राजस्थान में गहलोत सरकार पर मंडराया ये बड़ा खतरा

कोरोना काल में राजस्थान की गहलोत सरकार पर ​खतरा एक फिर से मंडराने लगा है इस बात का खुलासा स्वंय राज्य के सीएम गहलोत ने किया है। गहलोत ने बताया कि उनकी सरकार को एक बार फिर से अस्थिर करने की तैयारी की जा रही है लेकिन इस बार भी उनको कामयाबी नहीं मिलेगी। इस खबर के बाद से यह कयास लगाये जा रहे है कि पायलट खेमा नाराज है या फिर वह अपनी मांग पूरी नहीं होने के कारण कुछ ऐसा करने का प्रयास कर रहा है। सीएम गलतोत ने ​कहा कि पिछली बार जब सरकार गिराने की रणनीति बनाई गयी थी तब अमित शाह इसके पीछे ​थे जिसके पुख्ता जानकारी हमारे पास है।

प्रदेश में कोरोना के कारण बहुत ज्यादा लोगों को परेशा​नी झेलनी पड़ रही है और ऐसे समय में अगर सरकार को गिराने की बात सामने आ रही है तो यह प्रदेशवासियों के लिए सही नहीं होगा। क्योंकि पिछले दिनों राज्य की जनता ने देखा था कि जब कोरोना फैल रहा था तो सरकार एक महीने तक होटल में रही जिसके कारण लोगों को बहुत ज्यादा परेशानी उठानी पड़ी थी।

गहलोत और पायलट खेमे में पिछले दिनों से कोई ज्यादा बयानबाजी नहींं हुई है लेकिन इसके बाद भी सीएम का यह बयान बहुत कुछ होने की तरफ इशारा कर रहा है। अगर इन दोनों खेमों के बीच खिचतान कम नहीं हुई तो कांग्रेस पार्टी के लिए एक बार फिर बड़ी परेशानी खड़ी हो सकती है जिसमें दिल्ली में बैठे नेताओं को फिर हस्तक्षेप करना पड़ सकता है।

गहलोत के इए बयान के बाद बीजेपी ने कहा कि वह हर बार अपनी ही सरकार के मंत्रियों पर पैसे लेने का आरोप लगाकर सरकार गिराने को आरोप बीजेपी पर मंड़ते है। अगर खुद के परिवार की लड़ाई को वह हल नहीं कर पा रहे है तो प्रदेश की जनता का ध्यान वह कैसे रखेंगे।

 

 

ताज नहीं है आसा कांग्रेस के लिए – मुख्यमंत्री गहलोत व् उपमुख्यमंत्री सचिन पायलेट ने की शपथ –

राजस्थान में कांग्रेस सरकार – मुख्यमंत्री व् उपमुख्यमंत्री ने ली गोपनीयता की शपथ –

जयपुर | राजस्थान में कांग्रेस सरकार सत्ता में आ गई है ,जनता के जनादेश के बाद आज जयपुर के अल्बर्ट हाल के सामने राज्यपाल कल्याण सिंह ने कांग्रेस के विधायक दल के नेता { मुख्यमंत्री } अशोक गहलोत व् उपमुख्यमंत्री सचिन पायलेट को गोपनीयता की शपथ दिलाई |

महा गठबंधन ने दिखाई लोकसभा से पहले शक्ति –

राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की सरकार के मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में राहुल गांधी , फारुख अब्दुल्ल्हा , पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह , नवजोत सिंह सिध्हू ,व् अन्य 17 दलों के प्रतिनिधित्व मौजूद रहे जिसे लोकसभा चुनाव से पूर्व एक मंच द्वारा ” शक्ति प्रदर्शन ” के रूप में देखा जा रहा है |

राह नहीं आसा – सचिन ,गहलोत के लिए –

गौरतलब है कांग्रेस सरकार बनाने में कामयाब ज़रूर हुई है लेकिन विपक्ष भी मजबूत स्थिति में है साथ ही अन्य दल व् निर्दलित प्रत्याशी  अच्छी ख़ासी संख्या में जिसके चलते यह अनुमान लगाना सहज ही है विधानसभा आगामी समय में कितनी अच्छी तरह से चलती है देखना होगा |

किसान कर्ज माफ़ी –

कांग्रेस के राष्टीय अध्यक्ष राहुल गाँधी ने अपने चुनाव प्रचार में यह साफ़ कह दिया था की कांग्रेस सरकार बनते ही सबसे पहले किसानों का कर्ज माफ़ किया जायेगा , जिसके बाद मध्य प्रदेश में कमल नाथ ने अपने शपथ ग्रहण के बाद किसानों  के कर्ज माफ़ी की फ़ाइल् मंगा कर किसानों का कर्ज माफ़ कर दिया – जो की कांग्रेस की एक बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है |

 

 

 

%d bloggers like this: