर्शनी का अवलोकन किया

समारोह में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित ज़िला विकास पुस्तिका का विमोचन किया गया। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा लगाई गई सुराज के चार साल प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। समारोह को सम्बोधित करते हुए सैनिक कल्याण सलाहकार समिति के अध्यक्ष प्रेम सिंह बाजौर ने मुख्यमंत्री का उत्साह के साथ स्वागत किया।

वीरांगनाओं को किया सम्मानित

मुख्यमंत्री ने अमर शहीदों की वीरांगना श्रीमती शारदा देवी, श्रीमती संतोष देवी, श्रीमती अलहमदो बानो, श्रीमती ज्ञानकंवर, श्रीमती सुशीला देवी, श्रीमती सुमन देवी, श्रीमती बबीता पूनियां, श्रीमती विमल कंवर,  श्रीमती रूकमा देवी, श्रीमती संजु देवी, श्रीमती सुनिता देवी, श्रीमती शारदा देवी एवं श्रीमती सुगनी देवी को सम्मानित किया।

 

प्रदेश के मीसाबंदी अब कहलाएंगे – लोकतंत्र रक्षक सैनानी

जयपुर, 12 दिसम्बर। आपातकाल के दौरान राजनीतिक और सामाजिक कारणों से जेल में बंद रहे प्रदेश के मीसाबंदी अब लोकतंत्र रक्षक सैनानी के रूप में जाने जाएंगे। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे की अध्यक्षता में मंगलवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में हुई मंत्रिमण्डल की बैठक में ‘राजस्थान मीसा एवं डी.आई.आर. बंदियों को पेंशन नियम, 2008‘ में संशोधन का निर्णय लिया गया।

संसदीय कार्य मंत्री श्री राजेन्द्र राठौड़ ने मंत्रिमण्डल की बैठक में हुए निर्णयों की जानकारी मीडिया को देते हुए बताया कि राजस्थान मीसा एवं डी.आई.आर. बंदियों को पेंशन नियम, 2008 में संशोधन कर इसका नाम ‘राजस्थान लोकतन्त्र रक्षक सम्मान निधि नियम, 2008‘ किया जाएगा। अब राजस्थान के मूल निवासी ऎसे बंदी जो आपातकाल के दौरान राज्य से बाहर की जेलों में रहे हैं उन्हें भी इन नियमों के तहत पेंशन एवं भत्ते दिए जाएंगे। अब तक सिर्फ राजस्थान की जेलों में बंद रहे राज्य के मूल निवासी मीसा बंदी ही पेंशन और भत्ते के हकदार थे।
amzn_assoc_ad_type =”responsive_search_widget”; amzn_assoc_tracking_id =”politico24x7-21″; amzn_assoc_marketplace =”amazon”; amzn_assoc_region =”IN”; amzn_assoc_placement =””; amzn_assoc_search_type = “search_widget”;amzn_assoc_width =”auto”; amzn_assoc_height =”auto”; amzn_assoc_default_search_category =”Books”; amzn_assoc_default_search_key =”modi “;amzn_assoc_theme =”light”; amzn_assoc_bg_color =”FFFFFF”; //z-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&Operation=GetScript&ID=OneJS&WS=1&Marketplace=INवहीं पेंशन आवेदन के लिए आपातकाल के दौरान मीसा और डी.आई.आर. के अधीन बंदी रहने का प्रमाण पत्र जेल अधीक्षक या जिला पुलिस अधीक्षक से लेना पड़ता था। अब संशोधन के बाद प्रावधान किया गया है कि जेल तथा पुलिस थानों में रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं होने की स्थिति में मीसा बंदी पेंशन के लिए शपथ पत्र तथा संबंधित जिले के वर्तमान या पूर्व विधायक या सांसद द्वारा प्रमाणित दो सहबंदियों के प्रमाण पत्र के आधार पर भी आवेदन किया जा सकेगा।
संशोधन के तहत एक माह जेल में रहने वाले ऎसे मीसा बंदी भी पेंशन एवं भत्तों के हकदार होंगे जो उस समय वयस्क नहीं थे। अब तक जेल में रहे केवल ऎसे मीसाबंदियों को ही पेंशन मिलती थी जो उस समय वयस्क थे।

लव जेहाद : हत्या कर आग के हवाले – आरोपी गिरफ्तार

उदयपुर | राजसंमद में  एक मुस्लिम व्यक्ति की बर्बर हत्या कर दी गई , इस हत्या का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया , जिससे पुरे राजस्थान में सनसनी फेल गई ,वीडियो में आरोपी युवक  मुस्लिम युवक पर कुल्हाड़ी और तलवार से वार करते हुए दिख रहा है  इसके बाद आरोपी युवक ने मुस्लिम युवक को पेट्रोल से आग लगा दी ,मृतक   युवक अस्स्सी प्रतिशत जल चूका है ,राजसमन्द पुलिस ने आरोपी युवक शम्भू लाल रेगर को गिरफ्तार कर लिया है हत्या वीडियो वायरल हो जाने से पूरे राजसमंद में कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया |   राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने एसआईटी गठित कर हत्या की जांच के आदेश दे दिए है । पुलिस जाँच के अनुसार ,मृतक  पश्चिम बंगाल के मालदा के रहने वाले 48 वर्षीय मोहम्मद अफराजुल का है। वही  वीडियो में हमलावर की पहचान उदयपुर  राजसमंद के शम्भूलाल रैगर  के रूप में हुई है। राजसमंद पुलिस स्टेशन के एसएचओ रामसर मीना ने कहा,की  ‘राजसमंद के पास बुधवार को लगभग 1 बजे एक अधजला शरीर मिला था। मृतक की पहचान मोहम्मद अफराजुल के रूप में हुई थी। दोपहर बाद में, हत्या का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया’। वीडियो में संदिग्ध अफराजुल पर पहले कुदाल से वार करता हुआ दिख रहा है। इसके बाद वो तलवार से उसका गला रेतकर उसे आग के हवाले कर देता है। पुलिस अधीक्षक राजसमंद मनोज कुमार ने कहा कि संदिग्ध की पहचान वीडियो से की गई है। उन्होंने कहा, ‘वीडियो में हमलावर की पहचान की राजसमंद के निवासी शंभुलाल रैगर  के रूप में  हुई है। पुलिस ने ये भी कहा कि  वीडियो में संदिग्ध को भड़काऊ और सांप्रदायिक बयान देते भी देखा जा रहा है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक पंकज कुमार सिंह के अनुसार प्रारंभिक जांच में पता चला कि शम्भू लाल रैगर  ने भड़काऊ बयान अफराजुल की हत्या के बाद एक मंदिर में दिए |

पुलिस पर पुरे मामले पर जाँच कर रही है की हत्या के पीछे असली वजह क्या है , फिलहाल आरोपी शम्भू लाल पुलिस हिरासत में है उससे पूछताछ जारी है

 

उत्तरी भारत में निवेश की राजधानी बनता राजस्थान – उद्योग मंत्री

जयपुर, 24 नवंबर। उद्योग व राजकीय उपक्रम मंत्री श्री राजपाल सिंह शेखावत ने राजस्थान में निवेश

की विपुल संभावनाएं बताते हुए कहा कि राजस्थान उत्तरी भारत में निवेश राजधानी बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि आर्थिक विकास की सफलता के लिए विकास में ह्यूमन फेस होना आवश्यक है और केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा आर्थिक क्षेत्र में उठाए गए सुधारात्मक प्रयास इस दिशा में बढ़ते हुए कदम हैं।
उद्योग मंत्री श्री शेखावत शुक्रवार को जयपुर में यस बैंक द्वारा आयोजित यंग एन्टरप्रोन्योर कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एमएसएमई क्षेत्र में मेन्यूफेक्सरिंग के साथ ही सेवा क्षेत्र को और जोड़ दिया जाए तो 35 प्रतिशत तक जीडीपी में भागीदारी तय हो सकती है। उन्होंने कहा कि औद्योगिक निवेश के लिए निवेशक कच्चा माल, आधारभूत सुविधाएं, मानव संसाधन, कानून व्यवस्था को देखते हैं और इसमें राजस्थान अग्रणी प्रदेश होने से निवेशक राजस्थान की और आकर्षित हो रहे हैं। उन्होेंने कहा कि डीएमआईसी, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और फ्रंट कोरिडोर का अधिकांश हिस्सा राजस्थान में आने से राजस्थान में औद्योगिक विकास की अधिक संभावना है। उन्होंने बताया कि आने वाले समय में राजस्थान आईटी क्षेत्र में भी बड़ा लोजिस्टिक सेंटर बन कर उभरने की तैयारी मेें है।
श्री शेखावत ने भामाशाह की चर्चा करते हुए कहा कि समाज उन्हीं को याद करता है जो समाज को देने में आगे रहता है। उन्होंने एमएसएमई क्षेत्र में शोध एवं अनुसंधान को बढ़ावा देने के प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने यस बैंक से एमएसएमई क्षेत्र की ऋण जरुरतों को पूरा करने के लिए आगे आने का सुझाव दिया। उन्होेंने कहा कि आर्थिक क्षेत्र में सुधारोें को बढ़ाते हुए विमुद्रीकरण और जीएसटी जैसे कदम उठाने से दुनिया में तेजी से बढ़ती हुई अर्थ व्यवस्था मेंं तब्दील हो रही है।
समारोह में राजस्थान चेंबर ऑफ कॉमर्स के मानद महासचिव श्री के.एल. जैन ने कहा कि राजस्थान मेें निवेशक आना चाहते हैं क्योंकि यहां सरकार आगे आकर सहयोगी की भूमिका निभा रही है। उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार की कार्य प्रणाली बेहतर होने से यहां औद्योगिक विकास का अच्छा माहौल बना है।

भारत सरकार – बैंक चेकबुक सुविधा वापस लेने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं

होता रहेगा चेकबुक का उपयोग …………………….

 

मीडिया के एक वर्ग में इस आशय की खबरें आ रही हैं कि केन्द्र सरकार डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से निकट भविष्य में बैंक चेकबुक सुविधा वापस ले सकती है। हालांकि,  भारत सरकार द्वारा इस बात से इन्कार किया जाता है कि बैंक चेकबुक सुविधा वापस लेने का कोई भी प्रस्ताव सरकार के विचाराधीन है।

s pic

इस संबंध में इस बात पर विशेष जोर दिया जाता है कि वैसे तो सरकार भारत को ‘ कैशलेस‘ अर्थव्यवस्था में तब्दील करने और डिजिटल तथा इलेक्ट्रॉनिक लेन-देन को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है, लेकिन चेक वास्तव में धनराशि भुगतान परिदृश्य का अभिन्न अंग है और इसके साथ ही यह व्यापार एवं वाणिज्य की रीढ़ है।

दुनिया की तीसरी सबसे अधिक भरोसेमंद है मोदी सरकार: वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम

 रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भारत की रेटिंग बढ़ाने जाने के बाद मोदी सरकार के लिए एक और अच्छी ख़बर आई है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के सर्वे में यह बात निकलकर सामने आई है कि मोदी सरकार दुनिया की तीसरी सबसे अधिक भरोसे वाली सरकार है। इस सूची में स्विट्जरलैंड सरकार को पहला जबकि इंडोनेशिया की सरकार को दूसरा स्थान दिया गया  है।

सर्वे की माने तो, 82 फीसदी स्विस नागरिकों ने अपनी सरकार पर भरोसा कायम रखा है

वहीं इंडोनेशिया की सरकार पर भी 82 प्रतिशत जनता ने अपना भरोसा जताया है। भारत की बात की जाए तो देश में 73 फीसदी लोग ऐसे हैं जो अपनी सरकार पर मजबूती से भरोसा करते हैं। यह सर्वे ऐसे समय में आया है जब गुजरात चुनावों के दौरान विपक्ष जीएसटी और नोटबंदी जैसे मुद्दों को लेकर मोदी सरकार पर लगातार निशाना बना रहा है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री जे पी नड्डा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर यह सूची साझा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी और कहा कि सर्वेक्षण के नतीजे दर्शाते हैं कि देश प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्‍व में सही दिशा में आगे बढ़ रहा है।

210 सरकारी वेबसाइट से आधार डेटा चोरी –

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने एक आर .टी .आई के जवाब में कहा है की केंद्र व् राज्यों की 210 सरकारी  वेबसाइट पर आधार लभार्तियो के नाम ,पत्ते सार्वजानिक हुवे थे | भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण को सूचना मिलते ही ,उपरोक्त संबधित जानकारिया हटा ली गई |

एक नजर – सरकार आधार कार्ड से सभी भारतीयों को एक विशिष्ट पह

चान उपलब्ध कराती है जिसमे व्यक्ति की सभी  निजी जानकारी शामिल होती है ,अब जब सरकारी वेबसाइट के माध्यम से ही लोगो की निजी जानकारीया लिक हो रही है तो यह बड़ी सोचने वाली बात है एक और तो सरकार हमे प्राइवेसी कानून के माध्यम से निजता का अधिकार देती है | और एक और सरकारी विभागों से आज हमारी सभी निजी ,महत्वपूर्ण जानकारिय लिक हो रही है  अगर यह सभी महत्वपूर्ण  सूचनाये असामाजिक तत्वों के हाथ लगती है तो भविष्य में  इसके कितने घातक परिणाम  हो सकते है यह एक गंभीर मुद्दा है

लोभ -लालच और प्रलोभन से अब नहीं हो सकेगा धर्म परिवर्तन – राजस्थान सरकार ” धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 ” को कानून बना सकती है |

