लगातार 13 वें दिन नहीं चल सका प्रश्नकाल

नई दिल्ली। तेलंगाना में आरक्षण से जुड़े मुद्दे पर तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के और कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड के गठन की मांग को लेकर अन्नाद्रमुक के भारी हंगामे की वजह से बुधवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

बजट सत्र के दूसरे चरण में गत दो सप्ताह की कार्यवाही हंगामे की वजह से बाधित रहने के बाद तीसरे सप्ताह में भी कोई कामकाज नहीं हो पा रहा है और बुधवार को लगातार 13 वें दिन भी प्रश्नकाल हंगामे की भेंट चढ़ गया। लोकसभा की कार्यवाही बुधवार सुबह जैसे ही आरंभ हुई तो अन्नाद्रमुक और टीआरएस के सदस्य नारेबाजी करते हुए अध्यक्ष के आसन के निकट पहुंच गए।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने प्रश्नकाल चलाने का प्रयास किया लेकिन हंगामा थमता नहीं देख उन्होंने सदन की कार्यवाही एक घंटे के लिए स्थगित कर दी। अन्नाद्रमुक और टीआरएस के सदस्य ‘वी वांट जस्टिस’ के नारे लगा रहे थे। टीआरएस के सदस्यों ने ‘एक राष्ट्र, एक नीति’ की मांग वाली तख्तियां ले रखी थीं। बजट सत्र के दूसरे चरण में पांच मार्च को आरंभ होने के बाद से लोकसभा की कार्यवाही पीएनबी धोखाधड़ी मामले, आंध्र प्रदेश के लिए विशेष दर्जे की मांग और तेलंगाना में आरक्षण के मुद्दे सहित कई विषयों पर लगभग रोजाना बाधित हो रही है।

तमिलनाडु : RK नगर उपचुनाव से पहले जयललिता का वीडियो जारी, EC ने लिया संज्ञान

चेन्नई। तमिलनाडु में आरके नगर उपचुनाव के ठीक पहले राज्य की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता का एक वीडियो जारी हुआ है। यह वीडियो तब का है जब जयललिता इलाज के लिए अपोलो अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। वीडियो दिनाकरण गुट के एक नेता पी वेट्रीवेल ने जारी किया है। इसके सामने आने के बाद पूरे मामले में चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया है और दिनाकरण पर केस दर्ज हो सकता है।
amzn_assoc_ad_type =”responsive_search_widget”; amzn_assoc_tracking_id =”politico24x7-21″; amzn_assoc_marketplace =”amazon”; amzn_assoc_region =”IN”; amzn_assoc_placement =””; amzn_assoc_search_type = “search_widget”;amzn_assoc_width =”auto”; amzn_assoc_height =”auto”; amzn_assoc_default_search_category =”Shoes”; amzn_assoc_default_search_key =””;amzn_assoc_theme =”light”; amzn_assoc_bg_color =”FFFFFF”; //z-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&Operation=GetScript&ID=OneJS&WS=1&Marketplace=IN
आरके नगर उपचुनाव के लिए प्रचार थम चुका है और गुरुवार को मतदान होना है। ऐसे में जयललिता का यह वीडियो जारी किए जाने को आयोग ने आचार संहिता का उल्लंघन माना है। जो वीडियो जारी हुआ है उसमें जयललिता जूस पीती नजर आ रही हैं। उनकी हालत काफी नाजुक दिख रही है। वीडियो आरके नगर उपचुनाव के ठीक एक दिन पहले जारी किया गया है जिसके बाद सियासी पारा गरमाने लगा है। माना जा रहा है कि दिनाकरण गुट ने जनता की सहानुभूति पाने की कोशिश में यह वीडियो जारी किया है।

 

वीडियो जारी करने के बाद पी वेटरवेल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह वीडियो तब का है जब जयललिता का अपोलो अस्पताल में इलाज चल रहा था। यह झूठ है कि उस दौरान उनसे कोई मिलने के लिए नहीं गया। वेटरीवेल ने आगे कहा कि हमारे पास वीडियो प्रूफ है और इसे जारी करने से पहले हमने कई दिनों तक इंतजार किया लेकिन अब हमारे पास कोई विकल्प नहीं बचा। जांच कमिशन ने अभी तक हमें समन नहीं किया है लेकिन हमे बुलाया जाता है तो हम यह वीडियो उन्हें सौंप देंगे।

 

बता दें कि पिछले साल 22 सितंबर को जयललिता की तबीयत बिगड़ने के बाद 5 दिसंबर को इलाज के दौरान उनका निधन हो गया था। इसके बाद से ही लगातार उनके इलाज और निधन को लेकर कई तरह के सवाल राजनीतिक दल उठाते आ रहे हैं। इसके चलते इस पूरे मामले की जांच के लिए एक जांच आयोग का भी गठन किया गया है।

%d bloggers like this: