साइबर अपराध समाज और पुलिस के समक्ष निरन्तर चुनौती बनते जा रहे हैं, साइबर लिटरेसी बढ़ाने की आवश्यकता – महानिदेशक पुलिस एम.एल लाठर

साइबर लिटरेसी बढ़ाने की आवश्यकता महानिदेशक पुलिस
जयपुर, 16 अप्रैल। महानिदेशक पुलिस  एम.एल. लाठर ने कहा है कि बढ़ते साइबर अपराध समाज और पुलिस के समक्ष निरन्तर चुनौती बनते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आमजन को ऑनलाईन बिहेवियर के बारे में जागरुक करने के साथ ही वर्तमान आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए साइबर लिटरेसी बढ़ाने की आवश्यकता है।
 लाठर शुक्रवार को पुलिस मुख्यालय में राजस्थान पुलिस अकादमी, यूनीसेफ और साइबर पीस फाउण्डेशन के संयुक्त तत्वाधान में राजस्थान पुलिस स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित एक महीने के साइबर सेफ्टी कैम्पेन का वेबीनार द्वारा शुभारम्भ कर रहे थे। इस कैम्पेन के दौरान साइबर सुरक्षा के संबंध में व्यापक जन चेतना के लिए वर्चुअल सेमीनार सहित अन्य कार्यक्रमाें का आयोजन भी किया जाएगा।
महानिदेशक पुलिस ने कहा कि आमजन को साइबर संबंधी कानून एवं साइबर अपराधों के बारे में अवगत कराने के साथ ही साइबर अपराधों से बचने के लिए अपनाई जाने वाली सावधानियाें के बारे में अवगत कराने की आवश्यकता है। कोरोना काल के दौरान व्यापार,शिक्षा, भुगतान से लेकर अन्य गतिविधियाें में इन्टरनेट का व्यापक रुप से उपयोग किया जा रहा है। साइबर अवेयरनैस कम होने पर आमजन साइबर क्रिमीनल के शिकार हो सकते हैं।
लाठर ने बताया कि राजस्थान पुलिस ने महिलाओं एवं बच्चों के विरुद्व होने वाले अपराधों की रोकथाम के बारे में एप बनाए हैं। इनके साथ ही बनाए गए राजस्थान सिटीजन व अन्य एप राजस्थान पुलिस की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं एवं आमजन इन्हें डाउनलोड कर इनका उपयोग कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि प्रत्येक जिले में साइबर यूनिट कार्य कर रही है एवं यह यूनिट 5 लाख रुपये तक की राशि के साइबर अपराधों के बारे में अनुसंधान करती है। इससे अधिक राशि  के साइबर अपराधों का अनुसंधान एसओजी के तहत गठित साइबर थानों द्वारा किए जा रहे हैं।
अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस एवं निदेशक आरपीए  राजीव शर्मा ने साइबर सेफ्टी कैम्पेन के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की वर्ष 2020 में जारी रिपोर्ट के अनुसार साइबर अपराधों में 63 प्रतिशत की वृद्वि हुई है। वितीय मामलों में नुकसान के साथ ही डेटा चोरी होने से आमजन की निजता भी प्रभावित होती है। साइबर अपराधियों की पहचान करना चुनौतीपूर्ण कार्य है।
वेबीनार में यूनीसेफ के संजय निराला ने आम नागरिकों को साइबर सुरक्षा के सम्बन्ध में जागरुक करने के लिए व्यापक अभियान संचालित करने पर बल दिया। साइबर पीस फाउण्डेशन के श्री विनीत कुमार ने बताया कि एक माह के इस कैम्पेन के दौरान अलग-अलग विषयों पर आठ वेबीनार आयोजित की जा रही हैं। वेबीनार में अति. महानिदेशक पुलिस, तकनीकी एवं दूरसंचार  सुनील दत्त भी मौजूद थे।

चाकसू : महामानव डॉ भीमराव अंबेडकर की 130 जयंती मनाई –

महामानव डॉ भीमराव अंबेडकर की 130 जयंती मनाई

सामाजिक कार्यकर्ता धर्मेंद्र तामडिया अध्यक्ष संवैधानिक अधिकार संगठन राजस्थान ने बताया कि बाबा साहब डॉक्टर बी आर अंबेडकर जयंती समारोह समिति चाकसू के अध्यक्ष जुगल किशोर बौद्ध के नेतृत्व में संविधान निर्माता विश्व रतन बोधिसत्व बाबा साहब डॉक्टर बी आर अंबेडकर जी की 130 वी जयंती अंबेडकर सर्किल चाकसू में मनाई गई सुबह से ही अंबेडकर सर्किल पर भारत स्काउट गाइड के छात्रों ने रंगोली सजाई इसके बाद दीप प्रज्वलन कर एम्बस के स्टेट ऑर्गेनाइजर घनश्याम गौतम के द्वारा बुद्ध वंदना करवाई गई इसके बाद बाबा साहब के जीवन संघर्ष पर प्रकाश डाला और कहा कि आज के युवाओं को बाबा साहब की मानवतावादी विचारधारा के मार्ग पर चलने की आवश्यकता है तभी हम बाबा साहब के सपनों का भारत बना पाएंगे इसके बाद राहुल डांस ग्रुप के कलाकारों ने डांस प्रस्तुति दी |

 

 

इसके उपरांत उपस्थित सभी लोगों ने बाबा साहब की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किए और कार्यक्रम का समापन किया गया इस दौरान समिति के महासचिव गोवर्धन लाल बेरवा, कोषाध्यक्ष अभिषेक सांवरिया , पूर्व अध्यक्ष सचिन सांवरिया, नारायण लाल बेरवा जगदीश बेरवा, वरिष्ठ कार्यकर्ता लादूराम वर्मा, भूपेन्द्र गौतम ,चेयरमैन नगर पालिका चाकसू कमलेश बैरवा,व पार्षद दयाराम कुडारा , विक्रम सांवरिया , सनी नैनीवाल, दिनेश शर्मा, पुर्व पार्षद मेहराज खान, फुले बिग्रेड के प्रदेश उपाध्यक्ष पूर्व पार्षद हनुमान सिंह सैनी, प्रवक्ता सीताराम मंडावरिया , वरिष्ठ कार्यकर्ता छितरमल जगरवाल ,राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय चाकसू के प्राचार्य रामलाल मीणा, कानूनगो संघ जयपुर जिला अध्यक्ष ओम प्रकाश मीणा, पटवार संघ के तहसील चाकसू अध्यक्ष विजेंद्र मीणा, चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर मधुसूदन सिंह डॉ रामअवतार सांवरिया, रोशन लाल उचैनिया , शिव शंकर उचैनिया चिरंजीलाल बौद्ध ,पूर्व पार्षद मोती लाल बेरवा ,राष्ट्रीय सेवा योजना से हरीश बेरवा, प्रचार मंत्री प्रह्लाद धामनिया, भीम आर्मी विधानसभा अध्यक्ष हेमराज बेरवा, भागचंद खोलिया, रेवाशंकर मंडावरिया, भारत स्काउट गाइड के रोवर लीडर मुकेश कुमार बडोलिया ,केशव, राहुल, चेतन आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे |

 

महंगी होती बिजली के खिलाफ विरोध प्रदर्शन –

कच्ची बस्तियों के लोगों ने मंहगी होती बिजली के अमानवीय पहलू पर ध्यान आकर्षित करने के लिए किया प्रदर्शन
दूसरे राज्यों में चुनाव में 200 यूनिट मुफ्त बिजली का वादा करने वाली कांग्रेस पार्टी राजस्थान में सरकार में होते हुए देश में सबसे मंहगी बिजली क्यूं देती है?
12 अप्रैल, जयपुर। बिजली उपभोक्ता संघर्ष समिति जयपुर ने आज मालवीय नगर सहायक अभियंता कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन कर बिजली बिलों में हो रही धांधली के खिलाफ ज्ञापन सौंपा। विरोध प्रदर्शन में इंद्रा नगर कच्ची बस्ती, सरदार बस्ती झालाना, मालवीय नगर कच्ची बस्ती के लोग शामिल हुए। राजस्थान यूनिवर्सिटी एवं शहर के अलग-अलग संस्थानों में पढ़ने वाले विद्यार्थी, सामाजिक कार्यकर्ता तथा दिहाड़ी मजदूरों सहित, आम नागरिकों ने भी प्रदर्शन में हिस्सा लिया।
कच्ची बस्ती से आई महिलाओं का कहना था कि बस्ती में बिजली के बिल बहुत ही ज़्यादा आता है। एक पंखा और दो बल्ब जलाने वालों का भी डेढ़-दो हज़ार का बिल आता है, बहुत लोगों का तो दस हजार तक के बिल भी आए हैं। बस्ती के लोगों के हालात ऐसे नहीं हैं कि वो इतनी महंगी बिजली की मार सह सकें। झालाना से अाई सुनीता जी ने कहा, “लोग किसी तरह पाई पाईजोड़ कर जब तक एक बिल चुकाते हैं, दूसरा बिल आ जाता है। जुड़ते-जुड़ते ये बिजली के बिल पहाड़ जैसे हो जाते हैं और फिर कनेक्शन कट जाता है, मीटर उखाड़ लेते हैं। क्या हमारे बूढ़े बुज़ुर्ग, बीमार लोग, छोटे छोटे बच्चों को गर्मी और अंधेरे में सिर्फ इसलिए रहना पड़ेगा क्यूं कि हमें काम धंधा नहीं मिल पाया? क्या गरीब के बच्चों को पढ़ने का हक नहीं? सरकार हमको अच्छा काम दे, नहीं तो महंगाई कम करे।”
बिजली उपभोक्ता संघर्ष समिति का कहना है कि राजस्थान सरकार बिजली को जनसेवा  के साधन से बिजली कम्पनियों के लिए एक मुनाफे के साधन में बदलना चाहती है। इसके चलते बिजली कम्पनियों ने मनमानी लूट मचा रखी है। राजस्थान देश में सबसे ज़्यादा बिजली बनाने वाले राज्यों में से एक है, फिर भी राजस्थान में बिजली देश में सबसे महंगी है। राजस्थान में सत्तारूढ़ कोंग्रेस पार्टी असम में चुनाव में 200 यूनिट मुफ्त बिजली का वादा कर सकती है, तो फिर राजस्थान की जनता के साथ ये अन्याय क्यूं? खराब मीटर और बिजली विभाग और बिजली कम्पनियों की जनविरोधी नीतियों के चलते,  हर घर में जलने वाले उपकरणों की तुलना में, बिल में बहुत ज़्यादा स्थाई शुल्क आता है और इसके साथ साथ विद्युत शुल्क ,नगरीय कर, फ्यूल सरचार्ज आदि कई प्रकार के शुल्क और जोड़ दिए जाते हैं। लोग जितनी बिजली जलाते हैं, उस से तीन चार गुना बिल आता है। बहुत से लोगों का तो 20-20 गुना बिल देखा गया है। निजीकरण के चलते ही इन बिलों की वसूली भी जमींदारी तरीकों से की जाती है। समझौता समितियां बिना उपभोक्ताओं को समझौता प्रक्रिया में शामिल किए ही मनमाने सेटलमेंट करती है। कच्ची बस्तियों में रहने वाले लोगों के लिए ये पूरी प्रक्रिया बहुत ही भयानक आर्थिक और मानसिक संकट का रूप ले लेती है। सरकार को लोगो के हालात को समझते हुए बिजली बिलों को काबू में लाते हुए, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं को हर नागरिक की पहुंच में लाना चाहिए।
बिजली उपभोक्ता संघर्ष समिति जयपुर की मुख्य माँगें हैं – बिजली बिलों में की गई बढ़ोत्तरी वापस लो, कोरोना काल के बिजली बिल माफ करो, स्थाई शुल्क लेना बंद करो,पड़ोसी के बकाया बिजली बिलों के नाम पर उपभोक्ता का कनेक्शन काटना बंद करो,  हर परिवार को 200 यूनिट बिजली मुफ्त दो, खराब व तेज चलने वाले मीटर तुरंत बदलो, बिजली विभाग का निजीकरण बंद करो, बिजली(संशोधन) विधेयक 2020 खारिज करो।

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीकरण के लिए जन आधार कार्ड आवश्यक

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना
जयपुर, 13 अप्रैल। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना राज्य सरकार की सम्पूर्ण देश में एक अद्वितीय जनकल्याणकारी योजना है। योजना में पंजीकरण कराने हेतु जन आधार कार्ड को आवश्यक किया गया है। योजनान्तर्गत एन.एफ.एस.ए., सामाजिक आर्थिक एवं जातिगत जनगणना ¼SECC½] राज्य सरकार के संविदाकर्मी एवं लघु सीमान्त कृषकों को निःशुल्क स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ दिया जा रहा है। इन चार श्रेणियों के अतिरिक्त राज्य के समस्त निवासी जन आधार कार्डधारी परिवार भी 850 रूपये शुल्क (कुल प्रीमीयम का लगभग 50 प्रतिशत) जमा करा कर मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीकरण करवा सकते है, उक्त प्रीमीयम का लगभग 50 प्रतिशत शुल्क राज्य सरकार द्वारा वहन किया जा रहा है।
शासन सचिव, आयोजना एवं पदेन महानिदेशक राजस्थान जन आधार प्राधिकरण श्री नवीन जैन ने बताया कि जन आधार कार्ड बनवाने एवं मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीकरण हेतु किसी भी प्रकार की न्यूनतम अथवा अधिकतम आय अथवा आयु सीमा निर्धारित नहीं है, राज्य का कोई भी निवासी जन आधार कार्ड बनवाकर मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीकरण के माध्यम से स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ प्राप्त कर सकता है। जन आधार कार्ड नामांकन पश्चात् सत्यापन की निर्धारित प्रक्रिया उपरान्त जन आधार ई-कार्ड जारी कर दिया जाता है। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीकरण जन आधार नामांकन की रसीद संख्या (EID) अथवा जन आधार संख्या अथवा जन आधार ई-कार्ड डाउनलोड करके भी कराया जा सकता है, इसके लिए मुद्रित कार्ड ही होने की आवश्यकता नहीं है। जन आधार कार्ड के माध्यम से न केवल मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में अपितु राज्य की अन्य जनकल्याणकारी योजनाओं में भी पात्रतानुसार लाभ प्राप्त किया जा सकता है।
 नवीन जैन ने यह भी स्पष्ट किया कि आमजन में जन आधार कार्ड के संबंध में यह भ्रांति है कि उन्हें राज्य सरकार द्वारा मुद्रित जन आधार कार्ड उपलब्ध कराया जाएगा, जबकि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम में चयनित लोगों को केवल एकबार ही मुद्रित कार्ड जारी किया गया है। वर्तमान में आवेदकों को जन आधार ई-कार्ड ही जारी किये जा रहे है। नया जन आधार कार्ड बनवाने हेतु जन आधार पोर्टल पर स्वयं अथवा ई-मित्र पर जाकर निःशुल्क नामांकन कराया जा सकता है। जन आधार कार्ड में संशोधन ई-मित्र पर निर्धारित शुल्क देकर करवा सकते है।

राष्ट्रीय बजरंग दल की कार्यकारिणी का किया विस्तार –

Expansion of executive of National Bajrang Dal –
सीकर | राष्ट्रीय बजरंग दल व अंतराष्ट्रीय हिन्दू परिषद की बैठक केशव संस्कार पब्लिक स्कूल बाजोर में  प्रान्त महामंत्री सीताराम कुमावत की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई।
हिन्दू नववर्ष व कार्यकारिणी विस्तार को लेकर हुई बैठक में हिंदू नववर्ष को सभी ग्राम स्तर पर ध्वज पताका,रंगोली सजाकर व शंखनाद के साथ स्वागत किया जाए व सभी को बधाई संदेश देकर मनाने की योजना बनाई गई।
विभाग सयोंजक महेंद्र रामसेवजीका, राजकुमार यादव रानोली की अनुसंसा पर जिला महामंत्री मुकेश केशव बाजोर ने जिला व तहसील कार्यकारिणी का विस्तार करते हुए दीपक चौहान बाजोर को सीकर तहसील अध्यक्ष व छात्रप्रमुख,लोकेश होदकास्या बगड़ियो की ढाणी,जसवंत सिंह शेखावत बाजोर को तहसील उपाध्यक्ष,रविन्द्र जेठीवाल बगड़ियो की ढाणी को तहसील संपर्क प्रमुख,लालचन्द हर्षनिया को मीडिया प्रभारी,विकास सारडीवाल रैवासा को दांतारामगढ़ तहसील संपर्क प्रमुख, अंतराष्ट्रीय हिन्दू परिषद सीकर में शंकरलाल किरोड़ीवाल रैवासा को दांतारामगढ़ तहसील उपाध्यक्ष,संदीप घोड़ेला को श्रीमाधोपुर तहसील महामंत्री का दायित्व दिया गया हैं।
इस दौरान   डॉ. दिनेश कुमावत इंडिया हेल्पलाइन प्रान्त अध्यक्ष (चैयरमैन- जेके हॉस्पिटल रानोली),राजेन्द्र कुमावत कोछोर, सुनील डागर श्रीमाधोपुर, निर्मल कुमावत,जगदीश बागोरिया, जयपाल कुमावत अनेक सैकड़ो कार्यकर्ता मौजूद रहे।

राजस्थान : अब दुपहिया वाहन की खरीद पर मिलेगा निःशुल्क हेलमेट – परिवहन मंत्री

परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास की पहल  – प्रदेश के सभी वाहन डीलर्स को दिये निर्देश  – मंत्री ने कहा, सड़क
सुरक्षा के लिए राज्य सरकार है प्रतिबद्ध
जयपुर, 8 अप्रेल। परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने दुपहिया वाहन खरीदने वालों को खुशखबरी दी है। राजस्थान में अब दुपहिया वाहन क्रेताओं को निःशुल्क एक हेलमेट मिलेगा। इसके लिए मंत्री  खाचरियावास ने जनहित के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। अब विभाग द्वारा प्रदेश के सभी वाहन डीलर्स को निर्देश जारी किये जा रहे है।
pratap singh khachriyawaas
 खाचरियावास ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राज्य सरकार सड़क सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। सड़क दुर्घटनाओं, उनमें घायलों और मृतकों की संख्या में कमी लाना विभाग की सर्वोच्च प्राथमिकता है।
उन्होंने बताया कि निम्न आय वर्ग, युवाओं, विद्यार्थियों आदि की सुरक्षा की दृष्टि से जनहित में दुपहिया यान की बिक्री के साथ एक हेलमेट उपलब्ध कराये जाने के लिए सभी डीलर्स को निर्देशित किया जा रहा है।
मंत्री ने बताया कि समस्त डीलर्स को एक अप्रेल 2020 से यह निर्देश प्रदान किये जाने थे, लेकिन कोविड-19 महामारी के आने के कारण डीलर्स को हेलमेट उपलब्ध करवाये जाने के लिए निर्देश प्रदान नहीं किए जा सके थे।

 खाचरियावास ने बताया कि मुख्यमंत्री ने सड़क सुरक्षा के प्रति गंभीरता दिखाते हुए बजट 2021-22 की घोषणा में समर्पित सड़क सुरक्षा कोष में 100 करोड़ रूपये का प्रावधान किया है। वहीं, सड़क दुर्घटनाओं में घायलों की मदद करने वाले भले मददगारों को 5000 रूपये की प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की है। वाहन चालकों को भी यातायात नियमों की पालना करनी चाहिए।

कोविड 19 . संक्रमण में तेजी चिंताजनक एवं डराने वाली देर रात बैठक – मुख्यमंत्री ने दियें आदेश

संक्रमण में तेजी चिंताजनक एवं डराने वाली -मुख्यमंत्री
कोरोना गाइड लाइन की सख्ती से पालना कराएं
जयपुर, 6  अप्रेल। मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत ने कहा है कि राजस्थान मेें एक दिन में 2 हजार 429 कोरोना पाॅजिटिव केसेज का आना तथा पूरे देश में इस आंकड़े का एक लाख को पार कर जाना अत्यंत चिंताजनक है। प्रदेश में एक ही दिन में संक्रमित रोगियों की संख्या में 40 प्रतिशत की बढ़ोतरी के ये आंकड़े डरावने हैं। इनमें और भी बढ़ोतरी हो सकती है। उन्होंने चेताया कि कोरोना की दूसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए राज्य सरकार और अधिक कड़े कदम उठा सकती है और सभी लोगों को इसमें सहयोग करना पडे़गा।
 गहलोत सोमवार देर रात मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो काॅन्फ्रेंस के माध्यम से कोविड-19 के संक्रमण, नियंत्रण के लिए रणनीति बनाने तथा वैक्सीनेशन की स्थिति पर वरिष्ठ चिकित्सा विशेषज्ञों, संबंधित विभागों के उच्च अधिकारियों तथा जिला स्तर के अधिकारियों के साथ लगभग ढाई घंटे तक विस्तृत चर्चा कर रहे थे। इस महत्वपूर्ण बैठक को फेसबुक, यूट्यूब सहित विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से लाइव प्रसारित किया गया।
मुख्यमंत्री ने वीडियो काॅन्फ्रेंस के दौरान संभागीय आयुक्त, पुलिस कमिश्नर, जिला कलक्टर, पुलिस अधीक्षक, सीएमएचओ, मेडिकल काॅलेज प्रिंसिपल, जिला अस्पतालों के पीएमओ एवं अन्य अधिकारियों से संवाद किया। इस लाइव प्रसारण से 4 लाख से अधिक लोग जुड़े तथा करीब 30 हजार लोगों ने प्रतिक्रिया दी। उन्होंने आमजन से कोरोना संक्रमण की स्थिति के संदर्भ में हैल्पलाइन 181 तथा 0141-2922272 पर सुझाव एवं प्रतिक्रियाएं आमंत्रित की।
 गहलोत ने प्रदेश में सोमवार को एक ही दिन में 5.44 लाख लोगों को टीका लगाए जाने पर खुशी जाहिर करते हुए अभियान में जुटे चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं चिकित्सा कर्मियोें को बधाई दी। उन्होंने कहा कि राजस्थान की यह बड़ी उपलब्धि है, क्योंकि एक दिन में वैक्सीनेशन की यह देश के सभी राज्यों में सबसे बड़ी संख्या है। उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान की गति में हमें और तेजी लाना है। तभी हम कोरोना के प्रसार को नियंत्रित कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि वैक्सीन लगने के बाद भी मास्क पहनने सहित हैल्थ प्रोटोकाॅल के अन्य नियमों की पालना करना भी जरूरी है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि जल्द से जल्द और अधिक से अधिक संख्या में लोगों को टीका लगाकर प्रदेश को कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की भयावहता से बचाया जाए। इसके लिए उन्होंने बैठक में मौजूद सभी अधिकारियों, अन्य कार्मिकों तथा सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लाइव प्रसारण देख रहे आमजन विशेषकर युवाओं से अपील की कि वे स्वयं और अपने आस-पास मौजूद 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोविड वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करें।
 गहलोत ने प्रशासन एवं पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे कोरोना गाइड लाइन की पालना करवाने के लिए पूरी सख्ती बरतें। सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहनने तथा उचित दूरी के नियमों की अवहेलना करने पर जुर्माने के साथ-साथ प्रतिष्ठानों को 72 घण्टे तक सीज करने जैसे कदम उठाने में कोई कोताही नहीं बरती जाए। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमण के मुकाबले की भावना से काम करते हुए हमें सख्ती के साथ-साथ प्यार और समझाइश से जन अभियान की तर्ज पर हैल्थ प्रोटोकाॅल की पालना करवानी है।
मुख्यमंत्री ने राजस्थान के सभी निवासियों को स्वास्थ्य बीमा कवरेज का लाभ देने के लिए शुरू की गई मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना का अधिक से अधिक प्रचार कर लोगों को इससे जोड़ने की अपील की। उन्होंने अधिकारियों तथा आमजन से कहा कि वे गांवों एवं शहरों में चल रहे अभियान के दौरान अधिकाधिक परिवारों का मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करवाएं। पूरे प्रदेश में 1 मई मजदूर दिवस के दिन से लागू होने वाली योजना मंे 5 लाख रूपए तक के निशुल्क कैशलेस  उपचार की सुविधा मिलेगी। 
चिकित्सा राज्यमंत्री डाॅ. सुभाष गर्ग ने कहा कि संक्रमण की मारक क्षमता से बचने के लिए हमें ‘सावधानी हटी-दुर्घटना घटी‘ के मंत्र के अनुरूप पूरी तरह से सतर्क रह कर कोरोना से बचाव की गाइडलाइन का पालन करना और करवाना होगा। उन्होंने चिकित्सा विभाग के अधिकारियों से सैम्पलिंग तथा ट्रीटमेंट के लिए वर्तमान आवश्यकता से 10 गुना अधिक संसाधन की तैयारी रखें।
प्रमुख शासन सचिव गृह अभय कुमार ने बताया कि सार्वजनिक स्थानों पर कोरोना गाइड लाइन की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए सभी जिलों में ज्वाइंट एन्फोर्समेंट टीमों का गठन किया गया है, जिन्होंने कई जगहों पर गाइड लाइन का उल्लंघन करने वाले प्रतिष्ठानों पर जुर्माने अथवा सीज की कार्यवाही की है। अधिक पाॅजिटिव केसेज वाले क्षेत्रों को माइक्रो कंटेनमेंट जोन के रूप में चिन्हित किया गया है। इसी तरह से वेक्सीनेशन और कोविड प्रोटोकाॅल की पालना की समझाइश के लिए बीएलओ के नेतृत्व में लगभग 3 हजार टीमें बनाई गई हैं।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सचिव  सिद्धार्थ महाजन ने कोविड संक्रमण और टीकाकरण अभियान की वर्तमान स्थिति की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सैम्पलिंग को बढ़ाकर 50 हजार प्रतिदिन तक कर दिया गया है। राज्य में एक्टिव केसेज की संख्या 15 हजार से अधिक हो गई है। केसेज के दुगुना होने की दर 200 दिन से कम रह गई है। ऐसे में रूथलेस कंटेनमेंट की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि 60 बेड क्षमता वाले अस्पतालों मंे 25 प्रतिशत बेड कोविड रोगियों के लिए आरक्षित करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं।
बैठक में मुख्य सचिव  निरंजन आर्य, पुलिस महानिदेशक  एमएल लाठर, प्रमुख सचिव वित्त  अखिल अरोरा, चिकित्सा शिक्षा सचिव  वैभव गालरिया, स्वायत्त शासन सचिव  भवानी सिंह देथा, सूचना एवं जनसंपर्क आयुक्त  महेन्द्र सोनी, राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ. राजा बाबू पंवार, एसएमएस मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुधीर भण्डारी, वरिष्ठ चिकित्सा विशेषज्ञ श्री वीरेन्द्र सिंह सहित अन्य वरिष्ठ चिकित्सा विशेषज्ञ एवं उच्च अधिकारी उपस्थित थे।

कोविड 19 दूसरी लहर : प्रशासन 15 दिन उठायेगा सख्त कदम – मुख्यमंत्री ने दियें आदेश

कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा 
कोविड-19 के संक्रमण की दूसरी लहर को रोकने के लिए 15 दिन के लिए सख्त कदम उठाएगी राज्य सरकारः
मुख्यमंत्री प्रदेशवासियों को प्रोटोकॉल की पालना में सहयोग करना होगा
जयपुर, 4  अप्रेल। राज्य सरकार ने प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण की गंभीर स्थिति को नियंत्रित करने के लिए आगामी 15 दिन के लिए सख्त कदम उठाने का निर्णय लिया है। इस विषय में विस्तृत दिशा-निर्देश गृह विभाग द्वारा एक-दो दिन में जारी किए जाएंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि कोविड-19 की दूसरी लहर से लोगों के जीवन की रक्षा करने के ध्येय की प्राप्ति के लिए राज्य सरकार संक्रमण को अधिक फैलने से रोकने के लिए हरसंभव कड़ा कदम उठाएगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आमजन के संक्रमण के प्रति लापरवाह हो जाने के कारण ही कोविड-19 की दूसरी लहर तेज गति के साथ आई है। यदि हम सब मास्क पहनने, उचित दूरी और बार-बार हाथ धोने के हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना अनिवार्य रूप से नहीं करेंगे, तो कोरोना वायरस का संक्रमण भयावह रूप ले लेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना के खिलाफ जंग को प्रभावी तरीके से लड़ने के लिए राजस्थानवासियों को राज्य सरकार का सहयोग करना होगा। साथ ही, उन्हें टीकाकरण के लिए भी आगे आना चाहिए।
 गहलोत शनिवार को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से कोविड-19 के सक्रंमण तथा वैक्सीनेशन की स्थिति की उच्च अधिकारियों और विशेषज्ञ डॉक्टरों के साथ समीक्षा कर रहे थे। लगभग 2 घण्टे तक चली इस बैठक को फेसबुक, यूट्यूब तथा अन्य सोशल मीडिया चैनलों पर लाइव प्रसारित किया गया। कोरोना प्रबंधन के लिए भावी रणनीति तैयार करने के उद्देश्य से आयोजित इस प्रसारण को करीब 2 लाख लोगों ने देखा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान में संक्रमण की गंभीरता इस आंकडे से समझी जा सकती है कि कुछ सप्ताह पहले प्रदेश में सक्रंमण के दोगुने होने की दर (डब्लिंग रेट) लगभग 8 साल थी, जो वर्तमान में 243 दिन पर आ गई है। उन्होंने कहा कि इस भयावह स्थिति को विस्फोटक होने से रोकने के लिए राज्य सरकार पूरी सख्ती बरतते हुए लोगों से हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना करवाएगी। उन्होंने कहा कि लोगों को विषय की गंभीरता मालूम हो और वे अपने व्यवहार में बदलाव लाएं, इसलिए बैठक का लाइव प्रसारण किया गया।
 गहलोत ने प्रशासन, पुलिस तथा स्वायत्त शासन के अधिकारियों को निर्देश दिए  कि वे पूर्व में जारी की गए दिशा-निर्देशों के अनुपालना करते हुए बाजारों में मास्क तथा उचित दूरी के नियम की पालना नहीं होने पर संबंधित दुकान अथवा व्यावसायिक प्रतिष्ठान को 72 घंटे के लिए सील करने की सख्त कार्यवाही करें।
मुख्यमंत्री ने कोविड टीकाकरण की गति को भी बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हर प्रदेशवासी को 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों का टीकाकरण करवाने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए और एक-दूसरे को इसके लिए प्रेरित करना चाहिए। टीकाकरण की शुरूआत से ही राजस्थान इस अभियान में देश का अग्रणी राज्य रहा है। चिकित्सा विभाग ने इसके लिए पूरी तैयारी कर रखी है कि टीके के लिए पात्र हर व्यक्ति को कोविड टीका लगाया जाए, ताकि कोरोना का संक्रमण होने पर भी शरीर पर इसके दुष्प्रभावों को कम किया जा सके।
चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी आमजन से अपील की कि वे संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी हैल्थ प्रोटोकॉल की अक्षरशः पालना करें। उन्होंने लोगों को घर से कम से कम बाहर निकलने तथा उन स्थानों की यात्रा करने से बचने का सुझाव दिया, जहां कोरोना संक्रमितों की संख्या अधिक है। उन्होंने कहा कि यदि आने वाले कुछ दिनों में स्थिति नियंत्रित नहीं हुई, तो वायरस के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए सरकार को और अधिक कदम उठाने पड़ेंगे। उन्होंने कहा कि सभी को यह बात समझनी चाहिए कि आंकड़ों की दृष्टि से दूसरी लहर के दौरान माहमारी की तस्वीर अधिक भयावह है।
चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने होटल, रेस्टोरेन्ट तथा बाजारों में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए अधिक सख्ती करने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि हर एक व्यक्ति का यह कर्तव्य है कि वह अपने आस-पड़ोस में हैल्थ गाइडलाइन की पालना सुनिश्चित करवाए।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सचिव सिद्धार्थ महाजन ने अपने प्रस्तुतीकरण में बताया कि संक्रमितों की संख्या का सटीक आकलन करने के उद्देश्य से प्रदेश में सैम्पल की संख्या 38 हजार प्रतिदिन तक बढ़ा दी गई है, जो 15 दिन पहले के मुकाबले दोगुनी है। उन्होंने कहा कि आने वाले एक सप्ताह में रोजाना 45 हजार सैम्पल टेस्ट किए जाएंगे। साथ ही, पूरे प्रदेश में टेस्टिंग की क्षमता 70 हजार से बढ़ाकर 1 लाख प्रतिदिन की जाएगी। उन्होंने बताया कि कोविड टीकाकरण की गति को भी बढ़ाया जा रहा है। प्रदेश में टीकाकरण के लिए पात्र लगभग एक तिहाई जनसंख्या को टीका लगाया जा चुका है।
बैठक में मुख्य सचिव  निरंजन आर्य, पुलिस महानिदेशक  एमएल लाठर, प्रमुख शासन सचिव गृह  अभय कुमार, प्रमुख सचिव वित्त श्री अखिल अरोरा, चिकित्सा शिक्षा सचिव  वैभव गालरिया, स्वायत्त शासन सचिव  भवानी सिंह देथा, राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. राजा बाबू पंवार, एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भण्डारी, वरिष्ठ चिकित्सा विशेषज्ञ श्री वीरेन्द्र सिंह सहित एसएमएस मेडिकल कॉलेज के अन्य वरिष्ठ विशेषज्ञ, सूचना एवं जनसंपर्क आयुक्त  महेन्द्र सोनी तथा अन्य उच्च अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना  , विशेष पंजीयन शिविर 10 अप्रेल तक

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना 
 
विशेष पंजीयन शिविर 10 अप्रेल तक, उसके बाद  30 अप्रेल तक लाभार्थी करा पाएंगे रजिस्ट्रेशन
जयपुर, 4 अप्रैल। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत 10 अप्रैल तक प्रदेश की ग्राम पंचायतों और शहरी क्षेत्रों में लग रहे विशेष पंजीयन शिविरों में  रजिस्ट्रेशन का कार्य जारी है।  जिला स्तर पर जिला कलक्टर और ब्लॉक स्तर पर उपखण्ड अधिकारी के नेतृत्व में शिविर में व्यवस्थाओं का संचालन किया जा रहा है। योजना से सम्बंध किसी भी जानकारी के लिए टोल फ्री नबंर 1800 180 6127 पर भी सम्पर्क किया जा सकता है।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि 10 अप्रेल तक इन विशेष पंजीयन शिविर में रजिस्ट्रेशन का कार्य चल रहा है। उसके बाद भी लाभार्थी स्वयं ऑनलाइन अथवा ई-मित्र केन्द्र के माध्यम से 30 अप्रेल 2021 तक अपना रजिस्ट्रेशन योजना में करा सकता है। 1 मई 2021 से प्रदेश में योजना लागू हो जाएगी।
डॉ शर्मा ने बताया  कि योजना में रजिस्ट्रेशन होने के बाद 1 मई से लाभार्थी प्रदेश के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, जिला अस्पताल, सेटेलाइट अस्पताल, मेडिकल कॉलेज अस्पताल, भारत सरकार के प्रदेश में स्थित अस्पताल जैसे एम्स और रेलवे अस्पतालो के साथ-साथ योजना से जुड़े सभी निजी अस्पतालों में भी स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा। इन सभी अस्पतालों में भर्ती होने पर लाभार्थी परिवार को प्रतिवर्ष 5 लाख रूपये तक का निःशुल्क इलाज मिल पायेगा जिसमें जांच, दवाइयां, उपचार सभी शामिल होगा।
मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा और जांच योजना से मरीजो को वर्तमान में ओपीडी सेवाओ में निःशुल्क चिकित्सा का लाभ मिल रहा है। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से प्रदेश के सभी निवासी अब चिकित्सा के  ऊपर लगने वाले बड़े खर्चो से मुक्त हो पाएंगे।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरुणा राजोरिया ने बताया कि योजनांतर्गत पात्र परिवार योजना के साॅफ्टवेयर पर पंजीयन उपरांत संलग्न प्रारूप में ’पाॅलिसी दस्तावेज’ डाउनलोड कर प्राप्त कर सकता है जिसमें लाभार्थी परिवार के जनआधार एवं पाॅलिसी संबन्धित विवरण दर्ज होगा। योजना में अपने रजिस्ट्रेशन के लिये पंजीयन शिविर में लाभार्थी को अपना जनआधार कार्ड अथवा जनआधार रजिस्ट्रेशन के साथ आधार कार्ड को साथ लेकर जाना होगा। स्वास्थ्य बीमा योजना में पहले से लाभान्वित हो रहे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम और सामाजिक-आर्थिक जनगणना के पात्र परिवारों को पंजीयन कराने की आवश्यकता नही होगी।
संयुक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी काना राम ने बताया कि जिन लोगो का जनआधार कार्ड नही बना हुआ है, उन्हे पहले ई-मित्र पर जाकर अपना जनआधार कार्ड बनाना होगा। इसके लिये ई-मित्र द्वारा कोई शुल्क नही लिया जाता है। यह पूर्णतया निःशुल्क है।

राजस्थान विधानसभा उपचुनाव –  कांग्रेस भाजपा का समीकरण बिगाड़ रहें हैं हनुमान बेनीवाल 

राजस्थान विधानसभा उपचुनाव 20 21 
कांग्रेस भाजपा का समीकरण बिगाड़ रहीं हैं हनुमान बेनीवाल की पार्टी रालोपा – 
पवन देव 
जयपुर |  राजस्थान में विधानसभा के उपचुनाव हो रहें हैं यह चुनाव जहाँ कांग्रेस भाजपा के लियें बहुत ख़ास हैं वर्तमान कांग्रेस सरकार की सरकार गिराने के घटनाक्रम के बाद तो कांग्रेस में गुटबाज़ी सचिन पायलट , अशोक गहलोत के बीच रह रह आग के बाद दुआ उठ ही रहा हैं राजस्थान प्रभारी अजय माकन भी एक सूत्र का संदेश देने की कोशिश कर हैं लेकीन सच्चाई और कुछ ही हैं जो जग ज़ाहिर हैं सुजानगढ़ में मनोज मेघवाल की नामांकन रैली भी ही स्टेज बैनर से सचिन पायलट की फोटो गायब थी  और सभा से पहले उनकी फ़ोटो को स्टेज पर लगाया गया था आलम यह हैं कांग्रेस पार्टी की आपसी फुट का |
भाजपा की नैया  क्या वसुंधरा राजे के  बीना तट तक पहुँच पायेगीं  – दबी जुबा ही सही यह बात सत्य हैं राजस्थान में भाजपा में वसुंधरा राजे से बड़ा कोई चेहरा नहीं हैं उनकी राजनीति के तरीके से सब अवगत हैं उनके कार्यकाल में ही संघ की कसमें खाने वाले पूर्व मंत्री घनश्याम तिवाड़ी की तो यह स्थिति हो गई थी उन्होंने ने कांग्रेस पार्टी जॉइन कर ली थी ऐसे कई उदाहरण हैं जो राजस्थान में वसुंधरा राजे और कांग्रेस में अशोक गहलोत के शासन काल में अव्यस्थित हुयें हैं |
क्यों खास हैं हनुमान बेनीवालराजस्थान की राजनीति में अगर अंगद की तरह अगर कोई नेता स्थापित हुआ हैं तो वह हैं हनुमान बेनीवाल 
बेनीवाल अपने छात्रसंघ जीवन से ही राजनीति में सक्रिय रहें हैं और आज भी उनका काम करने का तरीका युवा नेता जैसा ही हैं इसलिए युवाओं में उनकी पकड़ मजबूत हैं और वह मंजे हुयें राजनेता की तरह राजस्थान में जमें हैं आज वह भाजपा से समर्थन से सांसद हैं और अभी उनकी पार्टी रालोपा के आज तीन विधायक हैं
hanuman beniwal
जाट और दलितों को साधने की कोशिश – सूत्रों की मानें तो बेनीवाल इस वक्त पश्चिमी राजस्थान में जाट वोटो के साथ दलितों को साधने की कोशिश कर रहें हैं यह कड़ी थोड़ी मुश्किल हैं क्योंकि पश्चिमी राजस्थान में जाटों द्वारा दलितों पर ज्यादा अत्याचार    मारपीट की घटनाएं सामने आती हैं अगर बेनीवाल जाट और दलितों को साधने में कामयाब हो जाते हैं तो यह समीकरण भजपा और कांग्रेस दोनों के लियें ही मुश्किल रहने वाला हैं |
सुजानगढ़ में क्या हैं जातीय समीकरण –
रालोपा पार्टी के जयपुर जिला प्रवक्ता राजेश बुनकर ने कहा हैं हमारी पार्टी हमारें राष्टीय नेता सांसद हनुमान बेनीवाल जी के  नेतृत्व में राजस्थान की तीनों सीटों पर मजबूती से जनसंपर्क कर रही हैं हमारे सभी नेता – कार्यकता यहाँ जनता के बीच हैं और हम क्षेत्र में पहले भी काम कर रहें थे इसलियें जनता हम पर विश्वास कर रही हैं और हम तीनों सीटों पर विजय हासिल कर रहें हैं |