 नहीं होगा आसा अब …………………..धर्म परिवर्तन 

जयपुर | राजस्थान सरकार अब लोभ -लालच और प्रलोभन के द्वारा धर्म परिवर्तन करने वाले संगठन पर लगाम लगाने हेतु  ” धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 ” को राष्ट्पति कोविंद द्वारा पास करवाने के लिए अपना उच्चतम प्रयास कर रही है .अगर ” धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 ”  कानून का रूप अख्तियार  कर लेता है तो राजस्थान राज्य में धर्म परिवर्तन करना आसान नहीं होगा , इसके लिए  सरकार से अनुमति लेनी होगी और सरकार की अनुमति के आधार पर ही व्यक्ति अपना धर्म परिवर्तन कर सकेगा |

इस कानून के क्या होगे मायने है – एक ख़ास नजर 

भारत वर्ष में जाती -भेद  भाव और लिंग के आधार पर उच्च -निच्च के  वर्ग में समाज को बाटा गया है , साथ ही भारतीय संविधान सभी वर्ग -धर्म जात -पात को निराधार मानते हुवे – समानता का अधिकार देता है किन्तु समाज में कथित कुछ धार्मिक संगठनो द्वारा गरीब और समाज के वंचित तबके को लोभ -लालच देकर उनका धर्म परिवर्तन करवाने की घटनाए अकसर देखने और सुनने को मिलती है की कुछ धार्मिक संगठन , एन जी ओ  चोरी – छिपे गरीबो { sc / st } वर्ग के लोगो को रुपए ,लालच ,  दबंगई  ,लव जिहाद  जैसे मुद्दो के आधार पर धर्म परिवर्तन करवा रही है , ” धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 ” को कानून का रूप अख्तियार  करने के  बाद  कलेक्टर की मंजूरी के बाद ही व्यक्ति धर्म परिवर्तन कर सकेगा , अगर व्यक्ति बिना कलेक्टर मंजूरी  के धर्म परिवर्तन करता  है तो उसे 5 साल तक की सजा हो सकती है  और जाँच में कोई संगठन की भूमिका संधिगद पाई जाती है तो उसका लाइसेंस रदद और साथ ही सजा का प्रावधान होगा |

जनता संवाद – 

प्रशांत दुबे – राज्य सरकार का यह “धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 ” बिल्कुल सही है वर्तमान में कुछ कथित  धार्मिक संगठन  लडकियों को लोभ -लालच  ,लव जेहाद  ,और गलत सोच के साथ  बहला -फुसलाकर  धर्म  परिवर्तन करवाते है जिसमे कुछ समय बाद कुछ लडकियों  ने आत्म हत्या जैसे प्रयास किये , धर्म परिवर्तन पर सही गाइड  लाईन  बननी चाहिए  |

पवन देव – राज्य सरकार  का यह “धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008” कुछ मायनो में सही है किन्तु दलित समुदाय के लोग सामाजिक कुरूतियो  से  त्रस्त  होकर अगर अपना धर्म  बदलकर सामाजिक रूप से  सम्मान जनक जीवन जीता है तो धर्म परिवर्तन करना सही है और व्यक्ति  धर्म  परिवर्तन के लिए स्वतंत्र होना चाहिए  ,जैसा भारत का संविधान समानता का अधिकार देता है  |

कुछ विशेष तथ्य –  ” धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 ” से  –

{1}  sc /st व् गरीब तबके के लोगो को जबरन / दबंगई / लालच / लव जेहाद और व्यक्ति की मर्जी के बीना धर्म परिवर्तन  करवाने पर 3  साल की  व् जुर्माने का प्रावधान 

{ 2}  sc /st व् 18 साल से कम उम्र के बच्चो का धर्म परिवर्तन करवाने 5 साल की सजा 

नोट : कोई व्यक्ति मूल धर्म में वापस लोटना चाहता है तो उसे किसी भी प्रकार की सुचना जिला कलेक्टर और राज्य सरकार को नहीं देनी होगी |  मूल धर्म में लोटने की उसे पूर्ण स्वत्रता होगी |

जी.एस.टी. दरों में कमी से जनता को राहत मिलेगी: मुख्यमंत्री

13 नवम्बर, 2017 | जयपुर/अलवर

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि जीएसटी काउंसिल ने कल जिन 177 वस्तुओं की दरें कम की हैं उनसे प्रदेश की जनता को राहत मिली है। मुख्यमंत्री ने अलवर शहर विधानसभा क्षेत्र में सर्वसमाज के साथ जनसंवाद में कहा कि जीएसटी की अधिक दरों के कारण प्रदेश के छोटे व्यापारियों, उद्यमियों और मार्बल व्यवसायियों को हो रही परेशानी को देखते हुए हमने केन्द्र सरकार से जीएसटी दरों में कमी लाने का आग्रह किया और हमारे प्रयास सफल हुए।

उन्होंने कहा कि इसका लाभ राजस्थान के व्यापारियों एवं उद्यमियों सहित आम जनता को भी मिलेगा। उन्होंने इसके लिए

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं वित्त मंत्री अरूण जेटली का आभार जताया। उन्होंने कहा कि आमने-सामने बैठकर बात करने से समस्याओं की ज़मीनी हकीकत का पता चलता है और हमने जो विकास कार्य कराए, उनका फीडबैक भी मिलता है। स्थानीय समाज की मांग पर मुख्यमंत्री ने अलवर में वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप का स्टेच्यू बनाने के लिए 70 लाख रुपए की मंज़ूरी दे दी है।

प्रतिनिधि मंडल में आई अनूप कंवर ने वार्ड 29 में पानी की समस्या की बात रखी तो मुख्यमंत्री ने मौके पर ही अधिकारियों को अमृत योजना में दो ट्यूबवेल लगाकर इस समस्या का समाधान करने के लिए कहा। इसी तरह जनसंवाद में आए लोगों ने अम्बेडकर नगर में बालिका छात्रावास के लिए किए गए भूमि आवंटन के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। विभिन्न समाजों ने हाल ही में यूआईटी द्वारा किए गए भूमि आवंटन के लिए उनको धन्यवाद दिया।

श्रीमती राजे ने स्थानीय लोगों की मांग पर शहीद हेमू कॉलानी की जीवनी को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पाठ्यक्रम में शामिल करने की घोषणा की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि हर हाल में अलवर शहर साफ सुथरा नज़र आना चाहिए। उन्होंने शहर में सफाई व्यवस्था के बारे में मिली शिकायतों और सुझावों के बाद नगर परिषद आयुक्त को निर्देश दिए कि 15 दिन में सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने की कार्रवाई करें। उन्होंने हाउसिंग बोर्ड में सीवर डिस्पोज़ल की समस्या को दूर करने के लिए दस दिन में नया प्लान तैयार करने के लिए भी यूआईटी, पीडब्ल्यूडी और हाउसिंग बोर्ड को संयुक्त ज़िम्मेदारी दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अलवर शहर तक चम्बल का पानी पहुंचाने के लिए राज्य सरकार पूरे प्रयास कर रही है। फिर भी हम

 

सबकी ज़िम्मेदारी है कि रूफ वॉटर हार्वेस्टिंग जैसे प्रयास कर पानी बचाएं। साथ ही मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान (शहरी) में पूरी भागीदारी निभाएं और शहर की बावडिय़ों को साफ कर पुनर्जीवित करने में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि पूरे अलवर में पानी की गंभीर समस्या है ऐसे में शहर में बड़े बड़े पोस्टर लगाकर लोगों को पानी बचाने का संदेश दें। एसटीपी प्लांट लगाकर गंदे पानी को साफ कर उसे बगीचों और लॉन में इस्तेमाल करें।

मंत्रियो की बयानबाजी ,अभिव्यक्ति की आजादी है या नहीं , संविधान बेंच करेगी फ़ेसला –

 मंत्रियों की बयानबाजी ,बोलने की आजादी है या नहीं ,संविधान बेंच करेगी फैसला 

नई दिल्ली | किसी संवेदनशील मामले की जाँच के बीच में ही कोई मंत्री या जन सेवक बोलने की आजादी का हवाला देकर बयानबाजी कर सकता है या नहीं   इसका फ़ेसला अब सुप्रीम कोर्ट  की पांच जजों की संविधान पीठ करेगी | उत्तर प्रदेश के पूर्व सपा सरकार के 

मंत्री आजम खान द्वारा बुलंद शहर में माँ -बेटी से गेंगरेप को सियासी साजिश बताने के खिलाफ दायर याचिगा पर सुनवाई में ऐसे  कई सवाल उठे थे | चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अदातली  वाली 3 सदस्यीय बेंच ने कहा ,ऐसे सवालो पर बड़ी बेंच विचार करेगी | सोशल मिडिया के दुरूपयोग पर चिंता जताते हुए बेंच ने  कहा की लोग अदातली कार्यवाही के बारे में झुट फेलाते  है

एमिक्स क्युरी फली एस नरीमन ने कोर्ट की देख -रेख  पर सहमती जताते हुए कहा ,सोशल  मिडिया प्लेटफार्म  पर गलत सूचनाये और गाली – गलोच मौजद है |

%d bloggers like this: